Advertisement

header ads

Ritikal ke kavi | रीतिकाल के कवि

         
                       

    
ritikal ke kavi, riti sidh kavi
ritikal ke kavi
                     
 


                                                   रीतिकाल


                 
मध्यकाल को दो भागों में बांटा गया है उनके नाम हैपूर्व मध्यकाल
    और उत्तर मध्यकाल। पूर्व मध्यकाल को भक्ति काल और उत्तर मध्यकाल को
     रीतिकाल कहा गया है। आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने सम्वत् 1700 वि. से 1900 वि.
    (1643 . से 1843 .) तक के काल खंडों में बांटा गया है। इस काल को 
    आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने रीतिकालमिश्रबन्धुओ ने अलंकृत काल, विश्वनाथ 
     प्रसाद मिश्र ने श्रृंगार काल नाम दिया है।
                    
                       मिश्रबन्धुओ का तर्क है कि  इस काल में कविता को अलंकृत करने 
      पर अधिक बल दिया गया हैइसलिए इसका नाम अलंकृत काल होना चाहिए
      किंतु इस काल में लक्षण ग्रंथों की रचना प्रचुर मात्रा में हुई है तथा अब अलंकृत 
      काल कहने से इस प्रवृत्ति का बोध नहीं हो पाता अत: यह नाम समीचीन नहीं है।
                   
                       श्रृंगार काल कहे जाने के पक्ष में यह तर्क दिया गया है कि इस काल 
       के कवियों की व्यापक प्रवृत्ति श्रृंगार वर्णन की थी, किंतु श्रृंगारी कवियों ने भी 
       काव्यांग निरूपण की ओर रुचि दिखाई है। ऐसी स्थिति में केवल श्रृंगार काल 
       कहने से रीतिकाल की संपूर्ण कविता का बोध नहीं हो पाता।
                    
                        रीतिकाल में 'रीति' शब्द का प्रयोग 'काव्यांग निरूपण' के अर्थ में 
        हुआ है। ऐसे ग्रंथ जिनमें काव्यांगों के लक्षण एवं उदाहरण दिए जाते हैं, रीति 
        ग्रंथ कहे जाते हैं। रीतिकाल के अधिकांश कवियों ने रीति निरूपण करते हुए
        लक्षण ग्रंथ लिखे हैं अत: इस काल की प्रधान प्रवृत्ति 'रीति निरूपण' को माना 
        जा सकता है। आचार्य शुक्ल ने कालों के नामकरण प्रधान प्रवृति के आधार
        पर किए हैं अत: रीति की प्रधानता के कारण इस काल का नामकरण उन्होंने
        रीतिकाल किया है। रीति से उनका तात्पर्य पद्धति, शैली और काव्यांग निरूपण
         से है।

         रीतिकाल का वर्गीकरण

         रीतिकाल का वर्गीकरण तीन भागों में बांटा गया हैरीतिबद्ध, रीतिमुक्त और
         रीतिसिद्ध

        1. रीतिबद्ध - इस वर्ग में वे कवि आते हैं जो रीति के बंधन में बंधे हुए हैं
             अर्थात जिन्होने रीति ग्रंथों की रचना की। लक्षण ग्रंथ लिखने वाले प्रमुख 
             कवियों के नाम इस प्रकार हैचिंतामणि, मतिराम, देवजसवंत सिंह,
             कुलपति मिश्र, मंडन, सूरति मिश्र, सोमनाथ, भिखारीदास, दूलह,
             रघुनाथ, रसिकगोविंद, प्रताप सिंह, ग्वाल आदि।

        2.
रीतिमुक्तइस वर्ग में वे कवि आते हैं जो रीति के बंधन से पूर्णतः मुक्त 
              है अर्थात जिन्होंने काव्यांग निरूपण करने वाले ग्रंथों लक्षण ग्रंथों की रचना 
              नहीं की तथा हृदय की स्वतंत्र वृत्तियों के आधार पर काव्य रचना की। इन 
              कवियों में प्रमुख हैं - धनानंद, बोधा, आलम और ठाकुर।

        3.
रीति सिद्धतीसरे वर्ग में वे कवि आते हैं जिन्होंने रीति ग्रंथ नही लिखे 
              किंतु रीति की उन्हें भली-भांति जानकारी थी। इन्होंने इस जानकारी का 
              पूरा-पूरा उपयोग अपने काव्य ग्रंथों में किया है। इस वर्ग के प्रतिनिधि 
              कवि हैंबिहारी उन्होंने एकमात्र ग्रंथ 'बिहारी सतसई' में रीति की
              जानकारी का पूरा पूरा उपयोग किया है।

                        
रीतिकालीन काव्य को सुविधा की दृष्टि से डॉ. नगेंद्र ने तीन वर्गों 
          में विभक्त किया हैरीतिकालीन मुक्तक काव्य, रीतिकालीन प्रबंध काव्य
          रीतिकालीन नाटक। 

               
 रीतिकाल की प्रमुख प्रवृत्तिया
         

  •     रीति निरूपण     
  •     श्रृंगारिकता
  •     आलंकारिकता
  •     आश्रयदाताओं की प्रशंसा
  •     बहुज्ञता एवं चमत्कार प्रदर्शन 
  •     भक्ति एवं नीति
  •      नारी भावना
  •      प्रकृति चित्रण
  •      ब्रज भाषा का प्रयोग


                             उत्तर मध्यकाल का नामकरण



             
आचार्य शुक्ल                                          रीतिकाल 
   
              
मिश्र बंधु                                               अलंकृत मध्यकाल 

              
विश्वनाथ प्रसाद मिश्र                                श्रृंगारकाल 

             
रमाशंकर शुक्ल                                      कलाकाल 
                
               ग्रियर्सन                                                रीतिकाव्य 

                 

                         
                          रीतिकाल की प्रमुख मुक्तक रचनाएं

           
रचनाकार                                                  रचनाएं

 
            
चिंतामणि                                           कविकुल कल्पतरूछंद विचार,
                                                                     
रसविलास, काव्य विवेक
                                                             
        श्रृंगार मंजरी, काव्यप्रकाश
                   
             
मतिराम                                            रसराज, ललितललामवृत्त कौमुदी,
                                                                   
सतसई, अलंकार पंचाशिका
                               

             
भूषण                                                शिवराज भूषण,छंदोहृदय प्रकाश,
                                                                     छत्रसाल दशक, शिवाबावनी,
                                                                    
अलंकार प्रकाश
                                             

             बिहारी                                              बिहारी सतसई(713 दोहे)

             
रसनिधि                                            रत्न हजारासतसईअरिल्ल
                                                                    
विष्णुपद कीर्तन, बारहमासा,
                                                                    
कवित्त, हिंडोला, गीति संग्रह
                

           
आलम                                              आलमकेलि
            जसवंत सिंह                                      अपरोक्ष सिद्धांत,सिद्धांतसार,
                                                                  
अनुभव प्रकाश,आनंद विलास,
                                                                  
भाषाभूषण, सिद्धांत बोधस्फुट छंद
                                                           

             देव                                                 भावविलास,भवानी विलास,
                                                                  कुशल विलास, जाति विलास,
                                                                  
रसविलास, सुजान विनोद,
                                                                  
प्रेम तरंग, काव्य रसायन,
                                                                  
प्रेमचंद्रिका, प्रेम दीपिका,     
                                                                  
देव शतक, राधिका विलास,
                                                                  
देव चरित, सुख सागर,
                                                                  
सुमिल विनोद, नीति शतक,

           
धनानंद                                            सुजान हित प्रबंध, इश्कलता,
                                                                  
कृपाकंद निबंध,यमुनायशपदावली,
                                                                  
वियोगबेलि, प्रीतिपावसप्रकीर्णक छंद
                                                            
 

            
रसलीन                                           अंगदपर्ण ,रस प्रबोध

            सोमनाथ                                          रसपीयूषनिधि,प्रेमपचीसी श्रृंगारविलास
                                                           


           
भिखारीदास                                     काव्य निर्णय, छंद्र प्रकाशछंदार्णत पिंगल,
                                                                 
श्रृंगार निर्णय, रस सारांश
                                                            

             दूलह                                              कविकुल कंठाभरण

             बोधा                                               विरहवारिश, इश्कनामा

             जसवंत सिंह द्वितीय                           श्रृंगार शिरोमणि

             पदमाकर                                        जगद्विनोद,पदमाभरणप्रतापसिंह विरूदावली,
                                                                  
गंगालहरी, प्रबोधपचासाकलि पच्चीसी
                  

             बेनीबंदीजन                                     रसविलास,भड़ौवा संग्रहटिकैतराय प्रकाश
                         

             ग्वाल                                              यमुना लहरी ,रसरंगअलंकार भ्रम भजन,
                                                                 
भक्तभावन, रसिकानंदकुब्जाष्टकबंसी बीसा,
                                                                 
कृष्ण जू को नख शिखकविदर्पणनेहनिर्वाह,
                                                                 
दूषण दर्पण ,राधाष्टकषडऋतुवर्णनदृगशतक,
                                                                 
राधामाधव मिलनकवि हृदय विनोदरसरूप
 
             
             द्विजदेव                                          श्रृंगारलतिका, श्रृंगार बत्तीसी,
                                                                 
श्रृंगार चालीसा,कविकल्पद्रुम
   
      
             कुलपति मिश्र                                   रसरहस्यनखशिख, 
                                                                  मुक्तिरंगिणीसंग्रामसार,
                                                                  दुर्गाभक्ति तरंगिणी,
                   
             मण्डन                                           रस रत्नावली,रसविलास
                                                                 नखशिख,जनक पच्चीसी
                                                                  नैन पचासा

             सूरति मिश्र                                      अलंकार माला,नखशिख
                                                                 रस रत्नमाला, रस रत्नाकर,
                                                                 
काव्य सिद्धांत,श्रृंगार सागर,
                                                                 
भक्ति विनोद

             नृप शंभू                                         नायिका भेद, नखशिख,
                                                                 
सातशप्तक

             श्रीपति                                           काव्य सरोजरस सागर,
                                                                
कविकल्पद्रुत,अलंकार गंगा,
                                                                
विक्रम विलास,अनुप्रास विनोद,

              गोप                                             रामचंद्र भूषण, रामालंकार,
                                                                
रामचंद्राभरण

             रसिक सुमति                                 अलंकार चंद्रोदय

             कृष्ण कवि                                     अलंकार कलानिधि ,
                                                                
गोविंद विलास


             हितवृंदावन दास                             स्फुट पद(20 हजार)

             सेवादास                                       नखशिख, रसदर्पण,
                                                               
राधा सुधाशतक,
                                                               
रघुनाथ अलंकार

             राम सिंह                                     अलंकार दर्पण,रसविनोद,
                                                               
रस शिरोमणि

             नंदकिशोर                                    पिंगल प्रकाश
               

             रघुनाथ                                        काव्य कलाधर,रसरहस्य
  
             रसिक गोविंद                                युगल रस माधुरी,
                                                               
रसिक गोविंदानंदघन,
                                                               
समय प्रबंध

             प्रताप साहि                                   काव्य विलास,अलंकार चिंतामणि
                                                             
श्रृंगार मंजरी,काव्य विनोद,
                                                               
व्यंग्यार्थ कौमुदी,श्रृंगार शिरोमणि 
                                            
                       
             बेनी प्रवीण                                    श्रृंगार भूषण,नवरस तरंग,

             जगत सिंह                                     साहित्य सुधानिधि

             गिरिधरदास                                   रस रत्नाकर,भारती भूषण,
                                                                
उत्तरार्द्ध नायिका भेद


             दीनदयाल गिरि                              अन्योक्ति कल्पद्रुम,
                                                               
दृष्टांत तरंगिणी,
                                                               
वैराग्य दिनेश

             अमीर दास                                    ब्रज विलास,सभामंडन,
                                                               
वृत्त चन्द्रोदय

             चंद्रशेखर वाजपेयी                           रसिक विनोद, नखशिख,
                                                                
माधवी बसंतगुरु पंचशिका,
                                                               
वृन्दावन शतक,
                                                
             
सेनापति                                       कवित्त रत्नाकर

             
केशवदास                                    कविप्रिया,रसिकप्रिया,
                                                                
जहांगीर जसचंद्रिका,
                                                                
रामचंद्रिका,विज्ञान गीता,
                                                                
वीर सिंह चरितरतन बावनी
                                
             
मोहनलाल मिश्र                              श्रृंगार सागर

             
करनेस                                         कर्णभरण, भूपभूषण,
                                                                
श्रुति भूषण

             
कुलपति मिश्र                                  रस रहस्य

             
श्रीधर                                            जंगनामा

             गोरेलाल कवि                                 छत्रप्रकाश,विष्णु विलास

             गुरु गोविंद सिंह                              प्रेम सुमार्ग, बुद्धि सागर,
                                                                
सर्वलौह प्रकाश

           
ठाकुर                                            ठाकुर ठसक

           
सूदन                                             सुजान चरित

           
नरोत्तमदास                                     सुदामा चरित, धुव्र चरित्र,

           
करन कवि                                      साहित्य रस, रस कल्लोल

           सबल सिंह चौहान                             महाभारत

           
वृन्द                                              श्रृंगार शिक्षा, वृन्द सतसई,
                                                               
भाव पंचशिका, सतसई,
                                                               
वैताल विक्रम 

           गणेश कवि                                     प्रद्युम्न विजय
     
           हरनारायण                                     बैताल पच्चीसी,
                                                             
माधवनल कामकन्दला

           भानकवि                                       राजविलास


  

                          रीतिकाल के प्रमुख प्रबंध काव्य

           
रचनाकार                                               रचनाएं



            
चिंतामणि                                          रामायण,कृष्ण चरितरामाश्वमेध
               

           
मंडन                                               जानकी जू का ब्याहपुरन्दर माया
              

           
कुलपति मिश्र                                     संग्रामसार(द्रोणपर्व)

            
लाल कवि                                          छत्र पकाश

           
सुरति मिश्र                                         श्री कृष्ण चरितरामचरित
                  

           
सोमनाथ                                            पंचाध्यायीसुजान विलास
                

            
गुमान मिश्र                                         नैषधचरित

           
रामसिंह                                            जुगल विलास

           
पद्माकर                                            हिम्मत बहादुर विरूदावली

            
रसिक गोविन्द                                    रामायण सूचनिका

           
ग्वाल                                                हिम्मत हठविजय विनोदगोप पच्चीसी
                
            चन्द्रशेखर वाजपेयी                             हम्मीर हठ

            गोविन्द सिंह                                      चण्डी चरित्र

               

                                 रीतिकाल के प्रमुख नाटक

              
रचनाकार                                               रचनाएं


               
सोमनाथ                                           माधव विनोद नाटक

               
जसवंत सिंह                                      प्रबोध चंद्रोदय नाटक

               
नेवाज                                              शकुंतला नाटक

               
देव                                                  देवमाया प्रपंच नाटक

               
ब्रजवासी                                           प्रबोध चंद्रोदय नाटक

               
राम                                                 हनुमान नाटक

Post a comment

0 Comments