Tuesday, 25 June 2019

Pooja

Hindi Natak ka Vikas | हिंदी नाटक का विकास



natak ke prakar , hindi natak list
natak ke prakar






                                        हिंदी नाटक 

हिंदी में नाटक लिखने की परंपरा का सूत्रपातभारतेंदु बाबू हरिश्चंद्र से ही हुआ है।
इनसे पहले जिन्होंने रचनाएँ लिखी हैं। उनमें नाट्यकला के तत्व का अभाव था। 
प्राणचंद्र चौहान कृत 'रामायण महानाटक'(1610 .) तथा कवि उदय कृत 
'हनुमान नाटक(1840 . ) में पद्यात्मकता है तथा ये नाट्य रचनाएँ नहीं है।
आधुनिक काल में भारतेंदु जी के पिता गोपालचंद्र गिरधरदास ने 'नहुष'
(1857 .), गणेश कवि ने 'प्रद्युम्न विजय' (1863 .) तथा शीतलाप्रसाद 
त्रिपाठी ने 'जानकी मंगल'(1868 .) नाटकों की रचना की। इनमें से अंतिम
रचना ही नाट्यगुणों से संपन्न हैकिंतु तब तक भारतेंदु जी का 'विद्यासुंदर'
(1868 .) नाटक प्रकाशित हो चुका था जो संस्कृत के 'चौर पंचाशिकाका
 हिंदी अनुवाद है। 
          
                                       भारतेंदु जी ने  केवल हिंदी में मौलिक नाटकों की रचना की अपितु उन्होंने दूसरी भाषाओं की श्रेष्ठ नाट्य रचनाओं का अनुवाद भी 
किया है। हिंदी नाटकों के विकास परंपरा का वर्गीकरण इस प्रकार किया गया है:-  
                 
                                           
   
           1. भारतेंदुयुगीन हिंदी नाटक (1857 से 1900 .)
           2. 
प्रसादयुगीन हिंदी नाटक (1900 से 1950 .)
           3. 
प्रसादोत्तर हिंदी नाटक (1950 के उपरांत)



                                  भारतेंदुयुगीन हिंदी नाटक
    
             नाटककार                                                     नाटक


             भारतेंदु                                     अनूदित नाटक :-   विद्यासुंदर
                                                           (1868, संस्कृत के 'चौर पंचाशिकाके
                                                             बंगला संस्करण का अनुवाद),
                                                             रत्नावली( 1868, संस्कृत से अनुवाद),
                                                            धनंजय विजय (1873, संस्कृत से 
                                                            अनुवाद), कर्पूर मंजरी(1875,
                                                             संस्कृत अनुवाद),          
                                                             पाखंड विडम्बन (1872, संस्कृत के 
                                                             प्रबोध चंद्रोदय के तीसरे अंक का 
                                                             अनुवाद), मुद्राराक्षस (1878,संस्कृत
                                                             
नाटककार विशाखदत्त के 'मुद्राक्षस
                                                              नामक नाटक का हिंदी अनुवाद), 
                                                             दुर्लभ बंधु (1880, अंग्रेजी नाटककार
                                                             शेक्सपियर के 'मरचेण्ट ऑफ वेनिस
                                                              का अनुवाद)  मौलिक नाटक:-
                                                             वैदिकी हिंसा हिंसा  भवति (1873, 
                                                           प्रहसन), सत्य हरिश्चंद्र (1875, नाटक),
                                                               श्री चंद्रावली (1876,नाटिका), 
                                                                विषस्य विषमौषधम् (1876, भाण),
                                                             
भारत दुर्दशा (1880, नाट्य रासक), 
                                                                नील देवी (1881, गीति रूपक),
                                                                                    अंधेर नगरी (1881, प्रहसन),
                                                                 सती प्रताप(1883, गीति रूपक),
                                                                 प्रेम जोगनी (1875, नाटिका),
                                                                भारत जननी (1877,नाट्य गीत)

          लाला श्रीनिवासदास                          श्री प्रह्लाद चरित्र, तप्ता संवरण,
                                                              
रणधीर प्रेम मोहिनी(1877) 
                                                              
संयोगिता स्वयंवर (ऐतिहासिक नाटक)
                                      
 
         
राधा कृष्ण दास                                महारानी पद्मावती, धर्मालाप,
                                                             
महाराणा प्रताप(1897), 
                                                              
दु:खिनी वाला
   
          बालकृष्ण भट्ट                                  दमयंती स्वयंवर, वृहन्नला,
                                                              
कलिराज की सभा, वेणीसंहार,
                                                              
शिक्षादान, बाल - विवाह
                                                              
रेल का विकट खेल 
  
          राधाचरण गोस्वामी                           तन मन धन गोसाईं जी के अर्पण,
                                                              
बूंढे मुंह मुहांसे लोग देखे तमासे
                                                             
ऐतिहासिक नाटक :- अमरसिंह राठौर
                                                              
सती चंद्रावलीश्रीदामा (1904)
                                  
 
          
गोपालराम गहमरी                            जैसे को तैसा , विद्याविनोददेशदशा
                                   
 
         
जी. पी. श्रीवास्तव                              उलटफेर, दमदार आदमीकुर्सीमैन ,
                                                               
गड़बड़झाला घर का  घाट का
                                                    
          पांडेय बेचन शर्मा उग्र                         चार विचारे, उजबक 
 
          किशोरी लाल गोस्वामी                        प्रणयिनी परिणय, मयंक मंजरी
  
          अयोध्या सिंह उपाध्याय                        प्रद्युम्न विजय, रुक्मिणी परिणय
  
          अंबिकादत्त व्यास                               भारत सौभाग्य, ललिता
  
          काशीनाथ खत्री                                   विधवा विवाह, गुन्नौर की रानी
                                                                 
सिंधु देश की राजकुमारियां 
  
          खड्गबहादुर मल्ल                              भारत आरत, रति कुसुमायुध
   
          देवकीनंदन त्रिपाठी                             भारत हरण



                                   प्रसादयुगीन हिंदी नाटक
    
            नाटककार                                            नाटक
   
           जयशंकर प्रसाद                                सज्जन (1910), कल्याणी
                                                                 
परिणय (1912), करुणालय(1913),
                                                                 
प्रायश्चित (1913), राज्यश्री (1914), 
                                             
                    विशाख (1921), अजातशत्रु (1922),
                                                                 
कामना (1924),जनमेजय का नागयज्ञ
                                           
                     (1926), स्कंदगुप्त (1928),
                                                                  एक घूंट (1930), चंद्रगुप्त (1931),   
                                                                 ध्रुवस्वामिनी (1933)
    
           हरिकृष्ण प्रेमी                                    रक्षा बंधन (1934), स्वप्न भंग,
                                                                 
प्रतिशोध (1937), विषपानउद्धार
                                                                 
स्वर्ण विहान, पाताल विजय,आहुति  
                                                                 शिवा साधना, विजय स्तम्भकीर्तिस्तंभ 
                                                                 शपथ, संरक्षक, विदा, आन का मान,
                                                                 
सम्वत् प्रवर्तन, अमृत पुत्रीछाया बंधन
           
           लक्ष्मी नारायण मिश्र                            सन्यासी (1929) , कल्पतरू,
                                                                 
आधी रात, राक्षस का मंदिर,
                                                                 
सिन्दूर की होली (1934),  राजयोग,
                                       
                         मुक्ति का रहस्य,
                                                                 
ऐतिहासिक नाटक :- 
                                                                 
गरुड़ध्वज (1945), वत्सराज(1950), 
                                                                 
वितस्ता की लहरें (1953), दशाश्वमेध,
                                         
                       चक्रव्यूह(1953),नारद की वीणा (1943)

          सेठ गोविंददास                                प्रकाश, स्वातंत्र्य सिद्धांत, सेवापथ
                                                              
संतोष कहां, त्याग और ग्रहण
                                                              
बड़ा पापी कौनसुख किसमें,
                                                              
महत्व किसे, गरीबी या अमीरी
                                                              
ऐतिहासिक और पौराणिक नाटक-
                                                              
हर्ष, कुलीनता, शशिगुप्त, अशोक,
                                                              
शेरशाह, कर्तव्य, कर्ण
  
         
गोविंद बल्लभ पंत                            अंगूर की बेटी (1935), राजमुकुट
                                                              
सिंदूर की बिंदी, अंत:पुर का छिद्र,
                                                             
परित्यक्ता नारी की समस्या, यायति
 
         उपेंद्रनाथ अश्क                                स्वर्ग की झलक, छठा बेटा(1940),
                                                              
अलग-अलग रास्ते, जय-पराजय, कैद,  
                                                              अंजो दीदी (1954), अंधी गली, उड़ान  
                                        

         उदयशंकर भट्ट                                 अंबा (1945), सागर विजय
                                                               ऐतिहासिक नाटक- दाहर(1938),
                                                               
शक विजय(1949), मुक्तिपथ(1944),
                                                               
क्रांतिकारी, पार्वतीनया समाज
   
        वृंदावन लाल वर्मा                                राखी की लाज(1943), केवट(1951), 
                                                               
सगुन(1951), नीलकंठ (1957),
                                                               
निस्तार और देखा-देखी(1956),
                                                               
खिलौने की खोज (1950),
                                                               
बास की फास (1947)
                                                               
ऐतिहासिक नाटक-  बीरबल , 
                                                               
पूर्व की ओर, ललित विक्रम,
                                                               
झांसी की रानीकाश्मीर का कांटा
                                           
                    फूलों की बोली
   
        रामवृक्ष बेनीपुरी भिक्खु                        अम्बपाली, कृष्णचन्द्र , रुपलक्ष्मी
                                       
       
विष्णु प्रभाकर                                     समाधि
   
        चतुरसेन शास्त्री                                  धर्मराज
    
        दशरथ ओझा                                     प्रियदर्शी सम्राट अशोक
    
        सुदर्शन                                             दयानंद नाटक, अंजना,
                                                               
भाग्यचक्र, आनरेरी मजिस्ट्रेट
   
       उदयशंकर भट्ट                                    विक्रमादित्य विद्रोहिणी
           
        पांडेय बेचन शर्मा उग्र                            महात्मा ईसा, चुंबन, डिक्टेटर

         
 

                                   प्रसादोत्तर हिंदी नाटक
 
     नाटककार                                                 नाटक 
 

   
विष्णु प्रभाकर                                       डाक्टर (1958), टूटते परिवेश,
                                                             
युगे-युगे क्रांति, श्वेत कमल, कूपे,
                                                             
कुहांसा और किरण, अब और नहीं,
                                                             
डरे हुए लोग, सत्ता के आर-पार
                 

    जगदीश चंद्र माथुर                                शारदीया(1950), कोर्णाक(1951),
                                                             पहला राजा (1969), रघुकुल रीति
                                                              दशरथनंदन (1974)
                                                        

   
मोहन राकेश                                       आषाढ़ का एक दिन(1958),
                                                             
लहरों के राजहंस (1963),
                                                             
आधे-अधूरे (1969)
    
    विनोद रस्तोगी                                      नए हाथ, बर्फ की दीवार,
                                                             
आजादी के बाद
                

    लक्ष्मी नारायण लाल                               अंधा कुआं (1955), दर्पण (1963), 
                                                             मादा-कैक्टस(1958), सूर्यमुख (1968), 
                                                             मिस्टर अभिमन्यु(1971), कर्फ्यू (1972),
                                                            
अब्दुल्ला दीवाना,  व्यक्तिगत (1975),       
                                                              एक सत्य हरिश्चंद्र, सगुन पंछीकजरीवन,
                                                             
सबरंग मोह भंग (1977), राम की लड़ाई, 
                                                             तीन आंखों वाली मछली, कलंकी,
                                                             
सूखा सरोवर, नाटक बहुरंगी,सुंदर रस,
                                                             
नाटक तोता मैना, नरसिंह कथा,
                                                             
रातारानी, दर्पन, रक्तकमल, पंच पुरुष 
                                                             दूसरा दरवाजा, गुरु, यक्ष प्रश्न,
                                                             
गंगा माटीबलराम की तीर्थयात्रा


धर्मवीर भारती                                       अंधा युग (1954)
    
सुरेंद्र वर्मा                                             सेतुबंध, द्रोपदी, आठवां सर्ग,
                                                          
नाटक, खलनायक, विदूषक
                     

डॉ. शंकर शेष                                       बिन बाती के दीप, फन्दी, कोमल गांधार,
                                                          एक और द्रौणाचार्य, घरौंदा, पोस्टर 
                                                          बंधन, अपने-अपने, रक्तबीज, चेहरे 
                                                          अरे मायावी सरोवर, खुजराहो का शिल्पी
  
रमेश वक्षी                                             देवयानी का कहना है, तीसरा हाथी
   
हमीदुल्ला                                              समय सन्दर्भ, उलझी आकृतियाँ,
                                                           
दरिन्दे
                   

मणि मधुकर                                          रस गन्धर्व, बुलबुल की सराय,
                                                           इकतारे की आंख, दुलारीबाई,
                                                           
खेला पोलमपुर
                     

मुद्राराक्षस                                              तिलचट्टा (1973), तेन्दुआ, संतोला,
                                                            मरजीवा, योर्स फेथफुली, गुफाएं,
                                                           
प्रथम प्रस्तुति, आला-अफसर
                     

अमृतराय                                               चिंदियो की एक झालर, हम लोग,
                                                            शताब्दी
                

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना                               बकरी, अब गरीबी हटाओ
    
लक्ष्मीकांत वर्मा                                        रोशनी एक नदी है, तिन्दुबुलम,
                                                            
अपना-अपना जूता, सीमांत के बादल,
                                                            
ठहरी हुई जिंदगी, आदमी का जहर
                   

गिरिराज किशोर                                      प्रजा ही रहने दो, नरमेध

गोविंद चातक                                          अपने-अपने जूते

जगन्नाथ नलिन                                          निशान्त

शिवप्रसाद सिंह                                        घाटियाँ गूंजती है


मन्नू भण्डारी                                             बिना दीवार का घर
    

ज्ञानदेव                                                   नेफा की एक शामशुतुरमुर्ग

रमेश उपाध्याय                                         पेपर वेट
   
सुदर्शन चोपड़ा                                         काला पहाड़
     
भीष्म साहनी                                            कबिरा खड़ा बाजार मेंहानूश,
                                                             माधवीमुआवजे
      

नरेश मेहता                                              सुबह के घंटेखंडित यात्राएँ


जगन्नाथ प्रसाद मिलिन्द                               समर्पणगौतम नंद
      

चंद्रगुप्त विद्यालंकार                                    न्याय की रात
     

उदयशंकर भट्ट                                         अशोकवंदिनीगुरुद्रोणा का
                                                              
अंतर्निरीक्षणअसुर सुंदरी,
                                                               
सिंध पतन 


पांडेय बेचन शर्मा उग्र                                   गंगा का बेटाआवारा

गोविंद बल्लभ पंत                                       राजमुकुट अंत:पुर का  छिद्रआत्मदी


उपेन्द्रनाथ अश्क                                        देवताओं की छाया ,भंवर ,
                                                              बड़े खिलाड़ीलौटता हुआ दिन
     

भुवनेश्वर                                                   ऊसरतांबे के कीड़े
   
विपिन कुमार अग्रवाल                                 तीन अपाहिज

विनोद रस्तोगी                                           आजादी के बादनए हाथ,
                                                               बर्फ की मीनारजनतंत्र जिंदाबाद,
                                                              
गोपा का दानदेश के दुश्मन,
                                                              
फिसलन और पांवभागीरथ की बेटे,
                                                              
सराय के अंदर



सर्वेश्वर दयाल सक्सेना                                 लड़ाईकल भात आएगा,
                                                              
होली धूम मच्यों रीपीली पत्तियां
  

ज्ञानदेव अग्निहोत्री                                       माटी जागीरवतन की आबरू,
                                                              चिराग जल उठा


रेवती सरन शर्मा                                        चिराग की लौअपनी धरती,
                                                             अंधेरे का बेटा धर्म  ईमान,
                                                             
दीपशिखाराजा बलि की नई कथा
    

राजेंद्र कुमार शर्मा                                     रेत की दीवारअपनी कमाई,
                                                             नीलामघर
    

सुरेंद्र वर्मा                                                सूर्य की अंतिम किरण से सूर्य की
                                                             पहली किरण तकछोटी सैयद बड़े सैयद,
                                                            
शकुंतला की अंगूठीएक दूनी एक
    

रमेश बक्षी                                               यादों के घरकसे हुए तार
    
काशीनाथ सिंह                                         घोआस


हमीदुल्ला                                                उलझी आकृतियाँदरिंदेउत्तर उर्वशी
    

सत्यव्रत सिंहा                                           अमृत पुत्र
    
विपिन कुमार अग्रवाल                                खोये हुए की तलाबलोटा
    
सुशील कुमार सिंह                                     सिंहासन खाली हैनागपाश,
                                                              बापू की हत्या हजारवीं बार,
                                                            
अंधेरे के राहीचार यारों का यार

मणि मधुकर                                             रसगंधर्वबुलबुल की सराय,
                                                              
दुलाईवाली , खेला पोलमपुर,
                                                              
इकतारे  की आंख


दयाप्रकाश सिंहा                                        मन के भंवरदुश्मनसादर आपका,
                                                             
अपने-अपने दांवइतिहास चक,
                                                             
ओह अमेरिकासांझ सवेरासीढ़ियां
                                                              
मेरे भाई मेरे दोस्तहास्य एकांकी,
                                                              
एकांकी संग्रहकथा एक कंस की,



शंकर शेष                                                एक और द्रोणाचार्यबंधन अपने-अपने,
                                                             
चेहरेकोमल गांधारपोस्टर ,
                                                             
खुजराहो का शिल्पीबिना बाती के दीप
   

गिरिराज किशोर                                        बादशाह गुलाम बेगमजुर्म आयद,
                                                              घोड़ा और खासकेवल मेरा नाम लो,
                                                              
चेहरे चेहरे किसके चेहरे

बलराज पंडित                                            पांचवा सवार
    

दूधनाथ सिंह                                               यमगाथा
    
बृजमोहन सिंह                                             त्रिशंकुयुद्धमनशाह ये मात
   
नरेंद्र मोहन                                                  कहै कबीर सुनो भाई साधो


रामेश्वर प्रेम                                                  चारपाईराजा नंगा हैकालपात्र,
                                                                 
अज्ञात घर , अंतरंग,  कैंप
   

शरद जोशी                                                  अंधों का हाथी
    
सुदर्शन मजीठिया                                          चौराहा
   
मन्नू भंडारी                                                   बिना दीवारों का घर , महाभोज,
                                                                  रजनी दर्पण


शांति मल्होत्रा                                                एक और दिनठहरा हुआ पानी
  

मृदुला गर्ग                                                     एक और अजनबी


मृणाल पांडे                                                    जो रामरचि राखा
  

शोभना भूटानी                                                शायद हां
  
कुसुम कुमार                                                  संस्कार को नमस्काररावण लीला,
                                                                   ओम क्रांति क्रांतिसुनो शेफाली,
                                                                   
दिल्ली ऊंचा सुनती हैमादा मिट्टी,
                                                                   
पवन चतुर्वेदी की डायरीसलामी मंच
 

गिरीश रस्तोगी                                                असुरक्षितमुझे मत मारो




             हिंदी के प्रमुख काव्य नाटक और गीति नाट्य
    
 नाटककार                                               गीतिनाट्य/काव्य नाटक
   

उदयशंकर भट्ट                                           मत्स्तगंधाविश्वामित्रराधा,
                                                                कालिदास

सुमित्रानंदन पंत                                           रजत शिखर , शिल्पीसौवर्ण
    
सेठ गोविंद दास                                           स्नेह या स्वर्ग
    
धर्मवीर भारती                                             अंधा युग (1954) 

भगवतीचरण वर्मा                                         तारा
   
भारत भूषण अग्रवाल                                    अग्निलीक
    
लक्ष्मीनारायण लाल                                       सूखा सरोवर
   

अज्ञेय                                                         उत्तर प्रियदर्शी

जयशंकर प्रसाद                                           करुणालय (1912)
   
सिद्धनाथ कुमार                                           सृष्टि की सांझलौह देवता,
                                                               
संघर्षविकलांगों का देश,
                                                               
बादलों का शाप
                                                                        
गिरिजकुमार माथुर                                       कल्पान्तर

हरि कृष्ण प्रेमी                                              स्वर्णविहान


वीरेंद्र नारायण                                               सूरदास
   

रामेश्वर सिंह कश्यप                                       अपराजेय निरालासमाधान
  
डॉविनोद रस्तोगी                                          सूतपुत्र
    
चंद्रशेखर                                                      शिवधनुष
    
कथा जैन                                                       बाहुबली




                        प्रमुख प्रतीकवादी नाटक
    
 नाटककार                                             प्रतीकवादी नाटक
 
  
जयशंकर प्रसाद                                               कामना
    
 पंत                                                               ज्योत्सना
     

ज्ञानदत्त सिद्ध                                                    मायावी
   
भगवती प्रसाद वाजपेयी                                       छलना
     
सेठ गोविंददास                                                  नवरस


कुमार हृदय                                                      बक्शे का रंग
    

शंभूनाथ सिंह                                                     धरती और आकाश
   
डॉ.लक्ष्मीनारायण लाल                                         मादा कैक्टस (1959)
                          
    
   
    

Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :