Monday, 24 June 2019

Pooja

Shabd Shaktiya | शब्द शक्तियां

shabd shakti , shabd shakti ke prakar
shabd shakti



                                                   शब्द शक्तियां

                            
                                  शब्द शक्ति का अर्थ - शब्द के अर्थ को प्रकट करने की
        शक्ति। शब्दों के अर्थों का बोध कराने वाले व्यापार शब्द शक्ति कहलाते 
        हैं।
                                    " 
शब्दार्थ सम्बन्ध:  शक्ति:" 
        
        अर्थात शब्द और अर्थ के संबंध को शब्द शक्ति कहते हैं। शब्द शक्तियों 
        के द्वारा शब्द के अर्थ का बोध होता है। 
        
        शब्द शक्ति के भेद
        शब्द शक्ति तीन प्रकार की होती है - अभिधा,  लक्षणा और व्यंजना।  इन
        तीनों से संबंधित तीन प्रकार के शब्द और अर्थ होते हैं:-
                          शब्द शक्ति         शब्द             अर्थ 
                            अभिधा            वाचक         वाच्यार्थ
                            लक्षणा             लक्षक         लक्ष्यार्थ
                            व्यंजना            व्यंजक         व्यंग्यार्थ
       वाच्यार्थ को मुख्यार्थ या अभिधेयार्थ भी कहते हैं। 

 1. अभिधा शब्द शक्ति-  लोक प्रचलित सामान्य अर्थ का बोध कराने वाली शक्ति
      को अभिधा शब्द शक्ति कहते हैं। दूसरे शब्दों मेंशब्द को सुनकर या पढ़कर
     श्रोता या पाठक को उसका जो लोक प्रचलित अर्थ ज्ञात होता है उसे अभिधेयार्थ
     या वाच्यार्थ कहते हैं। जैसे'गधा' कहते ही चार सीगों वाले गधे जानवर का बोध 
     होता है।
 
     
     अभिधा शब्द शक्ति के भेद

      अभिधा शब्द शक्ति के तीन भेद है-
      रुढ़ि -  रुढ़ि वह अभिधा शक्ति है जिसमें शब्द की अखण्ड सत्ता के द्वारा वाच्यार्थ
      का बोध होता है। इन शब्दों के सार्थक टुकड़े नहीं किए जा सकते और जो परंपरा 
      से किसी विशेष अर्थ में रुढ़ होते चले  रहे हैं। जैसे-  रोटीगायटोपी आदि 
      योग -  योग अभिधा शब्द शक्ति का दूसरा भेद है। जिसमें अर्थ का बोध वाचक
      शब्द के अवयवों के योग से ग्रहण किया जाता है अर्थात इसमें शब्द दो या तीन 
      अवयवों से निर्मित होते हैं। जैसे-  विश्वविद्यालय ( विश्व + विद्यालय
      योगरुढ़ि-  अभिधा शब्द शक्ति के तीसरे भेद का नाम योगरुढ़ि  है। जैसे -  
      विश्वविद्यालय शब्द विश्व + विद्यालय के योग से निर्मित हैकिंतु इसका प्रयोग 
      अखंड इकाई के रूप में ही किया जाता है।


 2. लक्षणा शब्द शक्ति -  मुख्यार्थ में बाधा उपस्थित होने पर मुख्यार्थ से ही संबंधित
      जो अन्य अर्थ रुढ़ि अथवा प्रयोजन के आधार पर ग्रहण किया जाता है उसे 
      लक्ष्यार्थ कहते हैं। लक्ष्यार्थ का बोध कराने वाली शब्द शक्ति लक्षण शब्द शक्ति 
      कहलाती है जैसे-  मोहन गधा है। इस वाक्य में गधा शब्द का लक्ष्यार्थ हैमूर्ख 
      यह अर्थ इसलिए ग्रहण किया गया हैक्योंकि गधे का मुख्यार्थ ( जानवरयहां 
      बाधित हो रहा है। यह एक विशेष प्रयोजन के आधार पर ग्रहण किया गया है। 
    
     लक्षणा शब्द शक्ति के भेद     
       
      लक्षणा शब्द शक्ति के दो भेद है- 
   
      रुढ़ा लक्षणा-  जहां मुख्यार्थ में बाधा होने पर रुढ़ि कआधार पर लक्ष्यार्थ ग्रहण 
      किया जाता हैवह रुढ़ा लक्षणा होती है। जैसेपंजाब वीर हैइस वाक्य में
     पंजाब का लक्ष्यार्थ हैपंजाब के निवासी। 
  
      प्रयोजनवती लक्षणा -  मुख्यार्थ में बाधा होने पर किसी विशेष प्रयोजन के लिए
     जब लक्ष्यार्थ का बोध किया जाता हैवहां प्रयोजनवती लक्षणा होती है। 


3.  व्यंजना शब्द शक्ति अभिधा और लक्षणा के विराम ले लेने पर जो एक विशेष
      अर्थ ध्वनित होता हैउसे व्यंग्यार्थ कहते हैं। व्यग्यार्थ का बोध कराने वाली शब्द 
      शक्ति को व्यंजना कहते है। जैसे - उसका घर गंगा में है। यहां घर गंगा में नहीं हो
      सकताअतः अर्थ ग्रहण किया गया है कि घर गंगा के निकट है तथा इससे
     यह भी ध्वनित हो रहा है कि घर में गंगा जैसी पवित्रतानिर्मलता एवं
     शुद्धता है। यह ध्वनित होने वाला अर्थ ही व्यंग्यार्थ हैं।

   

                                                    मिथक
    
                                      मिथक शब्द अंग्रेजी के 'मिथऔर ग्रीक शब्द 'माइथोस'
      शब्द पर आधारित है। 'मिथका प्रयोग कल्पित कथा या पौराणिक कथा के 
       लिए किया जाता है।अरस्तु ने अपने ग्रंथ पोलटिक्स में मिथक शब्द का प्रयोग 
       मनगढ़ंत कथा के लिए किया है। मिथक को साहित्य की एक महत्वपूर्ण
       टेकनीक माना गया है जिसके माध्यम सेअचेतन को प्रकाश में लाया जाता है,तथा 
       अनुभूति को प्रत्यक्ष करने में सहायता मिलती है। मिथक के माध्यम से इतिहास 
        से जुड़ने की कलात्मक क्षमता भी काव्य में आती है। प्रसाद की  'कामायनी', 
       धर्मवीर भारती का 'अन्धा युग',  नरेश मेहता की 'संशय की एक रातमिथक 
       पर आधारित कृतियां है जिनमें आधुनिक भाव बोध को अभिव्यक्त किया गया
        है।  डॉ.एस.एसगुप्त के अनुसार -
                                                            "कविता में मिथकों का प्रयोग 
              सायास नहींस्वभाविक रूप से होना चाहिए। उन्हें काव्य का 
              अभिन्न अंग होना चाहिए और उन्हें कवि की दृष्टि से जुड़ा होना 
              चाहिए। ये गुण आने पर ही मिथक कलात्मक बन पाएंगे। "

   


                                                   फैंटेसी
                                        फैंटेसी शब्द का निर्माण यूनानी शब्द 'फैंटेसिया 
       से हुआ है जिसका अर्थ है मनुष्य की क्षमता जो संभाव्य संसार की सर्जना
        करती है।फैंटेसी कल्पना पर आधारित होती है जिसे दिवास्वप्नात्मक 
       अथवा दु:स्वप्नात्मक मानसिक बिम्ब कहा जा सकता है। प्रसिद्ध कवि एवं 
       समीक्षक मुक्तिबोध के अनुसार
                                                                " फैंटेसी में मन की निगूढ़ 
             वृत्तियों काअनुभूत जीवन समस्याओं काइच्छित विश्वासों 
             और इच्छित जीवन स्थितियों का प्रक्षेप होता है।
       मुक्तिबोध की कविताएं- 'ब्रह्मराक्षस' और 'अंधेरे मेंफैंटेसी का प्रयोग 
       किया गया है। 
    


                                                  कल्पना
  
                                   काव्य में मूल तत्वों में कल्पना तत्व को माना गया है।
       आचार्य रामचंद्र शुक्ल के अनुसार -
                                                                         " जो वस्तु हमसे अलग है
            हमसे दूर प्रतीत होती है उनकी मूर्ति मन में लाकर उसके सामीप्य
             का अनुभव करना कल्पना है। साहित्य वाले इसे भावना कहते हैं
             और आजकल के लोग कल्पना।"  
      
       शेक्सपियर के अनुसार - 
                                                  " उन्मत्तप्रेमी और कवि इन तीनों का 
          कल्पना से अविरल संबंध है। "   
   
       कल्पना के संबंध में तथ्य -  कल्पना पूर्व अनुभूतियों पर आधारित होती है।
       कल्पना इच्छा प्रेरित होती है। कल्पना बुद्धि के नियंत्रण से मुक्त होती है। 
       कल्पना का आलंबन अप्रत्यक्ष होता है। कल्पना की सामग्री बिम्बों के रूप में 
       मस्तिष्क में संचित होती है। कल्पना का कार्य पूर्व उपलब्ध सामग्री को नए रूप
        में प्रस्तुत करना है।

     

                                                     प्रतीक 
                                   प्रतीक एक ऐसा शब्द चिन्ह है जो किसी वस्तु का बोध 
       कराता है। प्रतीक किसी सूक्ष्म भावविचार या अगोचर तत्व को साकार 
       करने के लिए प्रयुक्त होता है। उदाहरण के लिएकिसी देश का ध्वज उस 
       देश की राष्ट्रीय भावनाओं का प्रतिनिधित्व करने के कारण राष्ट्र के सम्मान
      एवं गौरव का प्रतीक होता है। प्रतीक शब्द रूप में किसी अन्य अर्थ की
      व्यंजना करता है। जैसे - 
                                             'काहे री नलिनी तू कुम्हिलानी।'  
       
       इस पंक्ति में 'नलिनीजीवात्मा का प्रतीक है। स्पष्ट है कि नलिनी का शब्दार्थ
       लेकर यहां प्रतीकार्थ ग्रहण किया गया है।  
    

                                                     
                                                        बिम्ब
                                    बिम्ब शब्द अंग्रेजी के 'इमेजशब्द का हिंदी रुपांतर है
       जिसका अर्थ है मूर्त रूप प्रदान करना।  काव्य में बिम्ब को वह शब्द चित्र
      माना जाता है जो कल्पना द्वारा ऐन्द्रिक अनुभवों के आधार पर निर्मित होता
      है।     सीडीलेविस के अनुसार - 
                                                         " काव्य बिम्ब एक ऐसा भावात्मक
             चित्र है जो रूपक आदि का आधार ग्रहण कर भावनाओं को तीव्र 
               करता हुआ काव्यानुभूति को सादृश्य तक पहुंचने में समर्थ है। "  

       डॉदेवीशरण रस्तोगी के अनुसार - 
                                                           " बिम्ब प्रायः अलंकारों की
             सहायता लेते हैं और इसी प्रकार अलंकार अन्ततः  बिम्ब को 
              ही लक्ष्य करते हैं। " 
  
      डॉकेदारनाथ सिंह के अनुसार - 
                                                       "बिम्ब यथार्थ का एक   टुकड़ा
           होता है। वह अपनी ध्वनियों और संकेतों से भाषा को अधिक
           संवेदनशील और पारदर्शी बनाता है। वह अभिधा की अपेक्षा 
            लक्षणा और व्यंजना पर आधारित होता हैं। "



Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :