Advertisement

header ads

Hindi Nibandh | हिंदी निबन्ध

hindi nibandh ke lekhak,
hindi nibandh ke lekhak


                                                    हिंदी निबन्ध


हिंदी की अन्य गद्य विधाओं के समान हिंदी निबंध का विकास भी भारतेंदु युग से प्रारंभ हुआ। इस काल में भारतीय समाज में एक नई चेतना का विकास हो रहा था। इस समय तक हिंदी की अनेक पत्र-पत्रिकाएं  प्रकाशित होने लगी थी, जिनमें हरिश्चंद्र चंद्रिकाउदंत मार्तंड, ब्राह्मण, प्रदीप, बनारस अखबार, सार-सुधा निधि आदि महत्वपूर्ण थी। इन समाचारपत्रों एवं पत्रिकाओं में विविध विषयों पर जो विचार व्यक्त किए जाते थे, उन्हें ही हिंदी निबंध का प्रारंभिक रूप कहा जा सकता है। लेखकों ने सामाजिक, राजनीतिक, धार्मिक, सामयिक विषय पर प्रायः निबंध के माध्यम से प्रकाश डालते रहते थे। स्पष्ट रूप से यह स्वीकार किया जाना चाहिए कि हिंदी के प्रारंभिक निबंध पत्रकारिता से जुड़े हुए थे। 

निबन्धों के प्रकार

    निबन्धों को पांच प्रकारों में बांटा गया है-
1.
विचारात्मक निबन्ध-  इस प्रकार के निबन्धों में बुद्धि की प्रधानता होती है और 
    विचारसूत्रों की प्रमुखता रहती है। गम्भीर विषयों पर चिन्तन मनन करके लिखे 
    गए निबन्ध विचारात्मक निबन्ध होते हैं। हिन्दी में इस प्रकार के निबन्ध लेखक हैं
    आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदीबाबू श्यामसुंदर दासआचार्य रामचंद्र शुक्ल
    आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदीडॉ. नगेन्द्र आदि। 

2. भावात्मक निबन्ध-   इस निबन्ध में भाव पक्ष अर्थात हृदय पक्ष की प्रधानता
    होती है। इस प्रकार के निबन्ध लेखक की संवेदनशीलता को व्यक्त करते हैं।
    हिन्दी निबन्धकारों में भारतेन्दु बाबू हरिश्चंद्र, पद्मसिंह शर्माप्रताप नारायण 
    मिश्र, अध्यापक पूर्णसिंह, गुलेरी जीरायकृष्ण दास आदि इसी प्रकार के 
    निबन्धकार है। 

3. वर्णनात्मक निबन्ध-  इस प्रकार के निबन्धों में किसी घटना, तथ्य, दृश्य,
    वस्तु, स्थान आदि का क्रमबद्ध वर्णन होता है। इसमें बौद्धिकता एवं भावुकता 
    का सामंजस्य रहता है। इस प्रकार के निबन्ध लिखने वाले निबन्धकार बालकृष्ण
    भट्ट, बाबू गुलाब राय, कन्हैया लाल प्रभाकर और रामवृक्ष बेनीपुरी है। 

4.
विवरणात्मक निबन्ध-  इन निबन्धों में ऐतिहासिक, सामाजिक, पौराणिक
    घटनाओं का विवरण होता है। तथा उनमें कल्पना का भी समावेश होता है।
    वर्णन का सम्बन्ध वर्तमान से और विवरण का सम्बन्ध भूतकाल से होता है।
    हिन्दी के निबन्धकार भारतेंदु हरिश्चंद्र, बालकृष्ण भट्ट, प्रताप नारायण मिश्र,
    शिवपूजन सहाय आदि ने विवरणात्मक निबन्ध लिखे हैं। 

5. आत्मपरक निबंध-  इस प्रकार के निबंधों में लेखक के व्यक्तित्व की छाप
    दिखाई देती है। वर्तमान युग में लिखे जाने वाले ललित निबंध भी आत्मपरक
    निबंधों की कोटि में आते हैं। इस प्रकार के निबंध लिखने वाले निबंधकार
    हजारीप्रसाद द्विवेदी, डॉ. विद्यानिवास मिश्र, कुबेरनाथ राय आदि हिन्दी के
    प्रमुख ललित निबंधकार हैं।

                     
भारतेन्दु युग के निबंधकारों ने कई विषयों पर निबंधों की रचना की हैं। हिंदी निबंध के विकास को चार कालों में बांटा गया है:-
        

        1. भारतेन्दु युग ( 1873 . - 1900 .)
         
        2.  द्विवेदी युग   (1921 . -1920 .)
        
        3.  शुक्ल युग    (1920 . - 1940 .) 
        
        4.  शुक्लोत्तर युग  (1940 . के उपरांत)



                                             भारतेंदु युग
   
   
     निबंधकार                                                       निबंध
    
      भारतेंदु                              अंग्रेज स्त्रोत, पांचवें पैगम्बर, संगीत सार
                                             
स्वर्ग में विचार सभा का अधिवेशन,मणिकर्णिका, 
                                             लेवी प्राण लेवी, भ्रूणहत्या, काशीतदीय सर्वस्व, 
                                             अंग्रेजों से हिंदुस्तानियों का जी क्यों नहीं मिलता
                                             
रामायण का समयएक अद्भुत अपूर्व स्वप्न,
                                             काश्मीर कुसुम, बादशाह दर्पण, उदयपुरोदम
                                             
वैष्णवता और भारत वर्ष, जातीय संगीत
                                             
अथ अंग्रेज स्त्रोत लिख्यते, नाटक हिंदी भाषा
                                             
भारत वर्ष की उन्नति कैसे हो सकती हैं, सूर्योदय,
                                             
नाटकों का इतिहास, वैद्यनाथ की यात्रा
                
  
     प्रताप नारायण मिश्र              धोखा, वृद्ध, खुशामद, परीक्षाभौंपेटदांत 
                                             
मनोयोग, समझदार की मौतनाक,नारी,                                                     मृच्छ, बालक
    
     बालकृष्ण भट्ट                      स्त्रियां और उनकी शिक्षा, बाल विवाहचन्द्रोदय
                                             
राजा और प्रजा, अंग्रेजी शिक्षा और प्रकाश,
                                             
हमारे नये सुशिक्षितों में परिवर्तनमुग्ध माधुरी,
                                             
देश सेवा महत्व, महिला स्वातंत्र्यचली सो चली,
                                             
ईश्वर भी क्या ठठोल हैनए तरह का जू खटका,
                                             
देवताओं से हमारी बातचीत  
                     
 
     बद्रीनारायण चौधरी प्रेमघन      नेशनल कांग्रेस की दुर्दशा गवर्नमेंट की कड़ाई,
                                                  भारतीय पूजा के दुख की दुहाई और ढिठाई,
                                         

     
बालमुकुंद गुप्त                       शिवशंभू का चिट्ठा
  
     राधाचरण गोस्वामी                 यमपुर की यात्रा
  
     लाला श्रीनिवासदास                भरतखंड की समृद्धि, सदाचरण
  
     मोहनलाल विष्णुलाल पंड्या    बंधुत्व किसे कहते हैंखुशामद,
                                                  
हम लोग की वृद्धि किस रीति से होगी,
                          

      
बालकृष्ण भट्ट                        संसार महानाट्यशालाप्रेम के बाग का सैलानी, 
                                                  साहित्य जनसमूह के हृदय का विकास है
                                                  
साहित्य का सभ्यता से घनिष्ठ संबंधित है,
                                              माता का आंसू 


  

                                                द्विवेदी युग 
     

      निबंधकार                                                          निबंध
   
      महावीर प्रसाद द्विवेदी           भाषा और व्याकरण, नेपालनाट्य शास्त्र
                                             
कवि और कविता, उपन्यास रहस्यलेखांजलि
                                             
कवि बनने के लिए सापेक्ष साधन , रसज्ञ रंजन
                                             
आगर की शाही इमारतें, आत्मनिवेदन
                                             
म्युनिसिपैलिटी के कारनामे, प्रभात,संपत्तिशास्त्र 
                                             
सुतापराधे जनकस्य दण्ड:,बेकन विचार रत्नावली,
                                             
क्या हिंदी नाम की कोई भाषा ही नहीं
                                             कालिदास के समय का भारत
                                             
दंडदेव का आत्मनिवेदन
                           

  
अध्यापक पूर्ण सिंह                आचरण की सभ्यता, पवित्रतानयनों की गंगा,
                                             
मजदूरी और प्रेम, सच्ची वीरता, ब्रहमकांति
                                           
अमेरिका का मस्ताना जोगी वाल्ट ह्विटमैन 
                                             कन्यादान
     
    चंद्रधर शर्मा गुलेरी                 काशी, जय यमुना मैयाजीगोबर गणेश संहिता
                                             
कछुआधर्म, मारेसि मोहि कुठांव
                                 
   
    माधव प्रसाद मिश्र                  रामलीला, परीक्षा, क्षमा, धृति, सत्य
    
    बालमुकुंद गुप्त                     खत और चिट्ठे
   
    गोविंद नारायण मिश्र              विभक्ति विचार, प्राकृत विचार
                                                  कवि और चित्रकार
   

   
जगन्नाथ प्रसाद चतुर्वेदी            की बहार, पिक्चर पूजाअनुप्रास का अन्वेषण
                                      
    बाबू श्याम सुंदर दास            भारतीय साहित्य की विशेषताएं,
                                            कर्तव्य और सभ्यतासमाज और साहित्य
            

   
पंडित पद्म सिंह शर्मा            पह्मपराग, प्रबंध मंजरी



                                           शुक्ल युग
   

      निबंधकार                                                   निबंध
  
   आचार्य रामचंद्र शुक्ल           चिंतामणि, श्रद्धा भक्ति, लज्जा और ग्लानिकरुणा
                                               उत्साहकविता क्या हैकाव्य में अभिव्यंजनावाद
                                               साधारणीकण और व्यक्ति वैचित्र्यवाद,
                                          काव्य में रहस्यवाद, ईष्या, लोभ और प्रीति
                                          काव्य में लोकमंगल की साधनावस्थाघृणा  
                                          सात्मक बोध के विविध रूपभारतेंदु हरिश्चंद्र,
                                          तुलसी का भक्ति मार्गमानस की धर्मभूमि, 
                                                                           
  
बाबू गुलाब राय                  मेरी निबंध, मेरी असफलताएं मनोवैज्ञानिक निबंध,
                                         
फिर निराश क्यों, ठलुआ क्लबप्रबंध प्रभाकर,
                                         
मन की बातें, कुछ उथले कुछ गहरेराष्ट्रीयता
                                         
अध्ययन और आस्वाद जीवनरशिमयां
                                     
                                    
 
पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी    अतीत स्मृति, उत्सव,पंचपात्ररामलाल पंडित,
                                 
        श्रद्धांजलि के दो फूल 
  
   शांतिप्रिय द्विवेदी                 कवि और काव्य, साहित्यिकीयुग और साहित्य
                                          
वृत्त और विकास, आधानसंचारिणीप्रतिष्ठान,
                                          
सामयिकी, साकल्य, धरातल
                                   
  
  
वासुदेवशरण अग्रवाल         पृथ्वी पुत्र
   
   वियोगी हरि                       तरंगिणी, अंतरनाद, पगलीठंडे छींटे,मेरी हिमकार
                                       
   शिवपूजन सहाय                 कुछ
   
    रघुवीर सिंह                      शेष स्मृतियाँ
   
   जयशंकर प्रसाद                 काव्य और कला तथा अन्य निबंध
   
   महादेवी वर्मा                     क्षणदा, संकल्पिता, काव्यकलायुग की समस्या
                                         
भारतीय संस्कृति के स्वर, छायावाद,जीने की कला, 
                                         श्रृंखला की कड़ियां, विवेचनात्मक गद्य
                                         
साहित्यकार की आस्था तथा अन्य निबंध
                                         
रहस्यवाद, यथार्थ और आदर्श, युद्ध और नारी,
                       
                 नारीत्व का अभिशाप, आधुनिक नारी,
                       
                 स्त्री के अर्थ स्वातन्त्र्य का प्रश्नहमारे वैज्ञानिक,
                                         
समाज और व्यक्तिसाहित्य और साहित्यकार 
                                         संस्कृति का प्रश्न, हमारा देश और राष्ट्रभाषा
                                         
   राहुल सांकृत्यायन              साहित्य निबंधावली 
   
   निराला                             प्रबंध प्रतिमा, प्रबंध पदम, चाबुक



                                        शुक्लोत्तर युग
  

       निबंधकार                                                   निबंध

  आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी    अशोक के फूल, काव्यकलाहिंदी भक्ति साहित्य,
                                           
विचारों प्रवाह,विचार और वितर्कबसंत  गया,
                                           
कुटज, कल्पलता, अशोक के फूलअवतारवाद,
                                           
शिरीष के फूल, सहचर, साहित्य,
                                           
भारतीय संस्कृति की देन, आलोकपर्व,
                                           
कविता का भविष्य, नई समस्याएँ,
                                           
आम फिर बौरा गएधर्म साधना का साहित्य,
                            
              हमारी संस्कृति और साहित्य का संबंध
 
  नंददुलारे वाजपेयी                 जयशंकर प्रसाद, आधुनिक साहित्य,
                                           
नए साहित्य नए प्रश्नप्रश्न
   
  रामधारी सिंह दिनकर           अर्धनारीश्वररेती के फूलआधुनिकता बोध,
                                          हमारी संस्कृति एकता, प्रसादमिट्टी की ओर
                                          
पंत और मैथिलीशरणवेणुवनउजली आग, 
                                          साहित्य मुखीराष्ट्रभाषा और राष्ट्रीय साहित्य,
                                         
धर्म नैतिकता और विज्ञानवटपीपल
                                

 
वासुदेवशरण अग्रवाल          मातृभूमि, कला और संस्कृतिवेद विद्या,
                                         पृथ्वी पुत्र,  वाग्धारा
   
   डॉ. नगेंद्र                          विचार और विवेचन, पुनर्वाक्आस्था के चरण,

                                         विचार और अनुभूति, विचारों विश्लेषण,
                                         हिंदी उपन्यास,ब्रजभाषा का गद्य,साहित्य की झांकी, 
                                         आधुनिक हिंदी काव्य के आलोचककला,
                                         
स्वतंत्रता के पश्चात हिंदी आलोचना,
                                         
राष्ट्रीय संकट और साहित्यआलोचना की आस्था,
                                             अनुसंधान और आलोचनाकल्पना और साहित्य
                          
 
  रामविलास शर्मा                 प्रगति और परंपरा, लक्ष्मी पूजाआस्था और सौंदर्य,
                                        
प्रगतिशील साहित्यभाषा युगबोध और कविता,
                                        
भाषा साहित्य और संस्कृतिपरंपरा का मूल्यांकन, 
                                        प्रगतिशील साहित्य की समस्याएं,
                                        
लोक जीवन और साहित्यसाहित्य और संस्कृति, 
                                        स्वाधीनता और राष्ट्रीय साहित्य,
                                       
 विराम चिन्ह,  कथा विवेचन और गद्य शिल्प,
                                       
साहित्य स्थायी मूल्य और मूल्यांकन
                              

  डॉ. संपूर्णानंद                   शिक्षा का उद्देश्य, समाजवादआर्यों का आदि देश
                                       
अधूरी क्रांति भारत के देशी में राज्य
                                    

  
जैनेंद्र कुमार                    भाग्य और पुरुषार्थ, ये और वे, पूर्वोदयपरिप्रेक्ष्य,
                                       
साहित्य का श्रेय और प्रेय, प्रस्तुत प्रश्नसमय और हम,
                                       
मंथन, सोच विचार, राष्ट्र और राज्य,
                                       
काम प्रेम और परिवारइतस्तत :
                           
 
 
विद्यानिवास मिश्र              आम्र मंजरी, हिंदू धर्म और संस्कृतिशिरीष का आग्रह
                                      
आंगन का पक्षी, ये विपथगाएंविश्वविद्यालय और न्यायालय
                                      
नरनारायणहिंदी का विभाजनसादृश्य विधान,
                                      
मैंने सिल पहुंचाई, विवाह धूमप्रलय की छाया हल्दी,
            
                          नई पीढ़ी की बेचैनी- भारतीय संदर्भगाँव का मन,
                                      
रीति विज्ञानपरिधि और प्रयोजनअंगद की नियति,
                                      
काव्य भाषा और काव्येतर भाषानिज मुख मुकुर,
                                      
वेलूर की कलात्मकता मलय के अंचल मेंसंचारिणी,
                        
              दूब, कदम की फूली डाल, तुम चंदन हम पानी,
                         
            आंगन का पंछी और बंजारा मनपरम्परा बंधन नहीं,
                                      
बसंत गया पर कोई उत्कंठा नहीं लागो रंग हरी,
                                      
मेरे राम का मुकुट भींग रहा हैशिरीष की याद आयी,
                         
            जीवन अलभ्य हैंजीवन सौभाग्य हैं छितवन की छांह,
                                     
कंटीले तारों के आर-पारतमाल के झरोखे से,
                                          कौन तू फुलवा कौन तू फुलवा बीननिहारि,  
                                     अस्मिता के लिएअंगद की नियति
                            
कुबेरनाथ राय                 रस आखेटक, वेणु-कीचकचंद्रमधु , त्रेता का वृहत मास,
                                   
राघव: करुणो रस:, वाण भूमिमन पवन की नौका
                                   
विकल चैत्ररथी, किरण सप्तपदीकिरात नदी में, कामधेनु,
                                    
मणि पुतुल के नामदृष्टि अभिसारमहाकवि की तर्जनी,
 
                                  
अन्नपूर्णा, मोह-मुद्गर, रसोपनिषद्, कजरी वन में राजहंस,
                                  
हरी- हरी दूब और लाचार क्रोधनिषाद बांसुरीपर्ण मुकुट,
                                  
आधुनिकता-नई और पुरानीप्रिया नीलकण्ठीगंधमादन,
                                  
शिशु वेद, यक्ष प्रश्न, जम्बुककवि तेरा मोर आ  गया
                                  
दृष्टि अभिषेक, वन पर्वसिंह द्वार का कवि प्रेतविषाद योग,
                                  
                 
हरिशंकर परसाई            इंटरव्यू मुफतलाल का होनातुलसीदास चंदन घिसे,
                                   
डिप्टी कलक्टर, सदाचार का ताबीजभूत के पांव पीछे,
                                   
विकलांग श्रद्धा का दौर, निन्दा रसतब की बात और थी,
                                   
वैष्णव की फिसलन, बेईमानी की परतसुनो भाई साधो ,
                                   
पगडंडियों का जमाना, जैसे उनके दिन फिरे
                                   शिकायत मुझे भी है, हंसते हैं रोते हैंकहत कबीर,
                                   
ठिठुरता हुआ गणतंत्र,अपनी अपनी बीमारी,

पांडेय बेचन शर्मा 'उग्र'     बुढ़ापागाली निबंध

अज्ञेय                           त्रिशंकुआत्मनेपदअद्यतनछाया का जंगल
                                   
युग संधियों परधार और किनारे कहाँ हैं द्वारका, 
                                  
हिन्दी साहित्य आलवालभवन्ति जोग लिखी,
                                   
लिखि कागद कोरेआलबाल स्त्रोत और सेतु , 
                                   सबरंग और कुछ रागसंवत्सरस्मृति छंदा

रामवृक्ष बेनीपुरी              गेहूँ और गुलाब, वंदे वाणी विनायकौ
                             

देवेन्द्र सत्यार्थी                धरती गाती हैरेखाएं बोल उठीं
                                   
एक युग - एक प्रतीक
  

बनारसीदास चतुर्वेदी        साहित्य और जीवनहमारे आराध्य
  

कन्हैयालाल मिश्र             बाजे पायलिया के घुंघरूअनुशासन की राहों में,
प्रभाकर                         जिंदगी मुस्कराई ,जिंदगी लहलहाई
                                   महके आंगन चहके द्वारक्षण बोले कण मुसकाए,
                                   
दीप जले शंख बजेनई पीढ़ी नये विचार
                                   
माटी हो गई सोना जिये तो ऐसे जिए


धर्मवीर भारती               ठेले पर हिमालयकहनीअनकहनी,

                                  पश्यंतीमानव मूल्य और साहित्य
                                  शब्दिताकुछ चेहरे कुछ चिंतन          


विवेकी राय                   फिर वैतलवा डाल परजुलूस रुका है
                                  
किसानों का देशगाँवों की दुनियाँआम रास्ता नहीं हैं, 
                                  त्रिधारागंवईगंध गुलाबनया गांवनामा
                            

केदारनाथ अग्रवाल         समय-समय पर
  
लक्ष्मीचंद जैन                कागज की किशितयां

यशपाल                       न्याय का संघर्षबात बात में बात,
                                  जग का मुजरादेखा सोचा समझा
                                  
चक्कर क्लबगांधीवाद की शव परी
  
भदंत आनंद                 जो भूल  सकारेल का टिकट
कौसल्यायन भगवतशरण उपाध्याय    साहित्य और कालठूंठा आम
                                     
सांस्कृतिक निबंधइतिहास साक्षी है
 
धीरेंद्र वर्मा                      विचारधारा
  

हरिवंशराय बच्चन           नए पुराने झरोखे टूटी-छूटी कड़ियां


परशुराम चतुर्वेदी           मध्यकालीन श्रृंगारिक प्रवृत्तियाँमध्यकालीन प्रेम साधना
                                  
साहित्य पथभारतीय साहित्य की सांस्कृतिक रेखाएं

        
वियोगी हरि                  यों भी तो देखिए
  

सद्गुरुचरण अवस्थी      बुद्धितंरगविचारतरंगसाहित्य तरं

माखनलाल चतुर्वेदी        साहित्य देवताअमीर इरादे गरीब इरादे
                                     

इलाचंद्र जोशी               साहित्य सर्जनाविवेचनाविश्लेषण,
                                 
साहित्य चिंतन देखा परखा
  

डॉविनयमोहन शर्मा      दृष्टिकोणसाहित्यावलोकन, साहित्य शोध समीक्षा,
                                  
साहित्य नया और पुराना,

 इंद्रनाथ मदान             आलोचना और काव्य, कुछ उथले:कुछ गहरे,
                                  
निबंध और निबंध,
                                    

ठाकुर रामाधार सिंह      माटी का फूललहर पंथी
   

रघुवीर सिंह                 जीवनकणजीवन धूलिसत्यदीप,
                                 
बिखरे फूलशेष स्मृतियाँ
   

राजनाथ पांडेय             सुबहे बनारसशेष लकीरेंनया निर्माणनये संकल्प
                                     

भगीरथ मिश्र                साहित्य साधना और समाजअध्ययन,
                                 
कला साहित्य और समीक्षा
    

विजयेंद्र स्नातक            चिंतन के क्षणविचार के क्षण विमर्श के क्षण


अमृतलाल नागर           साहित्य और संस्कृति
    

रामरतन भटनागर        सामयिक जीवन और साहित्य
    

प्रभाकर माचवे             संतुलनखरगोश के सींग तरंग
    

डॉरघुवंश                  साहित्य का नया परिप्रेक्ष्य,आधुनिकता और सर्जनशीलता,
     

अमृत राय                   बतरस,आनंदकम्बाइस्कोपविजिट इडिंयारम्या
कृष्णदेव प्रसाद और      हुक्का पानी
'बेढब'

कांतानाथ पांडेय 'चोंच'    छड़ी बनाम सोंटा
   
मोहनलाल गुप्त              बनारसी रईस


गोपाल प्रसाद व्यास         मैंने कहाकुछ झूठ कुछ सचअनारी नर,
                                   उन्नीसवां पुराणतो क्या होताहलो हलो
 
बरसाने लाल चतुर्वेदी       बुरे फंसेटालू  मिक्सचरखबर अपनी और परायी की,
                                   
भोला पंडित की बैठक नेताओं की नुमाइशमुसीबत है,
                                   
नेता और अभिनेता कुल्हड़ में हुल्हड़अफवाह
                                   
मिस्टर चोखे लाल
                                    

केशवचंद्र वर्मा                मुर्गा छाप होरोताकि सनद रहे
                                   
अफलातूनों का शहरबृहन्नला का वक्तव्य
                                     

उपेंद्रनाथ अश्क              मंटोमेरा दुश्मन
   

सियारामशरण गुप्त          झूठ सच

शिवप्रसाद सिंह              शिखरों के सेतु , मानसी गंगा कस्तूरीमृग,
                                   
किस किस को नमन करूंचतुर्दिक
 
ठाकुर प्रसाद सिंह          पुराना घर नए लोग
   
रामदरश मिश्र               कितने बजे हैं
   

श्रीलाल शुक्ल               अंगद का पांवयहाँ से वहाँ
   

विष्णुकांत शास्त्री           कुछ चंदन की कुछ कपूर की,
                                  
चिंतनमुद्राअनुचिंतन
    

निर्मल वर्मा                   शब्द और स्मृति,कला का जोखिम,
                                  
ढलान से उतरते हुए
    

कृष्ण बिहारी मिश्र          बेहया का जंगलमकान उठ रहे हैं

रमेशचंद्र शाह               रचना के बदलेशैतान के बहानेसबद निरंतर,
                                 
आड़ के पेड़भूलने के विरुद्धसमानांतर,
                                 
पढ़ते-पढ़ते वागर्थ
                                 

रविंद्रनाथ त्यागी            खुली धूप में नाव परऋतु वर्णनइस देश के लोग
                                 
कृष्णवाहन की कथाशोक कथाफूलों वाली कैक्टस,
                                 
देवदारू के पेड़ ,अतिथि कक्ष , आत्मलेख
                                 
सुंदर कली,भद्रपुरुषपराजित पीढ़ी के लोग,
                                 
पदयात्रापराजित पीढ़ी के नाम



शरदजोशी                  जीप पर सवार झिल्लियाँ तिलस्मी दूसरी सतह
                                 
किसके बहानेरहा किनारे बैठ यथासंभव
                              

सुदर्शन मजीठिया        इंडिकेट बनाममुख्यमंत्री का डंडा,
                                
सिंडिकेटटेलीफोन की घंटी से डिस्को कल्चर
 

नरेंद्र कोहली               एक और लाल तिकोनत्रासदियांजगाने का अपराध,
                                
 परेशानियाँआधुनिक लड़की की पीड़ा
                                

          

Post a comment

0 Comments