Saturday, 8 June 2019

Pooja

Chhayavadi kavi ke naam | छायावादी कवि का नाम



chhayavadi kavi ke naam , chayavadi yug ke lekhak
chhayavadi kavi ke naam



                                           छायावाद


                     
छायावादी काव्य की समय सीमा 1918 . से 1936 .तक मानी 
       जा सकती है। आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने भी छायावाद का प्रारंभ 1918 . से 
       माना है, क्योंकि छायावाद के प्रमुख कवियों पंतप्रसादनिराला ने अपनी
       रचनाएं लगभग इसी वर्ष के आसपास लिखनी प्रारंभ थी। 1918 . में प्रसाद 
       का 'झरना' प्रकाशित हो चुका था तथा निराला की कविता 'जूही की कली' 
       1916 . में प्रकाशित हुई थी। पंत के 'पल्लव' कुछ कविताएं भी 1918
       ई. में प्रकाशित हो चुकी थी। प्रसाद की 'कामायनी' 1935 . में प्रकाशित हुई
       तथा प्रगतिशील लेखक संघ की स्थापना 1936 . में हुई। इन दोनों बातों को
       ध्यान में रखकर छायावाद की अंतिम सीमा 1936 . मानना मीचीन होगा।


       छायावाद की प्रमुख परिभाषाएं


       आचार्य रामचंद्र शुक्ल -   "छायावाद शब्द का प्रयोग दो अर्थों में समझना 
            चाहिए एक तो रहस्यवाद के अर्थ में,जहां उसका संबंध काव्य वस्तु से
            होता है, अर्थात् जहां कवि उस अनंत और अज्ञात प्रियतम को आलंबन
            बनाकरअत्यंत चित्रमयी भाषा में प्रेम की अनेक प्रकार से व्यंजना करता 
            है।........छायावाद शब्द का दूसरा प्रयोग काव्य शैली या पद्धति विशेष 
            के व्यापक अर्थ में होता है। "


 जयशंकर प्रसाद -     "जब वेदना के आधार पर स्वानुभूतिमयी अभिव्यक्ति
      होने लगी तब हिंदी में उसे छायावाद के नाम से अभिहित किया गया। 
      ध्वन्यात्मकता, लाक्षणिकता, सौन्दर्यमय प्रतीक विधान तथा उपचार वक्रता
      के साथ स्वानुभूति की विवृति छायावाद की विशेषताएं है। "

  डॉ रामकुमार वर्मा -  " परमात्मा की छाया आत्मा मेंआत्मा की छाया 
      परमात्मा में पड़ने लगती है, तभी छायावाद की सृष्टि होती है। "

  डॉ नगेंद्र-     "छायावाद स्थूल के प्रति सूक्ष्म का विद्रोह है। छायावाद एक
       विशेष प्रकार की खाद पद्धति है, जीवन के प्रति एक विशेष भावनात्मक
       दृष्टिकोण है। "


 महादेवी वर्मा  "छायावाद तत्वतः प्रकृति के बीच जीवन का उद्गीथ है।.....
        उसका मूल दर्शन सर्वात्मवाद है। "


 डॉ रामविलास शर्मा -   "छायावाद स्थूल के प्रति सूक्ष्म का विद्रोह नहीं रहा,
        वरन् थोथी नैतिकता, रूढ़िवाद और सामन्ती साम्राज्यवादी बंधनों के प्रति 
        विद्रोह रहा है। यह विद्रोह मध्यम वर्ग के तत्वावधान में हुआ था इसलिए
        उसके साथ मध्यवर्गीय असंगति, पराजय और पलायन की भावना भी 
        जुड़ी हुई है। "
       आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी -   "छायावाद के मूल में पाश्चात्य रहस्यवादी 
             भावना अवश्य थी। इस श्रेणी की मूल प्रेरणा अंग्रेजी की रोमांटिक 
             भाव धारा की कविता से प्राप्त हुई थी और इसमें संदेह नहीं कि उक्त 
             भावधारा की पृष्ठभूमि में इसाई संतों की रहस्यवादी साधना अवश्य थी।"

     
    छायावादी काव्य की विशेषताएं



  •   आत्माभिव्यंजन
  •   सौंदर्य चित्रण
  •   श्रृंगार निरूपण
  •   नारी भावना
  •   रहस्य भावना
  •   प्रकृति चित्रण
  •   राष्ट्र प्रेम की अभिव्यक्ति
  •   शैलीगत प्रवृतियां
  •   दु: और वेदना की विवृति


                   छायावादी कवि और उनकी काव्यकृतियां

       
कवि                                                           काव्यकृति
यां

   
जयशंकर प्रसाद                                   उर्वशी, वन मिलनशोकोच्छ्वास 
                                                             प्रेम राज्य, अयोध्या का उद्धार,आंसू ,
                                                             
वभ्रुवाहन, कानन कुसुम, प्रेम पथिक,
                                                             
महाराणा का महत्व , झरना,
                                                             
लहर, कामायनी, करुणालय,
                               

    सूर्यकांत त्रिपाठी निराला                        अनामिका, परिमलगीतिकाअपरा,                                                              
                                                             सांध्यकाकली, कुकुरमुत्ता,नये पत्ते,
                                                             अर्चना,अणिमा, बेला, तुलसीदास,
                                                             नये पत्ते,अर्चनाआराधना,
                                                              गीतगुंज,सरोज स्मृति,
          
    सुमित्रानंदन पंत                                   उच्छ्वासग्रंथिवीणा, पल्लवगुंजन,
                                                            
प्रगतिवादी रचनाएं:-  स्वर्ण किरण,
                                                   
         उत्तरास्वर्ण धूलिवाणी
                                                           
कला और बूढ़ा चांद,
                                                            
नव मानवतावादी काव्य:-
 
                                                           
लोकायतन, चिदम्बरा,गीत हंस,                                                                       
                                                             किरण वीणा, पौ फटने से पहले,
                                                             समाधिताशशि की तरी,सत्यकाम,
                                                             शंख ध्वनिपतझड़एक भाव क्रांति,
               
                                             काव्य नाटक:- रजत शिखरशिल्पी,
                                                             सौवर्ण,ज्योत्सना,अतिमा,मधुवन,
                 
                                           युग पुरुषछायामानसी,
                     
    महादेवी वर्मा                                       नीहार, नीरजा, रशिमसांध्यगीत
                                                   
         दीपशिखायामा (नीहारनीरजा,
                                                             
रशिम, सांध्यगीत का संकलन)

   
डॉ. रामकुमार वर्मा                               अंजलि, रूपराशिआकाश गंगा,   
                                                             चित्ररेखा, चंद्रकिरणएकलव्य
                                               
 
   
उदयशंकर भट्ट                                     राका,मानसी,विसर्जन,
                                                             
युगदीप, अमृत और विष

   
मोहनलाल महतो वियोगी                         निर्माल्या, एक तारा, कल्पना
          
   
लक्ष्मीनारायण मिश्र                                 अंतर्जगत्

   
जनार्दन प्रसाद झा द्विज                           अनुभूति, अंतर्ध्वनि

   
गोपाल सिंह नेपाली                                 पंछी, रागिनी

   
केदारनाथ मिश्र प्रभात                             चिरस्पर्श,सेतुबंध

   
आरसी प्रसाद सिंह                                  कलापी

   
जानकी वल्लभ शास्त्री                             रूप अरूप, मेघगीतशिप्राअवंतिका
                                                               

   
सुमित्रा कुमारी सिन्हा                               विहाग, पंथिनी

     
विद्यावती कोकिल                                 अंकुरिता, सुहागिन


                    
                        छायावादी युग में हास्य व्यंग के कवि

        

     ईश्वरी प्रसाद शर्मा                                   चना चबेना(1924)

     
हरिशंकर शर्मा                                      'पिंजरापोल' और 'चिड़ियाघरशीर्षक 
                               
                                 पर गद्य रचनाओं में कुछ कविता

     
कांतानाथ पांडेय चोंच                              चोंच चालीसपानी पांडेमहाकवि सांड
                     

     
शिवरत्न शुक्ल                                        परिहास प्रमोद(1930)

     
हरिऔध                                               चोखे चौपदे, चुभते चौपदे

     
चतुर्भुज चतुरेश                                      हंसी का फव्वारा


                         

                       छायावादी युग में ब्रजभाषा काव्य

       

      रामनाथ जोतिसी                                   रामचंद्रोदय काव्य(1936)

     
रामचंद्र शुक्ल                                       बुद्धचरित(1922)
                                                               (
एडविन अर्नाल्ड के आख्यान काव्य
                           
                                    'लाइट आफ एशिया' का अनुवाद)

     
रायकृष्ण दास                                       ब्रजराज 1936

      
जगदंबा प्रसाद हितैषी                             कवित्त- सवैये

     
दुलारे लाल भार्गव                                  दुलारे दोहावली

     
वियोगी हरि                                          वीर सतसई(1927)

      
बालकृष्ण शर्मा नवीन                             उर्मिला (महाकाव्य)

      
अनूप शर्मा                                           फेरि मिलिबौ (चंपू काव्य,1938)

     
रामेश्वर करूण                                      करूण सतसई(1930)

     
किशोरीदास वाजपेयी                             तरंगिणी(1936)



                     छायावादोत्तर युग में वैयक्तिक प्रगीत काव्य

           
कवि                                                          काव्यकृतियां

     हरिवंश राय बच्चन                             निशा निमंत्रण,आकुल अंतर,
                                                           
सतरंगिनी, मिलन यामिनीदो चट्टानें,
                                                           
मधुशाला, मधुबाला,त्रिभंगिमा,
                                                           
मधुकलश,एकांत संगीतजाल समेटा ,
                                                           प्रणय पत्रिका,आरती और अंगारे,
                                                           
धार के इधर-उधर, बंगाल का काल,
                                                           
बुद्ध और नाचघरचार खेमे चौंसठ खूंटे 
                                       
     रामेश्वर शुक्ल अंचल                           मधूलिका, अपराजितावर्षान्त के बादल,
                                                          करीलकिरण बेलाविराम चिन्ह,
                                                        
लाल चूनर 
                                             
     नरेंद्र शर्मा                                        शूल-फूल,प्रभात फेरी,द्रोपदी,
                                                           
मिट्टी के फूल, उत्तरजय, रक्त चंदन,
                                                           
प्रवासी के गीत,पलाशवन,सुवर्णा,
                                                           
अभिशस्य, प्यासा निर्झर,कदलीवन

     रामधारी सिंह दिनकर                         रसवंती

    आरसी प्रसाद सिंह                              कलापी,संचयिता,प्रेमगीत,
                                                           
जीवन और यौवन,पांचजन्य

     शंभुनाथ सिंह                                    छायालोक,उदयाचल,
                                                           
दिवालोक,रुपरशिम,मन्वंतर

     गोपाल सिंह नेपाली                            पंछी, पंचमी, रागिनी

     केदारनाथ अग्रवाल                            नींद के बादल

     गिरिजाकुमार माथुर                           मंजीर

     भारत भूषण अग्रवाल                         छवि के बंधन




                  छायावादोत्तर युग में प्रमुख प्रबंध काव्य

          

         कवि                                                    प्रबंध काव्य

             

     मैथिलीशरण गुप्त                                   जयभारत,विष्णुप्रिया

     
गुरुभक्त सिंह भक्त                                विक्रमादित्य

     
मोहनलाल महतो वियोगी                        आर्यावर्त

     
रामधारी सिंह दिनकर                             रश्मिरथी,कुरुक्षेत्र,उर्वशी

     
सियारामशरण गुप्त                                उन्मुक्त

     
सुमित्रानंदन पंत                                     लोकायतन

      
रामानंद तिवारी(भारती नंदन)                  पार्वती महाकाव्य

     
केदारनाथ मिश्र प्रभात                            ऋतम्बरा

     
धर्मवीर भारती                                      कनुप्रिया
                  
       नरेंद्र शर्मा                                           द्रोपदी, उत्तरजय

       
कुंवर नारायण                                     आत्मजयी

       
नरेश मेहता                                        संशय की एक रात

       
डॉ. विनय                                           एक पुरुष और


           छायावादोत्तर युग में ब्रज भाषा में रचित प्रमुख काव्यकृतियां
          


          कवि                                                             काव्यकृतियां


           

      अमृतलाल चतुर्वेदी                                      श्याम संदेसौ,गालिब अमृत

      डॉबलदेव प्रसाद मिश्र                                श्यामशतक


      डॉ. रामशंकर शुक्ल
 रसाल                           अजसमोचन, रसाल मंजरीउद्धव शतक
                                                     
      हृषिकेश चतुर्वेदी                                         रामकृष्ण काव्य


      सेवकेंद्र त्रिपाठी                                           व्रजवर्तिका


      लक्ष्मी नारायण सिंह ईश                                लंका दहन


      गोपालप्रसाद व्यास                                       रंग जंग और व्यंग


      अखिलेश त्रिवेदी                                          गंगा लहरी




Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :