Monday, 24 June 2019

Pooja

Riti Siddhant | रीति सिद्धांत




riti siddhant , riti siddhant in hindi
riti siddhant


                                          रीति सिद्धांत  (संप्रदाय)
  
  
                              रीति सिद्धांत के प्रवर्तक आचार्य वामन माने जाते हैं। 'रीति'
       शब्द की व्युत्पत्ति 'रीड्धातु में 'ऋन्प्रत्यय के योग से हुई है,  जिसका 
       अर्थमार्गपन्थगतिशैली इनके ग्रंथ का नाम 'काव्यालंकार सूत्रवृति
       है इन्होंने  'रीतिरात्मा काव्यस्यकहकर रीति को काव्य की आत्मा माना 
       है। आचार्य वामन ने रीति की परिभाषा देते हुए कहां :-
          
                                   " विशिष्ट पद रचना रीति:" 
      
      अर्थात विशेष प्रकार की पद रचना को रीति कहते हैं  विशिष्ट को स्पष्ट 
      करते हुए वे पुन: कहते हैं:-
                                            विशेषो गुणात्मा: "         
      
      अर्थात विशिष्ट का आशय है गुणों से युक्त होना। गुण की परिभाषा देते
      हुए वे फिर कहते हैं:-
                           
                    "गुण शब्द और अर्थ के शोभाकारक धर्म है।"
       उक्त सभी बातों का समावेश करते हुए रीति की परिभाषा निम्न शब्दों में दी जा 
       सकती है :-
                       "
शब्द और अर्थगत चमत्कार से युक्त विशेष पद की रचना
                           को रीति कहते हैं।"       
        रीति संप्रदाय को गुण संप्रदाय भी कहा जाता है।  
        
        गुण के भेद
       आचार्य वामन के अनुसार गुण दो प्रकार के होते हैं-  शब्दगत और अर्थगत। 
        इनमें से प्रत्येक के अंतर्गत दस-दस गुण हैजिनके नाम1. ओज  2. प्रसाद  
       3.  श्लेष  4. समता  5. समाधि  6. माधुर्य  7. सौकुमार्य  8. उदारता
       9. अर्थव्यक्ति 10. क्रांति
        इस प्रकार वामन ने कुल बीस गुण माने है - दस शब्दगत और दस अर्थगत

      
        रीति के भेद
  
        आचार्य वामन के अनुसार रीति के तीन भेद हैं :
         वैदर्भीगौड़ी और पांचाली। 
   1.  वैदर्भी -    वैदर्भी का मूल आधार माधुर्य गुण होता है। इसके साथ इसमें 
         सुकुमार वर्ण योजना रहती है। यह रीति श्रृंगारकरुणा आदि कोमल रसों 
         के लिए उपयुक्त मानी गई है। 

   2.  गौड़ी रीति-    गौड़ी रीति ओज एवं क्रांति गुणों से संपन्न होती है तथा इसमें 
         माधुर्य गुण का पूर्ण अभाव होता है। यह रीति रौद्रवीरवीभत्स और 
         भयानक रसों की अभिव्यक्ति के लिए उत्तम है। इसमें कठोर वर्णों की योजना 
         की जाती है। वीर और रौद्र रसों का यह मूल आधार है। इसे परुषा वृत्ति 
         भी कहते हैं। 
   3.  पांचाली रीति -   इस रीति में माधुर्य एवं सौकुमार्य गुणों का विधान रहता 
          है| इसमें छोटे समासों वाली भाषा रहती है| मम्मट ने इसे कोमला वृत्ति 
         भी कहा है। इसका मूल गुण प्रसाद होता है। 

    
       आचार्य मम्मट का मत

       आचार्य मम्मट ने रीति को वृत्ति कहा है। उन्होंने तीन वृत्तियों और तीन ही गुणों
        को स्वीकार किया है:-

  1.  उपनागरिका वृत्ति -  जिसे वामन ने वैदर्भी रीति कहा हैउसे ही मम्मट ने
        उपनागरिका वृत्ति की संज्ञा प्रदान की है। यह माधुर्य गुण से युक्त होती है और 
        श्रृंगारकरुणा आदि कोमल रसों का उपकार करती है। 

  2.  परुषा वृत्ति - ओज गुण के व्यंजक वर्णों से युक्त रचना को मम्मट ने परुषा वृत्ति
        कहा है। इसे वामन के अनुसार गौड़ी रीति कहा गया है। यह वीर , रौद्र आदि
        कठोर रसों का उपकार करती है। 
  3.  कोमला वृत्ति - प्रसाद गुण से युक्त रचना को पांचाली रीति या कोमला वृत्ति की 
       संज्ञा प्रदान की गई है।

       
      आचार्य विश्वनाथ का मत


      आचार्य विश्वनाथ के ग्रंथ का नाम 'साहित्य दर्पण' है। उन्होंने रीति को
      'पद संघटनाका नाम दिया हैपर उसे काव्य की आत्मा स्वीकार नहीं करते हैं। 




     आनंदवर्धन का मत



       आनंदवर्धन ने रीति को संघटना नाम दिया है संघटना का अर्थ - किसी

       सम्यक् घटना। वे संघटना को संपूर्ण सौन्दर्य साधन मानते हैं। वामन की रीति

       अपने आप मे एक स्वतंत्र अवधारणा है जबकि आनंदवर्धन की संघटना रस पर 
       आश्रित है। 

     
       राजशेखर का मत
  
        राजशेखर ने वचन विन्यास के क्रम को रीति कहा है। यहां वचन का आशय
        शब्द अथवा पद से हैं तथा विन्यास क्रम का अर्थ रचना से है।


       आचार्य कुंतक का मत 


       आचार्य कुंतक ने 'रीति' के लिए 'मार्ग' शब्द का प्रयोग किया है। इसके तीन 
       भेद बताए हैं :  सुकुमार मार्ग,  विचित्र मार्ग और मध्य मार्गउन्होंने रीति
        विवेचन में कवि स्वभाव को प्रधानता दी है। उनके अनुसार सुकुमार मार्ग में 
        भाव एवं रस का नैसर्गिक सम्बन्ध बना रहता है जबकि विचित्र मार्ग में भावपक्ष
        की अपेक्षा कला पक्ष की अधिक महत्ता रहती है।




Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :