Advertisement

header ads

Prayogvad aur Nayi Kavita | प्रयोगवाद और नई कविता


nayi kavita poet , nayi kavita ke pramukh kavi
nayi kavita poet



                                                    प्रयोगवाद और नई कविता  
                                
                             हिंदी काव्य में 'प्रयोगवादका प्रारंभ सन् 1943 .   में 'अज्ञेयद्वारा संपादित 'तार सप्तकके प्रकाशन से माना जाता है    
प्रयोगवादी काव्य में नई संवेदनाओं और नई भावबोध एवं नई शिल्प का 
प्रयोग गया है| प्रयोगवादी कवि 'प्रयोगकरने में विश्वास करता है। कवियो
ने भाषा की दृष्टि से नए प्रयोगशिल्प की दृष्टि से नए प्रयोग,उपमानों की दृष्टि 
से नए प्रयोगऔर काव्य वस्तु की दृष्टि से नए प्रयोग अपनी कविताओं में किए 
हैं। अज्ञेय ने 'प्रयोगको साधन मानते हुए लिखा है - "प्रयोग अपने आप में 
इष्ट नहीं  हैवरन् वह साधन है।" प्रयोगवादी कवि ने भावुकता के स्थान 
पर बौद्धिकता को काव्य में स्थान दिया और जीवन की निराशाकुंठा,
अनास्था,जड़ता एवं संघर्ष को अभिव्यक्ति प्रदान की। दमित कामवासना 
के चित्र भी इस काव्य उपलब्ध होते हैं। लघुमानव को पूर्ण गरिमा के साथ 

प्रतिष्ठित करने का श्रेय भी प्रयोगवादी कवियों को दिया जाता है।  
                        
                              प्रयोगवाद का विकास ही कालांतर में 'नई कविताके

रूप में हुआ। डॉशिवकुमार शर्मा के अनुसार -   "ये दोनों एक ही धारा 

के विकास की दो अवस्थाएं हैं। सन् 1943 से 1953 तक कविता में

जो नवीन प्रयोग हुएनई कविता उन्हीं का परिणाम है। प्रयोगवाद उस
        
काव्यधारा की आरंभिक अवस्था है और नई कविता उसकी विकसित            
अवस्था।" 'प्रयोगवादऔर 'नई कवितामें कोई सीमा रेखा नहीं खींची जा
सकती। बहुत से कवि जो पहले प्रयोगवादी रहेबाद में नई कविता के प्रमुख          
हस्ताक्षर बन गए। इस प्रकार ये दोनों एक ही काव्य धारा के विकास की दो            
अवस्थाएं हैं। निष्कर्ष रूप में 1943 से 1953 तक की कविता को प्रयोगवाद 
        
एवं 1953 के बाद की कविता को नई कविता की संज्ञा दी जा सकती है। 

                        
हिंदी की नई कविता का कथ्य परंपरा से भिन्न है। नवीन विषयों की नवीन 

शैली में अभिव्यक्ति होने के नवीनता को इसकी प्रमुख विशेषता माना जा 

सकता है। इसके अतिरिक्त बौद्धिकताक्षणिकता और मुक्त यथार्थवाद 

को भी नई कविता की विशेषताओं में समाविष्ट किया जा सकता है।


प्रमुख कवि
       
तार सप्तक का प्रकाशन अज्ञेय के संपादकत्व में सन् 1943 में हुआ। इस             
संग्रह से प्रयोगवादी काव्य का आरंभ माना जाता है। इसमें जिन सात कवियों         
की रचनाएं संकलित थी,उनके नाम है -  नेमीचंद जैनगजानन माधव
       
मुक्तिबोधभारत भूषण अग्रवालप्रभाकर माचवेगिरिजाकुमार माथुर,         
रामविलास शर्मा तथा सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय। 

       
दूसरा सप्तक सन् 1951 में अज्ञेय के संपादकत्व में प्रकाशित हुआ। इस             
सप्तक में जिन अन्य सात कवियों की रचनाएं संकलित हैउनके नाम है -            
भवानी प्रसाद मिश्रशकुंतला माथुरहरिनारायण व्यासशमशेर 

बहादुर सिंह , नरेश मेहतारघुवीर सहाय तथा धर्मवीर भारती। 

अज्ञेय के संपादकत्व में ही सन् 1959 में तीसरा सप्तक प्रकाशित हुआ।           
तीसरे सप्तक में जिन सात कवियों की रचनाएं संकलित की गई उनके नाम 

है प्रयाग नारायण त्रिपाठीकीर्ति चौधरीकेदारनाथ सिंह,

कुंवर नारायणमदन वात्स्यायन,  विजयदेव नारायणसर्वेश्वरदयाल 

सक्सेना।   नई कविता के कुछ प्रमुख हस्ताक्षर हैं – 

कुंवर नारायणदुष्यंत कुमारअजीत कुमारप्रभाकर माचवेसर्वेश्वर

दयाल सक्सेना,कीर्ति चौधरीलक्ष्मीकांत वर्माविजयदेव नारायण साही,                              
बालकृष्णरावआदि। नई कविता के प्रचार-प्रसार का श्रेय कुछ पत्रिकाओं

को भी दिया जा सकता है,जिनमें प्रमुख है'प्रतीकजो अज्ञेय के संपादकत्व 

में प्रकाशित हुई तथा डॉ जगदीश गुप्त के संपादन में सन् 1954 से प्रारंभ

 'नई कवितानामक पत्रिका।  निकषपाटलकल्पनादृष्टिकोण आदि वे 

पत्रिकाएं हैं जिन्होंने नई कविता को बढ़ावा दिया है। 

        
               
        
     नई कविता की प्रमुख प्रवृत्तियां      
  •  नवीनता  
  •  बौद्धिकता 
  •  अतिशय वैयक्तिकता
  •  क्षणवादिता 
  •  भोगवाद एवं वासना
  •  आधुनिक युग बोध
  •  यथार्थवादिता
  •  प्रणयानुभूति
  •  लोक संस्कृति
  •  शिल्प विधान


                               प्रयोगवादी कृतियाँ

            
अज्ञेय                                     संपादन- तारसप्तक,इत्यलम
                                                         
दूसरा सप्तक,हरी घास पर क्षण भर

  
           
गिरिजाकुमार माथुर                   नाश और निर्माण

  

            धर्मवीर भारती                           ठंडा लोहा


                       नई कविता के प्रमुख कवि और उनकी कृतियां


                 
कवि                                                    रचनाएं



           
सच्चिदानंद हीरानंद                            संपादन- दिनमान, प्रतीक,
           
वात्स्यायन अज्ञेय                                 नवभारत टाइम्स,एव्रीमेंस,
                                                                 
तार सप्तक, दूसरा सप्तक,
                                                                 
तीसरा सप्तक काव्यकृतियां -
                                                                
 इत्यलम,चिंताआंगन के पार द्वार,
                                                                 
हरी घास पर क्षण भर,बावरा अहेरी,
                                                                 
इन्द्रधनु रौंदे हुए ये, असाध्य वीणा,
                                                               
अरी करुणा प्रभामय, सागर मुद्रा,
                                                                 
कितनी नावों में कितनी बार,
                                                                 
महावृक्ष क्योंकि मैं उसे जानता हूं,
                                                                 
नदी की बांक पर छाया, सावन मेघ,
                                                                 
महावृक्ष के नीचे, पहले मैं सन्नाटा बुनता हूँ। 

           
गजानन माधव मुक्तिबोध                     चांद का मुंह टेढ़ा है,
                                                                 
भूरी भूरी खाक धूल

           
गिरिजा कुमार माथुर                           मंजीर, नाश और निर्माण, पृथ्वीकल्प, 
                                                                 धूप के धान, साक्षी रहे वर्तमान,
                                                                 
भीतरी नदी की यात्रा, कल्पान्तर,
                                                                 
शिलापंख चमकीले, छाया मत छूना
                                 

      भवानी प्रसाद मिश्र                              गीत फरोश, चकित है दुख,
                                                            
बुनी हुई रस्सी, व्यक्तिगत,
                                                            
कमल के फूल, वाणी की दीनता,
                                                            
टूटने का सुख,सतपुड़ा के जंगल,
                                                            
सन्नाटा,अंधेरी कविताएं,गांधी पंचशती,
                                                            
परिवर्तन जिए, खुशबू के शिलालेख,
                           
                                  कालजयी,अनाम तुम आते हो,
                                                             
इदं  मम, शतदल
      
       धर्मवीर भारती                                 अंधा युग,सात गीत वर्ष,
                                                           
ठंडा लोहा, कनुप्रिया,देशांतर,
                                                           
सपना अभी भी, आद्यंत


        
नरेश मेहता                                   वनपांखी सुनो,बोलने दो चीड़ को,
                                                           
पिछले दिनों नंगे पैरों,महाप्रस्थान,
                                                           
मेरा समर्पित एकांत ,उत्सव ,
                                                           
तुम मेरा मौन हो, देखना एक दिन,
                                                           
आखिर समुंदर से तात्पर्य, शबरी,
                                                           
अरण्या, संशय की एक रात,
                                                           
प्रबाद पर्व, प्रार्थना पुरुष



       
सर्वेश्वरदयाल सक्सेना                       काठ की घंटियां,बांस का पुल,
                                                          
एक सूनी नाव, कुआनो नदी,
                                                          
गर्म हवाएं, जंगल का दर्द,
                                                          
खूटियों पर टंगे लोग

  कुंवर नारायण                                चक्रव्यूह, परिवेश हम तुम
                                                     
आत्मजयी, आमने-सामने
                                                     
तीसरा सप्तक में संकलित कविताएं
                                                     
कोई दूसरा नही

  
शमशेर बहादुर                               दूसरा सप्तक में संकलित कविताएं,
                                                     
चुका भी नहीं हूं,मैं इतने पास अपने,
                                                     
काल तुझसे होड़ मेरी,कुछ कविताएँ
                                                     
बात बोले भी हम नहीं, उदिता
                                                     
कुछ और कविताएँ

 
जगदीश गुप्त                                 नाव के पांव,शब्द दंश, हिम बिद्ध,
                                                     
गोपा गौतम, बोधि वृक्ष, शम्बूक
                                                     
छन्दशती, युग्म

  
बालकृष्ण राव                                अर्द्धशती

  
वीरेंद्र कुमार जैन                             शून्य पुरुष और वस्तुएँ
                                                     
अनागत की आंखें 

  
शंभूनाथ सिंह                                  माध्यम मैं, खंडित सेतु

  
प्रभाकर माचवे                                स्वपन भंग, अनुक्षण, मेपल

  
हरिनारायण व्यास                            मृग और तृष्णा

 
विजयदेव नारायण शाही                     मछली घर


    नयी कविता के अन्य कवि और उनकी प्रतिनिधि कृतियां

       
कवि                                               रचनाएं


  
दुष्यंत कुमार                                सूर्य का स्वागत,आवाजों के घेरे,
                                                    
जलते हुए पवन का वंसत,
                                                    
साये में धूप, एक कंठ विषपायी

 
श्रीकांत वर्मा                                  दिनारंभ,भड़का मेघ,माया दर्पण,
                                                    
जलसागर, मगध

 
रघुवीर सहाय                                सीढ़ियों पर धूप में,
                                                   
आत्महत्यारे के विरुद्ध,
                                                    
हंसो हंसो जल्दी हंसो, लोग भूल गए हैं

 
डॉ.देवराज                                    इतिहास पुरुष

 
विजयदेव नारायण साही                  मछली घर

 
हरिनारायण व्यास                          मृग और तृष्ण

 
अजीत कुमार                               अंकित होने दो, अकेले कंठ की पुकार

 
राजकमल चौधरी                           मुक्ति प्रसंग, कंकावती

 
लक्ष्मीकांत वर्मा                              अतुकांत, तीसरा पक्ष


             कीर्ति चौधरी                                 कविताएं

             रामदरश मिश्र                               बैरंग बेनाम चिट्ठियां,पक गई है धूप

             
रणजीत                                        इतिहास का दर्द

             
धूमिल                                          संसद से सड़क तक

             
लीलाधर जूंगड़ी                             नाटक जारी है

             
चंद्रकांत देवताले                            दीवारों पर खून से

             
बालस्वरूप राही                            जो नितांत मेरी है

             
नरेंद्र मोहन                                   इस हादसे में

             
विजयेन्द्र                                       त्रासचैत की टहनी,
                                                               
ये आकृतियाँ तुम्हारी

            
ऋतुराज                                        अंगीरस , अबेकस

            
विष्णुचंद्र शर्मा                                आकाश विभाजित है

            
कुंवर नारायण                                चक्रव्यूहपरिवेश हम तुम,
                                                               
आत्मजयी

            
ठाकुर प्रसाद सिंह                           वंशी और मादल

            
राजीव सक्सेना                               आत्म निर्वासन तथा अन्य कविताएं

            
केदारनाथ सिंह                               अभी बिल्कुल अभी

            
राजेंद्र प्रसाद सिंह                            उजली कसौटी




Post a comment

1 Comments

  1. अच्छी जानकारी।

    ओर जानने के लिये देखें- https://hindigrema.blogspot.com/2020/05/history-of-hindi-literature-experimentalism.html

    ReplyDelete