Monday, 24 June 2019

Pooja

Kavya Hetu | काव्य हेतु

 
kavya hetu , काव्य के हेतु
kavya hetu


                 
                                                      काव्य हेतु


                                 हेतु का शाब्दिक अर्थ है -  कारणअतः काव्य हेतु का
       अर्थ हुआ काव्य की उत्पत्ति का कारण। काव्य 'कार्यऔर हेतु  'कारण
       है। भारतीय काव्यशास्त्र में काव्य हेतु पर विचार करते हुए तीन काव्य हेतु
      माने गए हैं-

    1. प्रतिभा 
        
         प्रतिभा वह शक्ति है जो किसी व्यक्ति को काव्य रचना में समर्थ बनाती है।
         राजशेखर ने प्रतिभा के स्वरूप को स्पष्ट करते हुए कहा है-   
                           
                                     सा शक्तिकेवल काव्य हेतु: 

        आचार्य भट्टतीति के अनुसार प्रतिभा उस प्रज्ञा का नाम है जो नित नवीन 
        रसानुकूल विचार उत्पन्न करती है
                     
                             ' प्रज्ञा नवनवोन्मेषशालिनी प्रतिभा मता:'

       आचार्य कुंतक ने प्रतिभा उस शक्ति को माना है जो शब्द और अर्थ में अपूर्व 
       सौंदर्य की सृष्टि करती हैनाना प्रकार के अलंकारोंउक्ति वैचित्र्य आदि का
       विधान करती है। आचार्य मम्मट ने प्रतिभा को एक नया नाम दिया है।
                             वे इसे शक्ति कहते हैं और काव्य का बीज स्वीकार करते 
       हैं जिसके बिना काव्य की रचना असंभव है।
                             
                           ' शक्ति:  कवित्व बीज रूप:  संस्कार विशेष:'
       
       अर्थात शक्ति (प्रतिभाकवित्व का बीजरूप संस्कार विशेष है जिसके
       बिना काव्य सृजन नहीं हो सकता।


  2. व्युत्पत्ति
 
       व्युत्पत्ति का शाब्दिक अर्थ है - निपुणतापांडित्य या विद्वत्ता।  ज्ञान की 
       उपलब्धि को भी व्युत्पत्ति कहा गया है। विद्वानों का मत है कि साहित्य के गहन
       चिंतन-मनन से कवि की उक्ति में सौन्दर्य का समावेश हो जाता है और उसकी
       रचना सुव्यवस्थित हो जाती है। रुद्रट ने कहा है कि छंदव्याकरणकलापद 
       और पदार्थ के उचित-अनुचित का सम्यक् ज्ञान ही व्युत्पत्ति कहा जाता है।
       आचार्य मम्मट ने व्युत्पत्ति को एक नया नाम दिया हैनिपुणता। यह निपुणता 
       चराचर जगत के निरीक्षण और काव्य आदि के अध्ययन से प्राप्त होती है। 
       राजशेखर के अनुसार -
                                               'उचितानुचित विवेकौ व्युत्पत्ति:'
       अर्थात उचित-अनुचित का विवेक ही व्युत्पत्ति है। व्युत्पत्ति दो प्रकार की होती 
       है-  शास्त्रीय और लौकिक। शास्त्रीय व्युत्पत्ति शास्त्रों के अध्ययन से तथा लौकिक
       व्युत्पत्ति लोक के निरीक्षण से उत्पन्न होती है। 
  3. अभ्यास 
       काव्य निर्माण का तीसरा हेतु अभ्यास है। आचार्य वामन ने अभ्यास का महत्व
       देते हुए कहा है-
                               
अभ्यासोहि कर्मसु कौशलं भावहिति। '
       अर्थात अभ्यास के द्वारा ही कवि कर्म में कुशलता प्राप्त की जा सकती है। 
       आचार्य दण्डी ने अभ्यास को ही काव्य का प्रमुख हेतु माना है। उन्होंने कहा हैं 
       कि प्रतिभा और व्युत्पत्ति के अभाव में केवल अभ्यास से ही काव्य रचना में
       कोई कुशल हो सकता है।  उनका मानना है कि निरतंर कवि कर्म का अभ्यास
       करते रहना चाहिए।  अभ्यास के महत्व को निम्न शब्दों में माना है-
   
                       " करत-करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान।
                          
रसरी आवत जात तें सिल पर परत निसान।। "

       संस्कृत काव्यशास्त्र में आचार्यों ने काव्य हेतु पर अपने मत प्रस्तुत किए हैं। 
       जो इस प्रकार है:-

  1. आचार्य भामह - आचार्य भामह ने अपने ग्रंथ 'काव्यालंकार' में स्वीकार किया 
       है कि काव्य तो किसी प्रतिभाशाली द्वारा ही रचा जा सकता है। भामह प्रतिभा के
       साथ साथ व्युत्पत्ति (शास्त्र ज्ञानएवं अभ्यास को भी काव्य हेतुओं में स्थान दिया 
       है। 
 2. आचार्य दण्डी - आचार्य दण्डी ने अपने ग्रंथ काव्यदर्श ' में प्रतिभाआनंद 
     अभियोग (अभ्यासऔर लोक व्यवहार एवं शास्त्र ज्ञान को काव्य हेतुओं के
      रूप में माना है उनके अनुसार-
                            
                   ' नैसर्गिकी  प्रतिभा श्रुतं  बहु निर्मलम्।                           
                       आनन्दाश्चयाभियोगो अस्याकारणं काव्य सम्पदा।। '
 3. आचार्य वामन - आचार्य वामन ने अपने ग्रंथ 'काव्यालंकार सूत्रवृत्तिमें प्रतिभा 
      को जन्मजात गुण मानते हुए इसे प्रमुख काव्य हेतु माना है-
   
                        " कवित्व बीजं प्रतिभानं कवित्वस्य बीजम् "
  
      वे लोक व्यवहारशास्त्रज्ञानशब्दकोश आदि की जानकारी को भी काव्य हेतु में
      स्थान देते हैं। 

 4. आचार्य रुद्रट - आचार्य रुद्रट ने अपने ग्रंथ 'काव्यालंकारमें प्रतिभाव्युत्पत्ति 
     और अभ्यास को काव्य हेतु माना है। वह प्रतिभा के दो भेद मानते हैं-  सहजा 
     और उत्पाद्या  सहजा प्रतिभा कवि में जन्मजात होती है और यही काव्य 
      निर्माण का मूल हेतु हैजबकि उत्पाद्या प्रतिभा लोकशास्त्र एवं अभ्यास से
     व्युत्पन्न होती है।

 5. आचार्य मम्मट - आचार्य मम्मट ने अपने ग्रंथ 'काव्यप्रकाशमें काव्य हेतुओं पर 
     विचार करते हुए कहा है -
                                
                        शक्तिर्निपुणता लोकशास्त्र काव्याद्यवेक्षणात्।
                          
काव्यज्ञशिक्षयाभ्यास   इति  हेतुस्तदुद्भवे।। "
     अर्थात काव्य के तीन हेतु है-  शक्ति (प्रतिभा), लोकशास्त्र का अवेक्षण तथा 
     अभ्यास।  इसके अतिरिक्त वे यह  कहते हैं - 
                           
                                     " शक्तिकवित्व बीजरूप:"     
      अर्थात शक्ति काव्य का बीज संस्कार हैजिसके अभाव सेकाव्य रचना 
      करना संभव नहीं है। अन्य आचार्य जिसे  'प्रतिभा'  कहते हैंमम्मट ने उसी को
       'शक्ति' कहा है। 
   6.  राजशेखर - राजशेखर ने काव्य हेतुओं पर विचार करते हुए लिखा है - 

                    प्रतिभा व्युत्पत्ति मिश्र:  समवेते श्रेयस्यौ  इति "
  
      अर्थात प्रतिभा और व्युत्पत्ति दोनों समवेत रूप में काव्य के श्रेयस्कर हेतु हैं।
       उन्होंने प्रतिभा के दो भेद माने हैंकारयित्री  तथा भावयित्री। कारयित्री 
      प्रतिभा जन्मजात होती है तथा इसका संबंध कवि से है। भावयित्री प्रतिभा
      का संबंध सहृदय पाठक या आलोचक से हैं।
  
  7. पंडितराज जगन्नाथ - उन्होंने अपने ग्रंथ 'रस गंगाधरमें प्रतिभा को ही प्रमुख
      काव्य हेतु माना है-
                                    
तस्य  कारणं कविगता केवलं प्रतिभा "



    
                                              

Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :