Monday, 24 June 2019

Pooja

Dhwani Siddhant | ध्वनि सिद्धांत

dhwani siddhant , dhwani siddhant in hindi
dhwani siddhant



                                          ध्वनि सिद्धांत (संप्रदाय)
                          
       ध्वनि सिद्धांत के प्रवर्तक आनंदवर्धन है।  उन्होंने अपने ग्रंथ 'ध्वन्यालोक' 
        में ध्वनि सिद्धांत की स्थापना की हैउन्होंने ध्वनि को काव्य की आत्मा मानते 
        हुए कहा है:
                                           "काव्यात्माध्वनिरिति:"
         अर्थात ध्वनि काव्य की आत्मा है। 
       प्रतीयमान अर्थआनंदवर्धन ने प्रतीयमान अर्थ को ही ध्वनि माना हैप्रतीयमान
            अर्थ की प्रशंसा करते हुए वे कहते हैं
                  
                    प्रतीयमानं पुनरन्यदेव वस्त्वस्ति वाणीषु महाकवीनाम्।                                                             
                    यततत्प्रसिद्धावयवातिरिक्तं विभाति लावण्यमिवांगनासु।। 
       अर्थात  महाकवियों की वाणी में वाच्यार्थ से भिन्न प्रतीयमान अर्थ कुछ 
       और ही वस्तु है जो सुंदरियों के लावण्य के समान अलग ही प्रकाशित 
        होता है। 

      
      ध्वनि के भेद
 
 
       आनंदवर्धन ने ध्वनि के दो भेद माने हैं:- अभिधामूला ध्वनि और 
       लक्षणमूला ध्वनि|अभिधामूला ध्वनि में पहले अभिधेयार्थ निकलता है और फिर
       से व्यग्यार्थ की प्रतीति होती है। इसी प्रकार लक्षणमूला ध्वनि का मूल आधार 
       लक्ष्यार्थ है। लक्ष्यार्थ के उपरांत इसमें व्यग्यार्थ की प्रतीति होती है। इसके 
       अतिरिक्त आनंदवर्धन ने ध्वनि के तीन भेद माने है -    रस ध्वनि,
       अलंकार ध्वनि और वस्तु ध्वनि | इनमें से रस ध्वनि को ध्वनि संप्रदाय में 
       सर्वाधिक महत्वपूर्ण स्थान दिया है | वस्तु ध्वनि में कथ्य व्यग्य रूप में होता है
       तथा वाच्यार्थ के माध्यम से व्यग्यार्थ का बोध होता है। अलंकार ध्वनि वस्तुतः 
       अलंकार पर आधारित व्यंजना है। व्यग्यार्थ की प्रतीति अलंकार पर आधृत 
        होती है।


      ध्वनि का महत्व 

      ध्वनिवादी आचार्य ध्वनि को काव्य का आवश्यक तत्व मानते हुए रस
      अलंकाररीतिगुणऔचित्य आदि सभी तत्व को ध्वनि का सहायक
      उपादा माना हैं। ध्वनि सिद्धांत ने काव्य में व्यग्यार्थ के महत्व को प्रतिपादित 
      किया है तथा रसध्वनि को काव्य की आत्मा के रूप में प्रतिष्ठित करने में भी 
      संप्रदाय का योगदान रहा है| इसके अनुसार रस व्यंजना का व्यापार हैवह 
      व्यंग्य ही होता है। यही रस ध्वनि काव्य की आत्मा है। ध्वनिवादी आचार्यों 
      में आनंदवर्धन के अतिरिक्त अभिनवगुप्तआचार्य मम्मटविश्वनाथ 
      तथा पंडितराज जगन्नाथ के ना उल्लेखनीय हैं। 

     अभिनव गुप्त का मत

     अभिनव गुप्त का ग्रंथ 'ध्वन्यालोक लोचनध्वन्यालोक की टीका है।  उनके 
     अनुसार रसभाव आदि का बोध व्यंग्य रूप में ही होता है। अपने इस विवेचन 
     द्वारा अभिनव गुप्त ने रस सिद्धांत और ध्वनि सिद्धांत को परस्पर प्रगाढ़ 
     रूप में संबद्ध कर दिया अभिनव गुप्त मूलतः रसवादी आचार्य थे। रस की 
      सम्यक् पुष्टि के लिए उन्होंने ध्वनि सिद्धांत को महत्व प्रदान किया और सिद्ध
     किया कि रस वाच्य न होकर व्यंग्य होता है। उन्होंने यह भी स्थापित किया कि
     रस ध्वनि ही काव्य की आत्मा है। दूसरे शब्दों में वे ध्वनि सौंदर्य से युक्त
    रसात्मक काव्य को सर्वश्रेष्ठ मानते हैं।


    आचार्य मम्मट का मत
  
     मम्मट रसवादी आचार्य माने जाते है परन्तु वे ध्वनि सिद्धांत के भी पक्षधर थे।                           उन्होंने ध्वनि सिद्धांत के विरोधियों ने जो ध्वनि के विरोध में जो  
     तर्क दिए हैं,उनका मम्मट ने खंडन किया है और ध्वनि सिद्धांत को सुदृढ़ आधार 
     प्रदान किया इसीलिए मम्मट को ' ध्वनि प्रस्थापन परमाचार्य ' कहा जाता है। 
    आचार्य मम्मट ने काव्य के तीन भेद माने है-  ध्वनि काव्यगुणीभूत व्यंग्य 
    और चित्र काव्य |ध्वनि काव्य में वाच्यार्थ की अपेक्षा व्यग्यार्थ प्रमुख होता है
    यही उत्तम काव्य हैगुणीभूत व्यंग्य में वाच्यार्थ या तो व्यग्यार्थ के समान महत्व 
    का होता है या फिर उससे अधिक प्रभावी होता है। इस प्रकार का काव्य मध्यम 
    कोटि का काव्य हैजबकि चित्र काव्य में व्यग्यार्थ का नितांत अभाव होता है
    उसमें केवल शब्दगत और अर्थगत चारुता रहती है। इस प्रकार के काव्य को 
    अधम काव्य कहा जाता है। ध्वनि का उदाहरण-      
                         
                          माली आवत देखि कैं कलियन करी पुकार।
                        
फूली-फूली चुनि लईं काल्ह हमारी बार।। 

      इस दोहे का सामान्य अर्थ माली और कली वाला हैकिंतु इसका व्यग्यार्थ
     जीवन की क्षणभंगुरता को व्यक्त करता है। काल इस संसार से एक-एक
      करके सबको उठा रहा हैआज एक की बारी है तो कल हमारी बारी 
      होगी। यही कवि की अभिप्रेत अर्थ है। यही प्रतीयमान अर्थ है और यही अर्थ 
      प्रमुख होने से यहां ध्वनि काव्य माना जाएगा।


                                         

Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :