Monday, 24 June 2019

Pooja

vakrokti siddhant | वक्रोक्ति सिद्धांत

वक्रोक्ति , kavya shastra ki hindi
vakrokti siddhant



                                            वक्रोक्ति सिद्धांत (संप्रदाय)

                            वक्रोक्ति संप्रदाय का प्रवर्तक आचार्य कुंतक को माना गया
       है| उन्होंने अपने ग्रंथ 'वक्रोक्ति जीवितमें वक्रोक्ति को काव्य का तत्व
        स्वीकार करते हुए इसे काव्य की आत्मा कहा है।  

                                                                                                                                            
        
       वक्रोक्ति का अर्थ
                  
       वक्रोक्ति शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है - वक्र + उक्ति। वक्र का अर्थ - 
        कुटिल या विलक्षण और उक्ति का अर्थकथन अतः  वक्रोक्ति से अभिप्राय
        हैं- बांकपन या विलक्षणता से भरा हुआ कथन। 
        
       वक्रोक्ति का इतिहास
  
        काव्यशास्त्र में वक्रोक्ति का प्रयोग प्रारंभ से ही होता रहा है। अलंकारवादी
        आचार्य भामह,दण्डी आदि ने वक्रोक्ति का निरुपण करने का प्रयास किया 
        है। भामह वक्रोक्ति को अतिशयोक्ति का पर्यायवाची स्वीकार करते हैं। उन्होंने
        सभी अलंकारों के मूल में वक्रोक्ति को ही स्वीकार किया है:
                          "सैषा सर्वत्र वक्रोक्तिरनयार्थो विभाव्यते।"
  
       आचार्य दण्डी ने काव्य को दो भागों में विभक्त किया हैस्वभावोक्ति और 
        वक्रोक्ति वक्रोक्ति को वे अर्थालंकारों को सामूहिक रूप मानते हैं और श्लेष 
       इस वक्रोक्ति के सौन्दर्य में वृद्धि करता है।आचार्य वामन ने वक्रोक्ति को एक 
       दूसरे के ही रुप में स्वीकार करते हैं।उन्होंने वक्रोक्ति को अर्थालंकारों में से एक
       विशेष अलंकार माना है और निम्न परिभाषा इस प्रकार :-
    
                                " सादृश्यात् लक्षण वक्रोक्ति: "
         अर्थात सादृश्य पर आश्रित लक्षण ( गौणी लक्षणही वक्रोक्ति है 
       
       आचार्य रुद्रट ने वक्रोक्ति को एक अलंकार मानकर इसके दो भेद किए -
       काकु वक्रोक्ति और श्लेष वक्रोक्ति। ध्वनिवादी आचार्य आनंदवर्धन और 
       अभिनव गुप्त ने वक्रोक्ति को पुनः महत्व प्रदान किया है|

      
      ध्वनिवादी आचार्य कुंतक
  
       आचार्य कुंतक ने अपने ग्रंथ 'वक्रोक्ति जीवितम्में वक्रोक्ति के स्वरूप और 
        महत्व की व्याख्या की है ।इसे काव्य का प्राण तत्व मानते हुए कहा है:-
                               
                                  ' वक्रोक्तिकाव्य जीवितम् '
        अर्थात वक्रोक्ति काव्य की आत्मा है। वक्रोक्ति की परिभाषा करते हुए वे 
         लिखते हैं:-
                          
वक्रोक्तिरेव वैदग्ध्यभंगी भणितिरुच्यते। '

          अर्थात वैदग्ध्यपूर्ण विचित्र उक्ति ही वक्रोक्ति है, वैदग्ध्य का अर्थ-
         विलक्षणता,भंगी का अर्थभंगिमा और भणिति का अर्थकथन। इस 
          प्रकार वक्रोक्ति का अर्थ हैकथन की वह भंगिमाजो विलक्षणता 
          से युक्त हो कुंतक ने वक्रोक्ति के लिए काव्य में तीन बातों को जरूरी माना
          है-  कवि कौशलचमत्कार और उक्ति

       वक्रोक्ति के भेद
       आचार्य कुंतक ने वक्रोक्ति के भेदो के बारे में बताया है-
           
         1. वर्ण विन्यास वक्रता
         2. 
पद पूर्वार्द्ध वक्रता
         3. 
पद परार्द्ध वक्रता
         4. 
वाक्य वक्रता
         5. 
प्रकरण वक्रता
         6. 
प्रबंध वक्रता


       वक्रोक्ति सिद्धांत और अभिव्यंजनावाद
  
       आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने पाश्चात्य अभिव्यंजनावाद को भारतीय वक्रोक्ति 
       सिद्धांत का विलायती उत्थान बताया है। पाश्चात्य समीक्षाशास्त्र में 
       अभिव्यंजनावाद पर विचार करने का श्रेय इटली के विद्वान 'क्रोचेको है।                                            क्रोचे की मान्यता थी कि कला का संबंध स्वयं प्रकाश 
        ज्ञान से हैजबकि कुंतक शास्त्रीय ज्ञान को भी कला से संबंधित मानते हैं। 
        क्रोचे ने उक्ति की सहजता और स्वभाविकता में काव्य सौंदर्य माना हैजबकि 
        कुंतक वक्रता या विचित्रता को ही सौन्दर्य का मूल आधार स्वीकार करते हैं। 
        क्रोचे ने मानसिक अभिव्यंजना को प्रमुख माना है तथा वाच्य अभिव्यक्ति उनके
       लिए गौण है जबकि कुंतक ने वाच्य ( शाब्दिकअभिव्यक्ति की ही चर्चा की 
        है। वे क्रोचे की तरह मानसिक अभिव्यक्ति की कल्पना नहीं करते हैं।


                                            

Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :