Friday, 14 June 2019

Pooja

Samkaleen Kavita ke Kavi | समकालीन हिंदी कविता


samkaleen kavita ke kavi , samkaleen kavita in hindi
samkaleen kavita ke kavi



                                       समकालीन हिंदी कविता

                   
सन् 1960 के बाद की कविता को अनेक नाम दिए गए है जिनमें
     प्रमुख हैंसाठोत्तरी कविता ,  समकालीन कविता , अभिनव कविता बीट 
     कविता , अस्वीकृत कविता अति कविता सहज कविता निर्दिशायामी
     कविता , युयुत्सावादी कविता आदि। साठोत्तरी कविता नई कविता से कुछ
     अलग और हटकर है। संक्षेप में  साठोत्तरी कविता या समकालीन कविता
      की कुछ उल्लेखनीय विशेषताएं इस प्रकार हैं :

    1. 
साठोत्तरी कवितामें असंतोष, अस्वीकृति और विद्रोह का स्वर बहुत साफ तौर
        पर उभरा है। यह स्वर कहीं व्यंग्य रूप में है तो कहीं खुले रूप में हैं।

    2. 
जीवन की प्रमाणिक अनुभूतियों को जीवन परिवेश में अभिव्यक्त किया 
        गया है।

    3. 
समकालीन कविता रोमानी छायावादी संस्कारों से पूर्णतः मुक्त है।

    4.
समकालीन कविता समाज की मान्यताओं, परंपराओं से मोहभंग व्यक्त 
        करती है।

    5.
इस कविता में जीवन से सीधा साक्षात्कार है| उसमें जीवन की खीझ,  
        असंतोषनिराशा, कुंठा, कड़वाहट के स्वर अधिक है।
      
    6. समकालीन कविता साक्षात्कृत परिवेश के प्रति अपनी प्रतिबद्धता प्रस्तुत
        करती हैं।

    
    7. भारतीय समाज में व्याप्त जड़ताविसंगतिआक्रोशविडंबना की पूर्ण 
        अभिव्यक्ति समकालीन काव्य में हुई है।
    
    8. मानव की स्वार्थपरताअधिकारलोलुपताभ्रष्टाचारिता को आज की कविता
        का विषय बनाया गया है।
    
    9. समकालीन कविता में राजनीतिक संदर्भों से साक्षात्कार किया गया है।
   
   10.समकालीन कविता उन्हीं अनुभूतियों को अभिव्यक्ति देती हैं जो जीवन की
        निर्भय वास्तविकताओं से मन में उभरती है।
        
                                                                                                                         समकालीन कवियों में से कुछ प्रमुख कवि है - विश्व नाथ तिवारी,
      रघुवीर सहायश्रीकांत वर्मादूधनाथ सिंहधूमिललीलाधर जगूंड़ी,
      वेणुगोपालमत्स्येन्द्र शुक्लविष्णु खरेदेवेन्द्र कुमारश्याम विमल,
      विजय कुमारपरमानंद श्रीवास्तवआलोक धन्वाअमरजीतप्रताप
      सहगल,अनिल जोशीअरुण कमल 
                   
                      यहां कुछ प्रमुख कवियों के कविताओं के संकलन के नाम दिए
    जा रहे हैं जो सन् 1975 के बाद प्रकाशित हुए हैं:

                    
                          सन 1975 के बाद के प्रमुख काव्य संग्रह

                
कवि                                                  काव्य कृतियां

             
मुक्तिबोध                                          भूरी भूरी खाक धूल

             
नागार्जुन                                            तुमने कहा थाऐसा भी हम क्या,
                                                                    
तालब की मछलियाँऐसे भी तुम क्या,
                                                                   
आखिर ऐसा क्या कह दिया मैंने,
                                                                   
पुरानी जूतियों का कोरसरत्नगर्भ,
                                                                    
हजार हजार बाहों वाली,
                                                                   खिचड़ी विप्लव देखा हमने

             
शमशेर बहादुर सिंह                           चुका भी नहीं हूं मैं,
                                                                    इतने पास अपने

             
त्रिलोचन                                           ताप के तपाये हुए दिनशब्द
                                                                   
उस जनपद का कवि हूं

              
अज्ञेय                                              नदी की बांक पर छाया,
                                                                   
महा वृक्ष के नीचे

           
केदारनाथ अग्रवाल                             गुलमेहंदीपंख और पतवार

            
भवानी प्रसाद मिश्र                              अनाम तुम आते हो,त्रिकाल संध्या,
                                                                  
परिवर्तन जियेमानसरोवर दिन

            
गिरिजाकुमार माथुर                            छाया मत छूना मतकल्पांतर,
                                                                  
भीतरी नदी की यात्रासाक्षी रहे वर्तमान

       भारत भूषण अग्रवाल                          उतना वह सूरज है

       
सर्वेश्वर दयाल सक्सेना                         कविता-1, कविता- 2,
                                                             
जंगल का दर्दखूटियों पर टंगे लोग

       
कुंवर नारायण                                   आमने सामनेआत्मजयी

       
विजयदेव नारायण साही                      साखीमछलीघर

       
रामदरश मिश्र                                    कंधे पर सूरज,
                                                              दिन एक नदी बन गया

      
केदारनाथ सिंह                                  जमीन पक रही है,
                                                              यहां से देखो

       
कैलाश वाजपेयी                                 महास्वपन का मध्यांतर

      
नरेश मेहता                                       उत्सवा

       
अरूण कमल                                    अपनी केवल धार

        
इंदु जैन                                           आंख से भी छोटी चिड़िया,
                                                             
हमसे पहले भी लोग यहां थी

      
हरिनारायण व्यास                              त्रिकोण सूर्योदय

       ठाकुर प्रसाद सिंह                              हारी हुई लड़ाई लड़ते हुए
  

  
नरेंद्र मोहन                                      सामना होने पर,
                                                       एक अग्निकांड जगहें बदलता
   

  
विनय                                             कई अंतरालदूसरा राग

  
लीलाधर जंगूड़ी                                बची हुई पृथ्वी,
                                                       रात अब भी मौजूद

  
धूमिल                                            कल सुनना मुझे
                                                       सुदामा पांडे का प्रजातंत्र

  
उदय प्रकाश                                   सुनो कारीगर , 'से कबूतर

  
कुमार विकल                                  एक छोटी सी लड़ाई

 
अब्दुल विस्मिल्लाह                            छोटे बुतों का नयान

  
बलदेव वंशी                                    अंधेरे के बावजूदबच्चे की दुनिया,
                                                       
कोई आवाज नहीं

  
मणि मधुकर                                    बलराम के हजारों हाथ

  
ऋतुराज                                         एक मरणधर्मा और अन्य

 
कन्हैयालाल नंदन                              मुझे मालूम है


 चंद्रकांत देवताले                               लकड़बग्घा हंस रहा है,
                                                      
रोशनी के मैदान की तरफ
 
 दिविक रमेश                                    खुली आंखों का आकाश
                                                      
रास्ते के बीच
 
विश्वनाथ प्रसाद तिवारी                        बेहतर दुनिया के लिए,
                                                      
साथ चलते हुए

 
प्रयाग शुक्ल                                     यह एक दिन है

 
मलयज                                           जख्म पर धूल

 
मंगलेश डबराल                                पहाड़ पर लालटेन

 
रणजीत                                           झुलसा हुआ रक्त कमल
 
 श्याम विमल                                     इतना जो मिला

 
ललित शुक्ल                                    अंतर्गत

 
देवेंद्र कुमार                                     बहस जारी है

 
सौमित्र मोहन                                   लुकमान अली और अन्य कविताएं

 
राजेश जोशी                                    एक दिन बोलेंगे पेड़

 रामदेव आचार्य                                 रेगिस्तान से महासागर तक

  
विजेंद्र                                            ये आकृतियाँ तुम्हारी,
                                                      चैत की लाल टहनी

  
विनोद भारद्वाज                                जलता मकान
     
  
विश्वनाथ त्रिपाठी                                जैसा कह सकी

  
विश्वरभर उपाध्याय                             कबंध

  
वेणु  गोपाल                                      हवाएं चुप नहीं रहती

  श्रीराम वर्मा                                       कालपात्र

 
स्नेहमयी चौधरी                                 पूरा गलत पाठ,अपने खिलाफ

 
सोमदत्त                                          किस्से अरबों है

  
सुनीता जैन                                      हो जाने दो मुक्त

 
ओमप्रकाश निर्गल                           नींद टूटने से पहले

  
गिरधर राठी                                    बाहर भीतर

  
विष्णुचंद्र शर्मा                                 अंतरंग


            सन 1975 के बाद के प्रमुख प्रबंध काव्य

      
कवि                                               प्रबंध काव्य


   
नरेश मेहता                                    प्रवाद, महाप्रस्थान, शबरी

   
देवराज                                         आहत आत्माएँ, इला और अमिताभ

   
भवानी प्रसाद मिश्र                           कालजयी

   
भारत भूषण अग्रवाल                       अग्निलीक

   
विनय                                           पुनर्वास का दंड, एक मृत्यु प्रश्न

   
जगदीश चतुर्वेदी                              सूर्यपुत्र

   
रामेश्वर शुक्ल अंचल                        अपराधिता

   
शैलेश जैदी                                   अब किसे बनवास दोगे

   
पी. डी. निर्मल                               विधुरा


             सन 1990 के बाद के प्रमुख काव्य संग्रह


        
कवि                                               काव्य संग्रह
 

  
रामदरश मिश्र                               शब्द सेतु, बारिश में भीगते बच्चे

  
केदारनाथ सिंह                              उत्तर कबीर एवं अन्य रचनाएं, बाघ

  
विश्वंभर नाथ उपाध्याय                     गंगा

  
कैफी आजमी                                मेरी आवाज सुनो

  
जगदीश गुप्त                                आदिम एकांत

  
विश्वनाथ तिवारी                             आखर अनंत

 
अशोक वाजपेयी                            कहीं नहीं वहीं, थोड़ी सी जगह,
                                                    
घास में दुबका आकाश,
                                                     समय के पास समय

   
रमेश चंद्र शाह                              देखते है शब्द भी अपना समय

   
प्रयाग शुक्ल                                 यह लिखता हूँ, बीते कितने बरस,
                                                    
कविता 93

   
गिरिधर राठी                                निमित्त, उनीदें की लोरी

   गंगा प्रसाद विमल                         सन्नाटे से मुठभेड़, इतना कुछ

   
कुमार विकल                               निरुपमादत्त मैं बहुत उदास हूँ,
                                 
  
लीलाधर जंगूड़ी                            भय भी शक्ति देता है,
                                                   
अनुभव के आकाश में चांद,
                                                   
ईश्वर की अध्यक्षता में

  
राजेश जोशी                               दो पंक्तियों के बीच, नेपथ्य में हंसी

 
अरूण कमल                              नये इलाके में, अपनी केवल धार

   
मंगलेश डबराल                          आवाज भी एक जगह,
                                                  
हम जो देखते हैं

  
उदय प्रकाश                              रात में हारमोनियम,अबूतर -कबूतर

  
बोधिसत्व                                   हम जो नदियों का संगम है,
                                                  
सिर्फ कवि नहीं

  
महेश आलोक                            चलो कुछ खेल जैसा खेलें

  
निलय उपाध्याय                        अकेला घर हुसैन का, कटौती

   
चंद्रकांत देवताले                        पत्थर की बैच, उसके सपने

   हेमंत कुकरेती                           चलने से पहले

 
ओम प्रकाश बाल्मीकि                 बस बहुत हो चुका

   
रमेश कौशिक                          कहां है वे शब्द

   
इब्बार रब्बी                              वर्षा में भीगकर, और लोग बाग

   
मदन कश्यप                             नीम रोशनी में

   
गोरख पाण्डेय                            स्वर्ग से विदाई,
                                                 
जागते रहो सोने वाले

   
नीलाभ                                      चीज़ें उपस्थित हैं

   
. आर. अरिविंदाक्षन                   घोड़ा

   
एकांत श्रीवास्तव                          मिट्टी से कहूंगा धन्यवाद,
                                                  
अन्न है मेरे शब्द

   
भारत यायावर                            मैं हूँ यहां हूँ

   
लीलाधर मंडलोई                        रात बिरात

   
ज्ञानेंद्र पति                                 गंगा तट

   
कुमार अंबुज                              किवाड़ क्ररता, अनंतिम


   आलोक धन्वा                             दुनिया रोज बनती हैं

   
आग्नेय                                       लौटता हूँ उस तक

   
अमृता भारती                             मन रूक गया वहाँ

   
कात्यायनी                                  इस पौरुष पूर्ण समय में,
                                                  
सात भाइयों के बीच चंपा

   
अनामिका                                  जल पंखों वाली चिड़िया,
                                                  
बीजाक्षशील

   
अर्चना वर्मा                                लौटा है विजेता

   
निर्मला गर्ग                                कबाड़ी का तराजू

   मिथिलेश श्रीवास्तव                     किसी उम्मीद की तरह

   
प्रेमरंजन अनिमेष                       मिट्टी का फल

   
विनोद कुमार शुक्ल                   अतिरिक्त नहीं

   
विनोद कुमार श्रीवास्तव               एवजी में शब्द

   
लीलाधर मंडलोई                       मगर का एक आवाज

   
ओम भारती                              जोखिम से कम नहीं




Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :