Monday, 24 June 2019

Pooja

साधारणीकरण का सिद्धांत



bhartiya kavya shastra ,
bhartiya kavya shastra



                                      साधारणीकरण का सिद्धांत

                                    रस सिद्धांत में साधारणीकरण का विशेष महत्व है।
       साधारणीकरण के बिना रसानुभूति हो ही नहीं सकती। इस सिद्धांत का 
       अविष्कार करने का श्रेय रससूत्र के तीसरे व्याख्याता आचार्य भट्ट नायक
        को है। साधारणीकरण का अर्थ है -  सामान्यीकरण। इस प्रक्रिया में 
        विभावादि का विशेषत्व समाप्त हो जाता है और वे सामान्य प्रतीत होने लगते 
        हैं, अर्थात शकुंतलाशकुंतला  रहकर कामिनी मात्र रह जाती है। 
        रंगमंच पर यशोदा-कृष्ण के प्रसंग में यशोदा कृष्ण के प्रति वात्सल्य भाव
       का अनुभव करती है। इस नाटक को देखने वाले दर्शक भी कृष्ण की
       चेष्टाओं को देखकर वात्सल्य का अनुभव करते हैं। साधारणीकरण के संबंध
       में विभिन्न विद्वानों का मत इस प्रकार है:-

   1. भट्ट नायक 
  
        भट्ट नायक ने साधारणीकरण की परिभाषा निम्न शब्दों में दी है:
             
                  " भावकत्वं साधारणीकरणं। तेन हि व्यापारेण 
                        विभावादय: स्थायी  साधारणी क्रियन्ते। "

       अर्थात भावकत्व साधारणीकरण है। इस व्यापार से विभावादि और स्थायी 
       भावों का साधारणीकरण होता है। साधारणीकरण के कारण सीता आदि 
       विशेष पात्र कामिनी आदि सामान्य पात्र के रूप में प्रतीत होते हैं अर्थात सीता,
       सीता  में रहकर कामिनी मात्र रह जाती है। भट्ट नायक शब्द रूप काव्य के
      तीन व्यापार मानते हैंअभिधा व्यापारभावकत्व व्यापार और
      भोजकत्व व्यापार। इनमें से भावकत्व ही साधारणीकरण है। स्पष्ट है कि 
      भट्ट नायक विभावादि के सामान्य हो जाने को साधारणीकरण मानते हैं।


  2. अभिनव गुप्त 
  
       अभिनव गुप्त का मत है कि साधारणीकरण हो जाने पर विभावादि ममत्व
       और परत्व की भावना से परे हो जाते हैं।  दूसरे शब्दों में यह कहा जा
       सकता है कि साधारणीकरण की अवस्था में भाव की अनुभूति तो होती है परंतु
       यह भाव किसका है इसका कोई ध्यान नहीं रखता। अभिनव गुप्त के अनुसार 
        साधारणीकरण के दो स्तर है:
   
    1. पहले स्तर पर विभावादि का व्यक्ति विशिष्ट संबंध छूट जाता है।
    2. 
दूसरे स्तर पर सामाजिक का व्यक्तित्व बंधन नष्ट हो जाता है। स्पष्ट है कि 
       आचार्य अभिनव गुप्त विभावादि का ममत्व-परत्व संबंध से अलग होना 
       ही साधारणीकरण मानते हैं। 



  3. आचार्य विश्वनाथ 


       साधारणीकरण के संबंध में आचार्य विश्वनाथ का मत इस प्रकार हैं:-
  
                      " परस्य  परस्येति ममेति  ममेति च।
                         
तदास्वादे विभावादेपरिच्छेदो  विद्यते।। "


       अर्थात विभावादि का अपने पराये की भावना से मुक्त हो जाना 
       साधारणीकरण है। आचार्य विश्वनाथ में साधारणीकरण के प्रसंग में पाठक 
       का आश्रय के साथ तादात्म्य भी माना है। बाबू गुलाब राय जी का मत है कि 
       आचार्य विश्वनाथ  आश्रयआलंबनस्थायी भावविभाव आदि सबका 
       साधारणीकरण मानते हैं।



 4. आचार्य रामचंद्र शुक्ल


     आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने चिंतामणि में साधारणीकरण संबंधी अपना मत 
     प्रस्तुत किया है। वे आलंबनत्व धर्म का साधारणीकरण मानते हैं।  उनका
    मत इस प्रकार हैं:- जब तक किसी भाव का कोई विषय इस रूप में नहीं लाया 
     जाता कि वह सामान्यतः सबके उसी भाव का आलंबन हो सके तब तक उसमें 
     रसोदबोधन की पूर्ण शक्ति नहीं आती। विषय का इस रूप में लाया जाना है 
     साधारणीकरण कहा जाता है । काव्य का विषय सदा विशेष रहता हैसामान्य 
     नहीं। वह व्यक्ति सामने लाता हैजाति नहीं।
                       साधारणीकरण का अभिप्राय यह है कि पाठक या श्रोता के 
     मन में जो भाव विशेष या वस्तु विशेष आती है वह जैसे काव्य में वर्णित
    आश्रय का आलंबन होती है वैसे ही सहृदय पाठकों या श्रोताओं के भाव
     का आलंबन हो जाती हैं। शुक्ल जी दो प्रकार की रसानुभूति मानते हैं-  
     उत्तम कोटि की रसानुभूति और मध्यम कोटि की रसानुभूति। उत्तम कोटि 
     की रसानुभूति वहां होती है जहां श्रोता या दर्शक काव्य में वर्णित आश्रय 
     के साथ पूर्ण  तादात्म्य स्थापित कर लेता है और मध्यम कोटि की 
     रसानुभूति वहां होती हैं जहां श्रोता या दर्शक काव्य में वर्णित आश्रय का
     शीलद्रष्टा मात्र  होता है।


 5. आचार्य श्यामसुंदर दास
      आचार्य श्यामसुंदर दास ने शुक्ल जी के साधारणीकरण संबंधी मत की 
      आलोचना की है और इस संबंध में अपना मत इस प्रकार प्रस्तुत किया है:-
     
श्यामसुंदर दास सहृदय पाठक अथवा श्रोता के चित्त का साधारणीकरण 
      मानते हैं। साधारणीकरण की व्याख्या करने में उन्होंने 'मधुमतीभूमिका की
      परिकल्पना की है। मधुमती भूमिका में जब चित्त पहुंच जाता है तब वह निवितर्क
      अवस्था में होता है।  साधारणीकरण की स्थिति भी इस मधुमती भूमिका जैसी
      हैं। इसलिए यहां पुत्र की प्रतीत केवल पुत्र के रूप में ही होती है। इस प्रकार
      प्रतीत होता हुआ पुत्र प्रत्येक सहृदय के वात्सल्य का आलंबन होगा।  स्पष्ट है
      कि आचार्य श्यामसुंदर दास सहृदय के चित्त का साधारणीकरण मानते हैं


 6. डॉ नगेंद्र 
      साधारणीकरण के संबंध में डॉ नगेन्द्र का मत महत्वपूर्ण है। वे कवि की 
      अनुभूति का साधारणीकरण मानते हैं उनका मत - साधारणीकरण कवि की 
      अपनी अनुभूति का होता है अर्थात जब कोई व्यक्ति अपनी अनुभूति को इस
      प्रकार अभिव्यक्त कर सकता है कि वह सभी के हृदय में समान अनुभूति 
      जगा सके।  विषय का रूप तो अज्ञात ही रहता हैकिंतु कविगण अपनी-अपनी
      भावना के अनुरूप उसका वर्णन करते हैं। कवि की इसी भावना का साधारणीकरण 
      होता है। जिसे हम आलंबन कहते हैं वह वास्तव में कवि की अनुभूति का संवेद्य 
      रूप है और कवि की मानसी सृष्टि है। उसके साधारणीकरण का अर्थ है कवि की
     अनुभूति का साधारणीकरण जो भट्ट नायक और अभिनव गुप्त का प्रतिपाद्य
      है।





                                                       

Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :