Friday, 14 June 2019

Pooja

हिन्दी नवगीत


navgeet ke kavi , hindi navgeet ke kavi
navgeet ke kavi


                                    हिन्दी नवगीत परम्परा

                       नवगीत परंपरा का प्रारंभ डॉशंभूनाथ सिंह1960 .के 
उपरांत स्वीकार करते हैं।  उनके अनुसार अज्ञेय जी ही नवगीत परम्परा के
सूत्रधार थे।सत्य तो यह है कि नवगीत नई कविता का गीतात्मक रूप
है। गीतात्मकता कविता का इतना शक्तिशाली तत्व है कि नई कविता भी 
इसे छोड़ नहीं सकी। यही गीतात्मकता जब नयी कविता से जुड़ गयी तो 
'नवगीतकही जाने लगी। अज्ञेयशंभूनाथ सिंहनरेश मेहताधर्मवीर 
भारतीकेदारनाथ अग्रवालठाकुर प्रसाद सिंहवीरेंद्र मिश्रकैलाश 
वाजपेयीश्रीकांत वर्मारमेश रंजक आदि के नवगीत के विकास में
महत्वपूर्ण योगदान दिया है। 

                           
नवगीत की पहली बार विशद चर्चा राजेंद्र प्रसाद सिंह
 द्वारा संपादित गीतांगिनी (1958) में हुई। इन्हें ही नवगीत नामकरण का श्रेय
 दिया जाना चाहिए। जीवन प्रकाश जोशी ने  केदारनाथ अग्रवाल तथा
 ठाकुर प्रसाद सिंह को नवगीत के आरम्भकर्ता का श्रेय दिया हैजबकि 
 कुछ अन्य लोग उमाकांत मालवीय को नवगीत का जनक मानते है  
 निष्कर्ष यह है कि इस संबंध में विद्वान एकमत नहीं है।                          

                                  राजेंद्र प्रसाद सिंह के नवगीत के पांच तत्व 
 स्वीकार किए हैं - जीवन दर्शन,  आत्मनिष्ठा , व्यक्तित्व बोधप्रतितत्व
 परिसंचय

        
नवगीत की प्रमुख परिभाषाएं

 
डॉपीरामन का कथन है-    
                                          “गीत कभी नया नहीं होता। गीता परम्परा
    से अपने को समन्वित कर पाने में असमर्थ पाने वाले नयेपन के आग्रही 
    साहित्यकार की हीनभावना तथा भावलयरामलयआदि के अभाव 
    में आंतरिक ग्रंथि को अभिव्यक्त करने वाली भ्रमित संज्ञा मात्र है।"




नवगीत के  समर्थक डॉरामदरश मिश्र केअनुसार - 
                                                                             "नयेपन की         
       इयन्ता को स्पष्ट करने के संबंध में आज के गीतों का नवगीत नाम 
       स्वर्थक हो सकता हैकिंतु फिर भी लगता है कि यह एक आंदोलन 
       बन गया है,क्योंकि नवगीत अपने को समूची नई कविता का अंग  
       मानकर स्वयं में पूर्ण समझ रहा है तथा अनेक सम्मेलनी गवैये 
       गीतकार गीत को नवगीत बना देने वाले कुछ उपकरणों को चुन-
       चुनकर सायास आयोजन द्वारा नवगीत रचना कर रहे हैं।"

डॉरामदरश मिश्र - 
                                 "अनुभूति की सच्चाईनवीन सौंदर्य बोधआकार   
   लघुतानवीन बिंब प्रतीकउपमान योजनाइसकी सामान्य विशिष्टता हैं। 
   इन सभी गीतों में लोक जीवन का रस हैं।"

                                              नवगीत की चर्चा 1960 से होने लगी थी। नवगीत संबंधीआलेख वाराणसी की 'वासंतीमें और ज्योत्स्ना,आजकल
 ज्ञानोदय आदि पत्रिकाओं में छपे। नामवर सिंहविद्यानिवास मिश्ररवींद्र 
 भ्रमर के लेखों के नवगीत के स्वरूप को स्पष्ट करने में सहायता पहुंचाई। 
 कुछ नवगीतकारों के स्वतंत्र गीत संग्रह इस प्रकार हैं:


 हाइकू
        
हाइकू जापानी कविता का एक छंद है। यह हिंदी में भी अब प्रयुक्त होने लगा है।
उन कविताओं को हाइकू कविताएं कहा जाता है जो केवल तीन पंक्तियों की होती 
हैं। इसकी प्रथम पंक्ति में पांच वर्णद्वितीय पंक्ति में सात वर्ण तथा तृतीय पंक्ति में
पुनः पांच वर्ण होते हैं। इस प्रकार यह 17 वर्ण वाला एक वर्णिक छंद है। हिंदी में 
डॉसत्य भूषण वर्मा ने हाइकू कविताएं प्रचुर मात्रा में लिखीं हैं। उनके अतिरिक्त 
हाइकू कविता लिखने वालों के नाम हैं - डॉभगवतशरण अग्रवाल,
डॉ.कमलेश भट्ट 'कमल', डॉसुधा गुप्ता, प्रभास शर्मा आदि डॉकमलेश भट्ट
के दो हाइकू संकलन हाइकू1989, हाइकू 1999  प्रकाशित हो चुके हैं।

                             
                          
                       
                             
                          सन 1975 के बाद के प्रमुख गीतिकाव्य

                 
कवि                                                 गीतिकाव्य


              
वीरेंद्र मिश्र                                  झुलसा है छाया वट धूप में, गीतम

              
अनूप अशेष                               लौट आयेगें सगुन पंक्षी

             
कुंवर बेचैन                                 भीतर सांकल बाहर सांकल,
                                                              
पिन बहुत सारे

              
देवेंद्र शर्मा इंद                             पथरीले शोर में, पंख कटी मेहरावे,
                                                              
यात्रा में साथ साथ (सम्पादित)

              
शंभूनाथ सिंह                               दर्द जहां मिला है, नवगीत दशक-
                                                              1,2,3 (
सम्पादित), 
                                                               नवगीत अर्धशती(सम्पादित)

              
माहेश्वर तिवारी                             हरसिंगार कोई तो हो

              
उमाकांत मालवीय                        सुबह रक्त पलाश की

              
नचिकेता                                    आदमकद खबरें

              
रमानाथ अवस्थी                           बंद करना द्वार

             
रमेश रंजक                                मिट्टी बोलती है,दरिया का पानी,
                                                             
इतिहास दोबारा लिखो,
                                                              
रमेश रंजक के लोकगीत

              ओमप्रभाकर                               पुष्पचरित

              
रामदरश मिश्र                            मेरे प्रिय गीत

              
रवींद्र भ्रमर                                सोन मछली मन बंसी

              
राजेंद्र गौतम                              गति पर्व क्या है

             
नईम                                        पथराई आंखें

              
रामकुमार कृषक                        सुर्खियों के स्याह चेहरे

              
शांति सुमन                                प्रतीक्षित, परछाई टूटती

              
बालस्वरूप राही                        जो नितांत मेरी है

              
देवेंद्र शर्मा इंद्र                           कुहरे की प्रत्यंचा

             
विनोद निगम                             जारी है लेकिन यात्राएँ

              
सत्यनारायण                              तुम ना नहीं कर सकते

             
श्रीकृष्ण तिवारी                           सन्नाटे की झील

              
बुद्धिनाथ मिश्र                            जाल फेंक रे मछेरे

              कुमार रविंद्र                              आहत है वन, चेहरों के अंतरीप

              
योगेश दत्त शर्मा                          खुशबुओं के देश

             
राम सेंगर                                  शेष रहने के लिए

              
उमाशंकर तिवारी                       धूपघड़ी

              
अनूप अशेष                              वह मेरे गाँव की हंसी थी

             
राजेंद्र प्रसाद सिंह                        आओ खुली बयार

             
रामदरश मिश्र                             पथ के गीत, वैरंग बेनाम चिट्ठियां

             
वीरेंद्र मिश्र                                  वाणी के कलाकार, कापती बांसुरी,
                                                            
अविराम चल मधुवती

             
रमेश शंकर                                हरापन नहीं टूटेगा

             
सोम ठाकुर                                 एक ऋचा पाटल की

            
असीम शुक्ल                               कल्पवृक्ष गमले में

             
रमेश रंजक                                किरन के पांव

             
देवेंद्र शर्मा इंद्र                            चुप्पियों की पैंजनी

           
ओमप्रकाश सिंह                          गीत मेरे गीत

           
चन्द्रसेन विराट                            पलकों में आकाश, पीले चावल द्वार पर

            
चन्द्र देवसिंह                               पांच जोड़ बांसुरी

            
डॉ. रामसनेहीलाल                       मन पलाशवन और दहकती संध्या
           
शर्मा 'यायावर'

            
मधुसूदन साहा                            सात हाथ सेतु के





Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :