Monday, 24 June 2019

Pooja

Kavya Prayojan | काव्य प्रयोजन

काव्य प्रयोजन , kavya prayojan
काव्य प्रयोजन
                                                                 


                                                   काव्य प्रयोजन 

                           
                                  काव्य प्रयोजन से तात्पर्य है -  काव्य रचना का उद्देश्य 
       काव्य किस उद्देश्य से लिखा जाता है और किस उद्देश्य से पढ़ा जाता है। इसे 
       दृष्टिगत रखकर काव्य प्रयोजनों पर कवि और पाठक की दृष्टि से विचार-विमर्श 
       काव्यशास्त्र में किया गया है।  काव्य प्रयोजन पर विचार करते हुए संस्कृत 
       आचार्यों के मत इस प्रकार प्रस्तुत है-
   1. भरतमुनि-  आचार्य भरतमुनि के समय पर नाट्य और काव्य में कोई अंतर नहीं
        था। अतउन्होंने जो प्रयोजन बताए हैं वह नाट्य के संदर्भ में हैंपरन्तु फिर भी 
        इसे काव्य के संदर्भ में देखा जा सकता है। उन्होंने अपने ग्रंथ 'नाट्यशास्त्रमें 
        काव्य प्रयोजन का उल्लेख इस प्रकार किया है:-
                                                                        " 
यह नाटक लोक में 
             दुखश्रमशोक से पीड़ित लोगों तथा तपस्वियों को विश्राम प्रदान 
             करने वाला होगा तथा यह धर्मयशआयु , कल्याण और लोगो 
             को उपदेश प्रदान करेगा। "
  
  2. आचार्य भामह -  उन्होंने काव्य प्रयोजन के दो आधार माने है  - कवि और
       पाठक। केवल पाठक का आधार बनाकर वे लिखते हैं-
                                                                                  
उत्तम काव्य
            की रचना धर्मअर्थकाममोक्षकलाओं में दक्षता कीर्ति (आनंद
             प्रदान करती है। "
  
  3. आचार्य वामन आचार्य वामन ने काव्य का प्रयोजन सहृदय पाठक द्वारा काव्य
       से प्राप्त आनंद की प्रत्यक्ष प्रीति या अनुभूति तथा कवि  द्वारा काव्य सृजन से 
       अर्जित कीर्ति या यश आदि को काव्य का प्रयोजन स्वीकार करते हैं। इसे निम्न
       प्रकार से समझा जा सकता है :-  आनंद अथवा प्रीति जो द्रष्टा का प्रयोजन है  
       (पाठक) , कीर्ति अथवा यश जो अद्रष्टा काव्य प्रयोजन है ( कवि)

  4. आनंदवर्धन -  उन्होंने काव्य प्रयोजन पर अलग से विचार नहीं किया। वे ध्वनि
       सिद्धांत की स्थापना का परिचय देते हुए लिखते है -
                                                                             "  सहृदयजनों का 
                 मनोरंजन काव्य का उद्देश्य है। यह मनोरंजन तथा आनंद काव्य 
                 के शरीर से उत्पन्न नहीं होता। अपितु पाठक अथवा श्रोता के मन
               की स्वभाविक प्रक्रिया है। "

  5. रुद्रट -  आचार्य रुद्रट ने अन्य आचार्यों की अपेक्षा काव्य प्रयोजन का अधिक
       विस्तार से वर्णन किया है। वह काव्य प्रयोजन पर विचार करते हुए कवि और 
       वर्णीय नायक के यश को काव्य का प्रमुख प्रयोजन बताते हैं। उनके 
       अनुसार-
                       " अलंकारों के कारण दैत्यमान और दोषों के न होने के 
          कारण निर्मल रचना का निर्माता महाकवि सरस काव्य की रचना 
          करता हुआ अपने तथा नायक के प्रत्यक्ष युगों तक रहने वाले रस
         विस्तार करता है। "

  6. आचार्य महिमभट्ट-  महिमभट्ट ने प्रयोजन की दृष्टि से शास्त्र और काव्य दोनों 
       में कोई अंतर नहीं किया। दोनों का एक ही प्रयोजन हैउचित और अनुचित 
       के विवेक का उद्देश्य काव्य में शास्त्र उपदेश रमणीय और रसात्मक रूप में 
       प्रस्तुत होता है। 
  7. आचार्य मम्मट -  आचार्य मम्मट में काव्य प्रयोजन बताए हैं। जो इस प्रकार
       हैं -  यश प्राप्तिअर्थ प्राप्तिलोक व्यवहार ज्ञान , अनिष्ट का निवारण या
       लोकमंगलआत्मशांति या आनंदोपलब्धि तथा कांतासम्मित उपदेश। 
        इनमें से काव्य की रचना करने वाले कवि के प्रयोजन हैंयश प्राप्तिअर्थ 
       प्राप्तिआत्मशांति तथा काव्य का अस्वादन करने वाले पाठक के काव्य 
       प्रयोजन हैअमंगल की शांतिआनन्दोपलब्धि और कांतासम्मित उपदेश।

     
      हिंदी आचार्यों का काव्य प्रयोजन पर विचार
 
 1. गोस्वामी तुलसीदास -  रामचरितमानस में तुलसीदास ने दो स्थानों पर काव्य
     प्रयोजन की चर्चा की है-
                                     " स्वान्तसुखाय तुलसी रघुनाथगाथा "
      
                                      " कीरति भनिति भूति भल सोई।
                                         
सुरसरि सम सब कहं हित होई।। "
        
       वे काव्य के दो प्रयोजन मानते हैं-  स्वान्त:  सुखाय और लोकमंगल  वही
       कविता श्रेष्ठ होती है जो गंगा के समान सबका हित करने वाली हो। 
 
  2. मैथिलीशरण गुप्त - गुप्त जी काव्य का प्रयोजन केवल मनोरंजन नहीं अपितु
       उपदेश स्वीकार करते हुए लिखते हैं-
          
                     "  केवल मनोरंजन  कवि कर्म होना चाहिए।
                         
उसमें उचित उपदेश का भी मर्म होना चाहिए।।"
       इस प्रकार वे 'कलाकला के लिएसिद्धांत का भी खंडन करते हुए कहते हैं 
       कि कला का लोकहित के लिए होनी चाहिए
                       मानते हैं जो कला को बस कला के अर्थ ही।
                          
स्वार्थिनी करते कला को व्यर्थ ही।। "
  3. आचार्य रामचंद्र शुक्ल शुक्ल जी ने काव्य का प्रमुख प्रयोजन रसानुभूति को
        माना  हैं। उनके अनुसार - 
                                              कविता का अंतिम लक्ष्य जगत में मार्मिक
           पक्षों का प्रत्यक्षीकरण करके उसके साथ मनुष्य हृदय का सामंजस्य
            स्थापन है। "
       
        प्रेमचंद के अनुसार-
                                       " साहित्य का उद्देश्य हमारा मनोरंजन करना नहीं 
                 है। यह काम तो भाटोंमदारियोंविदूषकों और मसखरों का है। 
                 साहित्यकार का पद इनसे बहुत ऊंचा है वह हमारे विवेक को जाग्रत 
                 करता हैहमारी आत्मा को तेजोद्दीप्त बनाता है। "

   
                                                 

Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :