Tuesday, 11 June 2019

Pooja

Pragativadi | प्रगतिवादी


  
pragativadi kavi , pragativadi in hindi
Pragativadi kavi




                                              प्रगतिवा


                         
प्रगति शब्द का अर्थ आगे बढ़ना है किंतु हिंदी में प्रगतिवादी
      शब्द का प्रयोग इस अर्थ में नहीं होता।  जो विचारधारा राजनीतिक क्षेत्र में 
      साम्यवाद या मार्क्सवाद कहलाती हैं, वही साहित्यिक क्षेत्र में प्रगतिवाद के 
      नाम से जानी जाती है। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि साम्यवादी
      विचारधारा के अनुरूप लिखी गई कविता प्रगतिवादी कविता है। 

                   साम्यवादी विचारधारा के आधार पर समाज को दो वर्गों में बांटा गया 
      हैशोषक वर्ग और शोषित वर्ग | शोषक वर्ग -   शोषक वर्ग केअंतर्गत वे 
      पूंजीपति,मिलमालिक,उद्योगपति और जमींदार आते हैं जो गरीबों और मजदूरों
      का शोषण करते हैं। शोषित वर्ग- शोषित वर्ग के अंतर्गत मजदूर,गरीब,किसान
     और श्रमिकआते हैं,जिनका शोषण किया जाता है | साम्यवादी विचारक समाज
     में समता स्थापित करना चाहते हैंऔर यह चाहते हैं कि शोषण की प्रतिक्रिया बंद
     हो। इसलिए प्रगतिवाद कविता भी शोषण का विरो करती है।

 हिंदी कविता में प्रगतिवाद   
 हिंदी काव्य में प्रगतिवाद का प्रारंभ सन् 1936 . में हुआ। 1936 . से
1943 की कविता प्रगतिवादी कविता हैं। हिंदी साहित्य के कवि जिन्होंने
 साम्यवादी विचारधारा से प्रभावित होकर काव्य रचना कीप्रगतिवादी कवि 
 कहलाए। इनमें से प्रमुख है - केदारनाथ अग्रवाल, नागार्जुन, रामविलास 
 शर्माशिवमंगल सिंह सुमन , डॉ. रांगेय राघव और त्रिलोचन शास्त्री

                  
इनके अतिरिक्त सुमित्रानंदन पंत, निराला, रामधारी सिंह
दिनकरनरेंद्र शर्मा आदि की रचनाओं में भी प्रगतिवादी तत्व उपलब्ध होते हैं। 

प्रगतिवादी काव्य की प्रवृत्तियां
  • शोषितो की दीनता का चित्रण
  • शोषक वर्ग के प्रति घृणा
  • धर्म और ईश्वर के प्रति अनास्था
  • क्रांति की भावना
  • नारी चित्रण
  • समाजिक जीवन का यथार्थ चित्रण
  • शैलीगत विशेषताएं

                   
                                प्रगतिवादी कृतियाँ

             
कवि                                      काव्य कृति


          
सुमित्रानंदन पंत                          युगवाणी, ग्राम्या

          
सूर्यकांत त्रिपाठी निराला               कुकुरमुत्ता

         
केदारनाथ अग्रवाल                      युग की गंगा

          
नागार्जुन                                    युगधारा

          
त्रिलोचन                                    धरती

          
शिवमंगल सिंह सुमन                   जीवन की गान,प्रलय सृजन

          
रांगेय राघव                               अज्ञेय खंडहर, मेधावी,
                                                         
पांचाली, पिघलते पत्थर

          भारत भूषण अग्रवाल                   मुक्तिमार्ग, जागते रहो


                       
                     प्रगतिवादी कवि और उनकी रचनाएं

           
कवि                                                 रचनाएं


         
नागार्जुन                                 युगधारा(1956),भस्मांकुर,
                                                     
सतरंगे पंखों वाली (1959),
                                                     
प्यासी पथराई आंखें(1962),
                                                     
तुमने कहा था
                                                     
कविताएँ:-  प्रेत का बयान,
                                                     
काली माई,रबीन्द्र के प्रति,
                                                     
अकाल और उसके बाद,
                                                     
आओ रानी हम ढोंग पालकी,
                                                     
वे और तुम, पाषाणी,
                                                     
सिन्दूर तिलांकित झील

         
केदारनाथ अग्रवाल                   युग की गंगा,नींद के बादल,
                                                     
फूल नहीं रंग बोलते हैं,अपूर्वा,
                                                     
आग का आइना,समय-समय पर


         
शिवमंगल सिंह सुमन                हिल्लोल, जीवन के गान,
                                                     
प्रलय सृजन,मिट्टी की बारात,
                                                     
विश्वास बढ़ता ही गया है,
                                                     
एशिया जाग उठा है, वाणी की व्यथा,
                                                     
पर आंखें नहीं भरी,विंध्य हिमालय

         त्रिलोचन शास्त्री                       धरती, मिट्टी की बारात,
                                                     मैं उस जनपद का कवि हूँ। 


         रागेंय राघव                            अजेय खंडहर ,मेधावी

                                                     पांचाली, राह के दीपक


Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :