Advertisement

header ads

Hindi sahitya ke upanyas | हिन्दी साहित्य का उपन्यास

       
hindi sahitya ke upanyas , upanyas karo ke naam
hindi sahitya ke upanyas
                                          

                                हिन्दी उपन्यास का विकास


                              
आधुनिक काल में विकसित गद्य विधाओं में उपन्यास का
        महत्वपूर्ण स्थान है। हिंदी उपन्यास के विकास का श्रेय अंग्रेजी एवं बंगला
        उपन्यासों को दिया जा सकता हैक्योंकि हिंदी में इस विधा का श्रीगणेश 
        अंग्रेजी एवं बंगला उपन्यासों की लोकप्रियता से हुआ है। आचार्य महावीर
        प्रसाद द्विवेदी ने सरस्वती में प्रकाशित एक निबंध 'उपन्यास रहस्य' में इस 
        बात को स्वीकार किया है कि उपन्यास के प्रचलन, विकास एवं सृजन का 
        श्रेय पश्चिमी देशों के लेखकों को ही है जिनसे प्रेरणा लेकर हिंदी में भी
        उपन्यास रचना की जाने लगी है। बालकृष्ण भट्ट ने भी इसकी पुष्टि करते
        हुए लिखा -   "हम लोग जैसा और बातों में अंग्रेजों की नकल करते जाते 
        हैंउपन्यास का लिखना भी उन्हीं के दृष्टांत पर सीख रहे हैं।
                         
                           हिंदी में उपन्यास का आरंभ भी अंग्रेजों से अनूदित उपन्यासों 
       से माना जाता है। सन् 1853 . में वंशीधर शुक्ल द्वारा थामस डे के
       लोकप्रिय उपन्यास सैंडफोर्ड एंड मर्टन का अनुवाद किया गया तथा डॉ.
       जानसन के उपन्यास 'रासेलाल' का हिंदी अनुवाद सन् 1879 . में किया
       गया
   
                        हिंदी के प्रथम मौलिक उपन्यास के संबंध में विद्वानों में मतभेद
      रहा है। इस संबंध में जिन दो उपन्यासों का नाम लिया जाता है वे है  -  
      श्रद्धाराम फुल्लौरी कृत भाग्यवती (सन्  1877 .)  तथा लाल श्रीनिवादा
      कृत परीक्षा गुरु (सन् 1882 .)



हिंदी उपन्यास के विकास क्रम को तीन चरणों में बांटा गया है :
  1. प्रेमचंद पूर्व हिंदी उपन्यास 
  2. प्रेमचंदयुगीन हिंदी उपन्यास 

  3. प्रेमचंदोत्तर हिंदी उपन्यास


                   प्रेमचंद्र पूर्व प्रमुख सामाजिक उपन्यासकार

      उपन्यासकार                                                 उपन्यास

     
श्रद्धाराम फुल्लौरी                                    भाग्यवती(1877 .)

     
लाला श्रीनिवास दास                                 परीक्षा गुरु(1882 .)

     
बालकृष्ण भट्ट                                          रहस्य कथा(1879 .),
                                                                 
नूतन ब्रह्मचारी(1886 .),
                                                                 
एक अजान सौ सुजान(1892 .)

     
ठाकुर जगमोहन सिंह                               श्याम स्वपन(1888 .)

     
लज्जाराम शर्मा                                        धूर्त रसिकलाल (1899 .),
                                                                 
स्वतंत्र रमा और परतंत्र लक्ष्मी(1899 .),
                                                                 
बिगड़े का सुधार(1907 .),
                                                                
आदर्श हिंदू(1907 .), आदर्श दम्पति

      
राधाकृष्ण दास                                       निस्सहाय हिंदू(1890 .)

      
किशोरी लाल गोस्वामी                             त्रिवेणी वा सौभाग्य श्रेणी,
                                                                
लीलावती वा आदर्श सती, राजकुमारी,
                                                                
चपला वा नव्य समाज, पुनर्जन्म वा,
                                                                
माधवी माधव वा मदन मोहन,
                                                                
सौतिया दाह, अंगूठी का नगीना

     
अयोध्या सिंह उपाध्याय हरिऔध                अधखिला फूल(1899 .),
                                                                ठेठ हिंदी का ठाट या देवबाला (1907 .)


ब्रजनंदन सहाय                                      सौंदर्य उपासक, राधाकांत


मन्नन द्विवेदी गजपुरी                               रामलाल, कल्याणी


राधिकारमण प्रसाद सिंह                          प्रेमलहरी


  
          प्रेमचंद्र पूर्व प्रमुख तिलस्मी एवं ऐयारी उपन्यासकार



बाबू देवकीनंदन खत्री                             चंद्रकांता (1891 .),
                                                          
चंद्रकांता सन्ततिभूतनाथ,
                                                          
काजर की कोठरी, कुसुम कुमारी,
                                                          
नरेंद्र मोहिनी, वीरेंद्र वीर


                   
प्रेमचंद्र पूर्व प्रमुख जासूसी उपन्यासकार
       

गोपाल राम गहमरी                                 सरकटी लाश(1900 .),
                                                          
जासूस की भूल (1901 .),
                                                          
जासूस पर जासूसी (1904 .),
                                                          
गुप्त भेद (1913 .),
                                                           जासूस की ऐयारी (1914 .)
                                                          
अद्भुत लाश, गुप्तचर
                                                           बेकसूर को फांसी


किशोरी लाल गोस्वामी                            जिन्दे की लाश, लीलावती,
                                                          
तिलस्मी शीश महल, याकूत तख्ती




           प्रेमचंद्र पूर्व प्रमुख ऐतिहासिक उपन्यासकार


उपन्यासकार                                               उपन्यास


किशोरीलाल गोस्वामी                          तारा वा क्षात्र कुल कमलिनी,
                                                       
कनक कुसुम वा मस्तानी,
                                                       
हृदयहारिणी आदर्श रमणी,
                                                       
लवंगलता वा आदर्श बाला,
                                                       
मल्लिक देवी वा बंगसरोजिनी,
                                                       
सुल्ताना रजिया बेगम वा रंगमहल में हलाहल
                                                       
सोना और सुगंध वा पन्नाबाई,
                                                       
गुलबहार वा आदर्श मातृस्नेह,
                                                       
लखनऊ की कब्र या शाही महलसरा


जयराम दास गुप्त                                काश्मीर पतन, रंग में भंग,
                                                        
मल्का चांद बीबी, मायारानी, कलावती,
                                                        
नवाबी परिस्तान वा वाजिद अली शाह


मथुरा प्रसाद शर्मा                                नूरजहाँ बेगमजहांगीर

           मिश्रबंधु                                              वीरमणि
       
           बाबू ब्रजनंदन सहाय                             लालचीन

                                

                             प्रेमचंदयुगीन प्रमुख उपन्यासकार

          
उपन्यासकार                                            उपन्यास

       
विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक                         माँभिखारिणी

       
श्रीनाथ सिंह                                             उलझन, क्षमा, अपहृता,
                                                                    
जागरण,एकाकिनी, प्रेम परीक्षा,
                                                                    
प्रजामंडल,एक और अनेक,

       
शिवपूजन सहाय                                      देहाती दुनिया (1925)

       
चंडीप्रसाद हृदयेश                                    मंगल प्रभात, मनोरमा

       
राधिकारमण प्रसाद सिंह                            रामरहीमपुरुष और नारी, 
                                                                    चुंबन और चांटासंस्कार
                              

       
सियारामशरण गुप्त                                   गोद

       
प्रेमचंद                                                   सेवासदन(1918),प्रेमाश्रम(1922),
                                                                   
रंगभूमि(1925),कायाकल्प (1926),
                                                                    
निर्मला (1927), गबन (1931),
                                                                    
कर्मभूमि (1933), गोदान (1935),
                                                                    
गोदान (1935), मंगलसूत्र(अपूर्ण)

       
जयशंकर प्रसाद                                       कंकाल (1929),तितली(1934),
                                                                    
इरावती (अधूरा)


                                     
                                  प्रेमचंदोत्तर हिंदी उपन्यास
                    


                                   (प्राकृतवादी उपन्यासकार)

           उपन्यासकार                                               उपन्यास

       आचार्य चतुरसेन शास्त्री                           वैशाली की नगरवधू, सोमनाथ,
                                                                 आलमगीर, सोना और खूनव्यभिचार,
                                                                 
रक्त की प्यास,आत्मदाहदो किनारे,
                                                                 
अमर अभिलाषा, वयं रक्षाम:, नरमेध
                                                                 
मंदिर की नर्तकी,अपराजिता,
                                                                 
हृदय की परख,पूर्णाहुतिहृदय की प्यास
                                                                 
 
       
पांडेय बेचन शर्मा 'उग्र'                            दिल्ली का दलाल, चॉकलेट,
                                                                 
चंद हसीनो के खतूत, जीजी जी,
                                                                 
बुधुआ की बेटी, चिनगारियाँ,
                                                                 
सरकार तुम्हारी आंखों मे, शराबी,
                                                                 
मनुष्यानंद ('बुधुआ की बेटी' का रूपांतर)
                                                            

       
ऋषभचरण जैन                                     वेश्या पुत्र, मास्टर साहब, गदरमयखाना,
                                                                
सत्याग्रह, बुर्केवाली भाग्य, भाईहर हाईनेस,
                                                                
रहस्यमयी, चांदनी रात,मधुकरीबुर्दाफरोश,
                                                                
मंदिर दीप, चम्पाकली,दुराचार के अड्डे
                                                                
 
                                                               
                
         
                          मनोविश्लेषणवादी उपन्यासकार

         

 उपन्यासकार                                                       उपन्यास

 
जैनेंद्र                                                 परख(1929), सुनिता (1935),
                                                         
त्याग पत्र(1937), कल्याणी(1939),
                                                         
सुखदा(1952), विवर्त(1953),
                                                         
व्यतीत (1953), जयबर्द्धन, दशार्क,
                                                        
अनाम स्वामी, अनंतर, मुक्तिबोध
 इलाचन्द्र जोशी                                    संन्यासी(1941),परदे की रानी(1941),
                                                         
प्रेत और छाया (1945), निर्वासित(1946),
                                                         
जिप्सी(1952), जहाज का पंछी (1955),
                                                         
ऋतुचक्र, मुक्तिपथ, सुबह के भूले,
                                                         
भूत का भविष्य, कवि की प्रेयसी, मणिमाला

 
अज्ञेय                                                शेखर: एक जीवनी (1941-44),
                                                       
नदी के द्वीप (1951), अपने अपने अजनबी
                                                 

 
डॉ. देवराज                                        पथ की खोज, बाहर भीतर,
                                                       
रोड़े और पत्थर, मैं वे और आप                        


                      व्यक्तिवादी उपन्यासकार

उपन्यासकार                                      उपन्यास
   
भगवतीचरण वर्मा                           चित्रलेखा (1934), तीन वर्षसीधीसच्ची बातें,
                                                   
टेढ़े मेढ़े रास्ते, आखिरी दांवसामर्थ्य और सीमा,
                                                  
अपने खिलौने, भूले बिसरे चित्रयुवराज चूण्डा
                                                   
वह फिर नहीं आई, थके पांवधुप्पलचाणक्य
                                                   रेखासबहिं नचावत राम गोसाईंप्रश्न और मरीचिका
उपेंद्रनाथ अश्क                              एक रात का नरक, गिरती दीवारेंगर्म राख,
                                                   
सितारों के खेलबांधों  नांव इस ठांव निमिषा,
                                                   
शहर में घूमता आइनाएक नन्ही कंदील
                                             

भगवती प्रसाद वाजपेयी                    पतिता की साधनाआज और अभी
                                                   मनुष्य और देवतासपना बिक गयाटूटते बंधन,
                                             
     दूखन लागे नैनमुझे मालूम  थाचलतेचलते
                                             
   
रामेश्वर शुक्ल अंचल                        चढ़ती धूपनई इमारत, उल्कामरूप्रदीपा

उषादेवी मित्रा                                 प्रियाबचन का मोलआवाजसोहनी,
                                                   जीवन की मुस्कानपरचारीकष्टनीड़

डॉलक्ष्मीनारायण लाल                    काले फूल का पौधाहरा समदर गोपी चंदर
                                                   
बड़ी चम्पा छोटी चम्पा
प्रेम अपवित्र नदी, 
                                                   बया का घोसला और सांपगली अनारकली, 
                                                   कनाट प्लेसबसंत की प्रतीक्षाधरती की आंखे
                                           

                                           
         



           सामाजिक यथार्थवादी (प्रगतिवादी) उपन्यासकार 

उपन्यासकार                                            उपन्यास

यशपाल                                     दादा कामरेड(1941), देशद्रोही झूठा सच,
                                                
दिव्या, पार्टी कामरेड, अमिताअप्सरा का शाप,
                                                
मनुष्य के रूपमेरी तेरी उसकी बात
                                        

मंथननाथ                                   आधी रात के अतिथि, चक्ली, रात और दिन,
                                               अल- जुल्फिकार, ख्याल अच्छा हैषडयंत्र,
                                         

नागार्जुन                                    रतिनाथ की चाची, बलचनमाकम्भीपाक
                                               
नई पौध, बाबा बटेसरनाथइमरतिया,
                                               
उग्रतारा, वरुण के बेटे, हीरक जंयतीदुखमोचन
                                          
रांगेय राघव                                घरौंदेविषाद मठ, मुर्दो का टीलाआखिरी आवाज,
                                               
चीवर, सीधा-साधा रास्ता, हुज़ूरयशोधरा जीत गई,
                                               
प्रोफेसर,अंधेरे के जुगनू , बोलते खंडहर उबाल,
                                               
कब तक पुकारूँ, बोने और घायल फूल,
                                               
पक्षी और आकाश, जब आवेगी काली घटा,
                                               
बंदूक और बीन, राई और पर्वत, राह रूकी,
                                               
लोई का ताना, पथ का पाप, धरती मेरा घर
                                       
 
भैरव प्रसाद गुप्त                         मशाल, गंगा मैयाअंतिम अध्याय कालिंदी,
                                               जंजीरे और नया आदमी, सती मैया का चौरा
                                          
अमृत राय                                 बीज, हाथी के दांत भटियालीजंगल,
                                               नागफनी के देश, सुख-दुखधुंआ
                                         
 
भीष्म साहनी                              झरोखे, कड़ियां, तमस,
                                               
बसंती, मय्यादास की माड़ी


अमरकांत                                 सूखा पत्ता, अकाश पक्षीसुन्नर पांडे की पतोहू
                                              
काले उजले दिन, ग्राम सेविकाखुदीराम,
                                               
बीच की दीवार, सुखजीवी
                                         

विश्वभर नाथ उपाध्याय                 रीछ, पक्षधर, दूसरा भूतनाथ
                                              
जाग मछंदर गोरख आया, जोगी मत जा

राही मासूम रजा                        आधा गाँव(1966), टोपी शुक्लासीन 75
                                              
हिम्मत जौनपुरीओस की बूंदअसंतोष के दिन,
                                              
दिल एक सादा कागजकटरा बी आरजू
                                         
 
जगदीश चंद्र                             यादों का पहाड़धरती धन  अपना,
                                             
आंधी पुलमुट्ठी भर कांकरटुंडा लाट,
                                              
कभी  छोड़े खेतघारा गोदाम 

 बदी उज्जमा                             एक चूहे की मौतअपुरुष
                                              
छाकों की वापसीछठा तंत्र

 
हृदयेश                                   एक अंतहीन कहानीसांड़पूर्व जन्म,
                                             
सफेद घोड़ा काला सवारदंडनायक
                                        
 
मुद्राराक्षस                               अंचलाएक मन:स्थितिभगोड़ा,
                                             
शोक - संवादहम सब मनसा राम,
                                             
मेरा नाम तेरा नामशांति भंगप्रपंचतंत्र
                                       
जगदंबा प्रसाद दीक्षित                कटा हुआ आसमानमुर्दाघर

मार्कण्डेय                                अग्निबीजसेमल के फूल

काशीनाथ सिंह                         अपना मोर्चा


संजीव                                     सावधान नीचे आगे हैंसर्कस,
                                             
किशनगढ़ के अहेरीधार

अब्दुल बिस्मिल्लाह                    झीनी-झीनी बीनी चदरिया,
                                             जहरवाददंतकथामुखड़ा क्या देखे


                ऐतिहासिक पौराणिक उपन्यास

उपन्यासकार                                          उपन्यास
  

वृंदावनलाल वर्मा                         गढ़ कुंडारविराटा की पद्मिनीमृगनयनी,
                                               झांसी की रानीकंचनारदेवगढ़ की मुस्कान, 
                                               टूटे कांटेअहिल्याबाईभुवन विक्रम,
                                               
कीचड़ और  कमलसोती आग,
                                         

चतुरसेन शास्त्री                          वैशाली की नगरवधू , सोमनाथ

रांगेय राघव                               मुर्दों का टीला

राहुल सांकृत्यायन                       सिंह सेनापतिजययौधेयमधुरस्वप्न

अमृतलाल नागर                         शतरंज के मोहरेकरवटखंजन नयन,
                                               सात घूंघट वाला मुंखपीढ़ियां,
                                               
एकदा नैमिषारण्येमानस का हंस,
                                         

यशपाल                                    दिव्याअमिता 

हजारी प्रसाद द्विवेदी                    बाणभट्ट की आत्मकथापुर्ननवा
                                               चारु चंद्रलेखाअनामदास का पोथा
 
आनंद प्रकाश जैन                       कठपुतली के धागे,
                                               
कुणाल की आंखेंतांबे के पैसे

प्रताप नारायण श्रीवास्तव               बेकसी का मजार


रघुवीर शरण मित्र                       ओस के आंसू , तप का तेज रूप के जाले,
                                               राख की दुल्हनदिन सोया रात,
                                               
सदा सदा के प्रश्न, उजला कफन

राजीव सक्सेना                           पाणि पुत्री सोमा

नरेंद्र कोहली                             दीक्षाअवसरसंघर्ष की ओर,
                                              
बंध अधिकारअभिज्ञान

वीरेंद्र कुमार जैन                       अनुत्तर योगी (चार खंड

रामकुमार भ्रमर                         फौलाद का आदमी
  
मनु शर्मा                                  द्रौपदी की आत्मकथाद्रोण की आत्मकथा,
                                              
कर्ण की आत्मकथाअभिशप्त कथा
                                              
शिवाजी का आशीर्वाद

शिव प्रसाद सिंह                        नीला चांद 

जयशंकर द्विवेदी                       महाकवि कालिदास की आत्मकथा



                         आंचलिक उपन्यास

  

 उपन्यासकार                                            उपन्यास

फणीश्वर नाथ रेणु                            मैला आंचल(1954),परती परिकथा,
                                                   पल्टू बाबू रोड़दीर्घतपाजुलूस

नागार्जुन                                        बलचनमादुखमोचनवरुण के बेटे

हिमांशु श्रीवास्तव                             रथ के पहिये

रांगेय राघव                                    कब तक पुकारूँ

उदय शंकर भट्ट                              सागर लहरें और मनुष्य

राजेंद्र अवस्थी                                 सूरज किरण की छांव
                                                    
जंगल के फूलजाने कितनी आंखें

बलभद्र ठाकुर                                 मुक्तावलीनेपाल की वो बेटी,
                                                    
देवताओं के देश मेंघने और बने,
                                                    
लहरों की छाती पर

रामदरश मिश्र                                 पानी के प्राचीरजल टूटता हुआ

केशव प्रसाद मिश्र                            कोहबर की शर्त

राही मासूम रजा                              आधा गांव(1966)

शिवप्रसाद सिंह                               अलग-अलग वैतरणीशैलूष

मायानंद मिश्र                                  माटी के लोग सोने की नैया

श्रीलाल शुक्ल                                  राग दरबारी (1968)

हिमांशु जोशी                                  बुंरश तो फूल है,अरण्य, कगार की आगर
                                       
विवेकी राय                                     बबूलपुरुष पुराणलोकऋण,
                                                    
श्वेत पत्रसोना माटी,समरशेष है

शैलेश मटियानी                               बोरीवली से बोरी बंदर तककबूतर खाना,
                                       
             दो बूंद जलकिस्सा नर्मदावेन गंगूबाई 
                                       
मनहर चौहान                                  हिरनासांवरी

श्याम परमार                                   मोर झल

शानी                                             काला जलसाल बनो का द्वीप

मधुकर गंगाधर                                मोतियों वाले हाथ,फिर से कहो,
                                        



                        आधुनिक बो के उपन्यास


उपन्यासकार                                               उपन्यास

प्रभाकर माचवे                                 परंतुएक तारासांचाद्वाभालापता,
                                                     
जो किशोरदर्द के पैबंदद्यूत,
                                                     
तीस चालीस पचास अनदेखी,
                                                    
आंख मेरी बाकी उनकाकिसलिए
                                       
 
 नरेश मेहता                                    डूबते मस्तूलधूमकेतु:एक श्रुति,
                                                    
यह पथ बंधु थादो एकांतउत्तर कथा,
                                                    
नदी यशस्वी हैप्रथम फाल्गुन,
                                      
 ठाकुर प्रसाद सिंह                           कुब्जा सुंदरीसात घरों का गांव

 
कृष्णचंद शर्मा 
'भिक्खु                    आदमी का बच्चासक्रांतिरेवतीव्यक्ति,
                                                    सीम देवता की घाटीलालढांगभंवरजाल,
                                                   
मौत की सरायसोने का मृगनागफनी
                                      
  
 
रामदरश मिश्र                                बीच का समय, 
सुखा हुआ तालाब,
                                                    रा का सफरआकाश की छतअपने लोग,
                                                    बिना दरवाजे का मकानदूसरा घर,
                                       

 मोहन राकेश                                          अंधेरे बंद कमरे मेंआने वाला कल

धर्मवीर भारती                                गुनाहों का देवता (1949),
                                                   
सूरज का सातवां घोड़ा


श्रीलाल शुक्ल                                 सूनी घाटी का सूरजअज्ञातवासपहला पड़ाव,
                                                 
सीमाएं टूटती हैंआदमी का जहरमकान
                                     

श्रीकांत वर्मा                                   दूसरी बार


महीप सिंह                                     यह भी नहीं


कृष्ण बलदेव वैद                             उसका बचपनदर्द ला दवा,
                                                   
विमल उर्फ जाए तो जाए ,
                                                   
दूसरा  कोईकाला कोलाज,
                                                   
गुजरा हुआ जमाना
 

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना                      सोया हुआ जलसूने चौखटे,
                                                   
पागल कुत्तों का मसीहा

 
शिवप्रसाद सिंह                              गली आगे मुड़ती हैमंजूशिमा
 
 राजेंद्र यादव                                  प्रेत बोलते हैं(बाद में 'सारा आकाशमें प्रकाशित),
                                     
             उखड़े हुए लोगअनदेखे अनजाने पुल 
                                                   
एक इंच मुस्कान,  कुलटा,
                                     

 निर्मल वर्मा                                   वे दिन (1964), लाल टीन की छत,
                                                  
एक चिथड़ा सुखरात का रिपोर्टर

 रवींद्र कालिया                              खुदा सही सलामत है (दो भाग)
 

 राजकमल चौधरी                          मछली मरी हुईअग्नि स्नानबीस रानियों के बाइस,
                                                  
शहर था शहर नहीं थादेहगाथा,
                                                  
नदी बहती थीताश के पत्तों का शहर,
                                    

 योगेश गुप्त                                  उनका फैसलाअकारणउपसंहार

 द्रोणवीर कोहली                           टप्परगाड़ीहवेलियों वाले,चौखट,
                                                 
आंगन का कोठाकायास्पर्श


 कमलेश्वर                                    एक सड़क सत्तावन गलियां,वही बातरेगिस्तान
                                                 
डाक बंगलालौटे हुए मुसाफिरसुबह दोपहर शाम,
                                                 
तीसरा आदमीकाली आगामी अतीतवही बात
                                    
 
 
महेंद्र भल्ला                                   एक पति के नोट्सदूसरी तरफ,
                                                 
उड़ने से पेश्तर
 

 मनोहर श्याम जोशी                      कुरु कुरु स्वाहाकसप
 

 गिरधर गोपाल                             चांदनी के खंडहर, कंदील और कुहासे
                                     

 दुष्यंत कुमार                               छोटे-छोटे सवालआंगन में एक वृक्ष
 

 कामतानाथ                                 सुबह होने तकएक और हिंदुस्तान
                                                 
समुद्र तट पर खुलने वाली खिड़की, तुम्हारे नाम
                                     

 
गिरिराज किशोर                          लोगचिड़ियाघरयात्राएंढाईघरपरिशिष्ट,
                                                 
जुगलबंदीदोइंद्र सुनोदावेदारअसलाह
                                                 
यथा प्रस्ताविततीसरी सत्ताअंतधर्वस
                                     
 
 रमेशचंद्र शाह                              गोबर गणेशकिस्सा गुलामपूर्वापर
 

 गोविंद मिश्र                                 वह अपना चेहराउतरती हुई धूप,
                                                 
लाल पीली जमीनहुजूर दरबार,
                                                 
तुम्हारी रोशनी मेंधीर समीरें
 
 गंगा प्रसाद विमल                        अपने से अलगकहीं कुछ और,
                                                 
मरीचिकामृगांतक
 

 रामकृष्ण मिश्र                             दारुलसफासचिवालय


 मणि मधुकर                               सफेद मेमनेपत्तों की बिरादरी
 

 प्रमोद सिन्हा                               उसका शहर
 

 मंजूर एहतशाम                           कुछ दिन औरसूखा बरगद


 योगेश कुमार                              टूटते बिखरते लोगसूखा स्वर्ग,
                                               
त्रोइकाशरद ऋतु
 

 गोपाल उपाध्याय                         एक टुकड़ा इतिहास


 विनोद कुमार शुक्ल                     नौकर की कमीज



          
                      प्रमुख महिला उपन्यासकार 

  
उपन्यासकार                                              उपन्यास

   
 शशिप्रभा शास्त्री                          अमलतासनावेंसीढ़ियांक्योंकि,
                                                 
परछाइयों के पीछेकर्क रेखा ,
                                                 
परसों के बादये छोटे महायुद्ध,
                                                 
उम्र एक गलियारे कीसागर पार का संसार
                                     
 शिवानी                                      चौदह फेरेकृष्ण गलीविषकन्या,
                                                 
स्वयंसिद्ध , शमशान चंपाभैरवी,
                                                 
रति विलापकरिए छिमामणिकरथया

 कृष्ण सोबती                                सूरजमुखी अंधेरे केजिंदगीनामा

 उषा प्रियंवदा                               पचपन खंभे लाल दीवारें ,
                                                 
रुकोगी नहीं राधिकाशेष यात्रा

 मन्नू भंडारी                                 आपका बंटी (1971), महाभोज (1979) 
                                      
 राजी सेठ                                    तमस , किसका इतिहास

 मृदुला गर्ग                                  उसके हिस्से की धूपचित्त कोबरा,
                                                 
वंशजअनित्यमैं और मैं

 मंजुल भगत                                अनारोबेगाने घर मेंखातुल
                                                 
तिरछी बौछार

 दिनेश नंदिनी डालमियां                मुझे माफ करनाफूल का दर्द,
                                               
आहों की वैसाखियां, कंदील का धुआँ
                                      
 दीप्ति खंडेलवाल                         प्रियाकोहरेप्रतिध्वनियांवह तीसरा
                                       
 कांता भारती                               रेत की मछली

 ममता कालिया                            बेघरनरक दर नरकसाथी,
                                                 
प्रेम कहानी , लड़कियां , दौड़

 
मेहरुत्रिसा परवेज                        आंखों की दहलीजउसका घर,
                                                 
कोरजाअकेला पलाश

 
निरुपमा सोवती                           पतझड़ की आवाजें,बंटता हुआ आदमी,
                                                 
मेरा नरक अपना हैदहकन के पार

 
चंद्रकांता                                    बाकी सब खैरियत हैअर्थांतर,
                                                 
ऐलान गली जिंदा है अंतिम साक्ष्य

 
नासिरा शर्मा                               सात नदियाँ : एक समुंदरशाल्मली

 
कुसुम कुमार                               हीरामन , हाई स्कूल

 
कमल कुमार                               अपार्थ  

 
चित्रा मुद्गल                                  एक जमीन अपनी

 
मृणाल पांडे                                 पटरंग पुराणा

 
सूर्यबाला                                     मेरी संधि पत्रअग्नि पंखी,
                                                 
सुबह के इंतजार तक

   



Post a comment

0 Comments