Monday, 24 June 2019

Pooja

Alankar sidhant | अलंकार सिद्धांत



alankar ke prakar , alankar sidhant
alankar ke prakar



                                 
                                     अलंकार  सिद्धांत ( संप्रदाय
                            
                                
                               अलंकार सिद्धांत का मूल प्रवर्तक आचार्य भामह को माना
     जाता है। इसे प्रतिष्ठित एवं पुष्ट करने वाले आचार्य रुद्रट और जयदेव भी है। 
     इनके अतिरिक्त  दण्डीउद्भटभोजविश्वनाथरुय्यकअप्पय दीक्षित और
     पंडितराज जगन्नाथ ने भी अलंकार संप्रदाय के विकास में महत्वपूर्ण योगदान
     दिया हैअलंकारवादियो ने अलंकार को काव्य का प्रमुख तत्व स्वीकार करते हुए
     इसे काव्य की आत्मा माना है।
   
                                                                                                                                  अलंकार शब्द का अर्थ और परिभाषाएं - अलंकार शब्द 'कृ धातु में
     'अलम् उपपद जोड़ने से व्युत्पन्न होता हैइसकी व्युत्पत्ति निम्नवत् मानी जा
      सकती हैं :
                                
                              " अलं करोति इति अलंकार "

                             
     
अर्थात्  जो अलंकृत ( सुशोभित ) करेंउसे अलंकार कहते हैं। 

     आचार्य भामह के अनुसार - 
                                 
                        " वक्राभिधेय शब्दोक्तिरिष्टावाचामलंकृति : "
    
        अर्थात शब्द और अर्थ का वैचित्र्य ( वक्रता ) ही अलंकार है। 

    
     आचार्य दंडी के अनुसार -  

                     "काव्य शोभाकरान् धर्मान् अलंकारान्  प्रक्षेपण।
    
        अर्थात काव्य के शोभाकारक धर्मअलंकार कहे जाते हैं। 
  
      आचार्य वामन के अनुसार -       
                                               " सौन्दर्यम्  अलंकार: "
    
         अर्थात  सौन्दर्य ही अलंकार है। 
     
      आचार्य रुद्रट के अनुसार - 
                            
                            " अभिधान प्रकार विशेष एवं चालंकार: " 
    
            अर्थात कथन की विशेष पद्धतियां अलंकार है।

      आचार्य रामचंद्र शुक्ल के अनुसार -                                                                                                                  "भावों का उत्कर्ष दिखाने और
          वस्तुओं के रूपगुण और क्रिया का अधिक तीव्र अनुभव कराने में 
           कभी-कभी सहायक होने वाली उक्ति अलंकार हैं। "
  
    
      अलंकार संप्रदाय का विकास

 (1) भामह -  भामह को अलंकार संप्रदाय का प्रवर्तक माना जाता हैं। इनके ग्रंथ 
       का नाम 'काव्यालंकारहैं,  जिसमें छपरिच्छेदचार सौ श्लोक और 40 
      अलंकार हैं। इनके अनुसार अलंकार काव्य का प्राणतत्व हैं वे कहते हैं:
        
                      कान्तमपि निर्भूषं विभाति वनिता मुखम्। '

     अर्थात सुंदर होते हुए भी स्त्री का मुख आभूषण से हीन होने पर सुशोभित नहीं 
      होता। उसी प्रकार अलंकार रहित काव्य सुंदर होने पर भी मूल्यहीन होता है।
      भामह वक्रोक्ति को अलंकार के मूल में मानते हैं इनके अनुसार:

                        सैषा सर्वत्र वक्रोक्तिरनयार्थो विभाव्यते। '
     भामह के मत का सार इस प्रकार है:- 

    1. 
अलंकार काव्य का प्राणतत्व है।
    2. 
अलंकृत कथन ही काव्य है।
    3. 
भामह अलंकार और अलंकार्य में भेद नहीं मानते।
    4. 
अलंकार का मूल वक्रोक्ति है।
    5. 
रस भी एक प्रकार का अहंकार ही है। 

(2)  दण्डी -  दण्डी के ग्रंथ का नाम काव्यादर्श है जिसमें छसौ साठ (660)
       श्लोक हैं। भामह के समान दण्डी भी अलंकार को काव्य की आत्मा मानते हैं 
       उनके अनुसार:
                         
                      ' काव्य शोभाकरान् धर्मान् अलंकारान् प्रचक्षते। '
      
       अर्थात् काव्य के शोभाकारक धर्म अलंकार ही है। 
      इनके मत का सार :-

    1. अलंकार काव्य का शोभाकारक धर्म है। 
    2. अलंकार और अलंकार्य के भेद को दण्डी नहीं मानते।
    3. अलंकार का मूल अतिशयोक्ति है।
    4. 
वे वक्रोक्ति और अतिशयोक्ति में भेद नहीं मानते।
    5. 
काव्य के अन्य अवयवों को भी वे अलंकार में ही
        
समाविष्ट करते हैं।
  

 (3) वामन -   वामन के ग्रंथ का नाम 'काव्यालंकार सूत्रवृति'  जिसमें गुण को
       काव्य की आत्मा मानते हुए भी अलंकार को एक प्रमुख तत्व माना गया है।  
       वामन रीति संप्रदाय के प्रवर्तक होते हुए भी अलंकार सिद्धांत के प्रभाव से 
       मुक्त नहीं हो पाए थे। अलंकार को काव्य का अनिवार्य तत्व  मानते हुए भी वे 
       कहते हैं:


          1. सौन्दर्यमलंकार:
          2. काव्यमग्राह्यमलंकारात्
  
       अर्थात सौन्दर्य ही अलंकार है और काव्य अलंकार के कारण ही ग्राह्य 
        होता है। 


                   
  (4)  कुंतक - आचार्य कुंतक वक्रोक्ति संप्रदाय के प्रवर्तक माने जाते है। कुंतक
         काव्य में अलंकार के पक्षधर है किन्तु वे अलंकार को काव्य का शोभाकारक 
         धर्म  मानकर उसे उपादान कारण ही स्वीकार करते हैं।  उनके अनुसार
         काव्य  तो अलंकार है और  अलंकार्य। बल्कि दोनों का समन्वित रूप ही 
         काव्य है। 


         कुंतक का मत:-
 
      1. अलंकार और अलंकार्य की सत्ता वे अलग अलग मानते हैं 
      2. 
उनके अनुसार वक्रोक्ति और स्वभावोक्ति में भेद हैं।
            
स्वभावोक्ति अलंकार्य और वक्रोक्ति अलंकार 
      3. 
वक्रोक्ति अलंकार का मूल है और यही वक्रोक्ति काव्य की आत्मा है।


 (5)  आचार्य उद्भट - अलंकारवादियों में उद्भट का नाम भी आता है। इन्होंने 
       'काव्यालंकार सार-संग्रहनामक ग्रंथ लिखा है जो आचार्य भामह के
         काव्यालंकार की टीका है। इस ग्रंथ में इकतालीस अलंकारों की परिभाषा
        और उदाहरण हैं।


 (6)  रुद्रट - रुद्रट  के ग्रंथ का नाम 'काव्यालंकारहै जिसमें कुल 16 अध्याय हैं
        इनमें से 11 अध्यायों में अलंकारों का विशद विवेचन है। इनका अलंकार विवेचन 
       अधिक स्पष्ट और वैज्ञानिक है। इन्होंने अर्थालंकारों को चार आधारों पर वर्गीकृत 
        किया है:-
          1.  
वास्तव         ( 23 अलंकार )
          2. 
औपम्य         ( 21 अलंकार )
          3. 
अतिशय       ( 12 अलंकार )
          4.  
श्लेष्य          ( 10 अलंकार )
 
(7)  
आचार्य रुय्यक -  रुद्रट के पश्चात काव्यशास्त्र में रस और ध्वनि की प्रतिष्ठा 
       हुईकिंतु इन आचार्यों में अलंकार की पूर्ण उपेक्षा नहीं की। बारहवीं शताब्दी 
       में आचार्य रुय्यक ने 'अलंकार सर्वस्व नामक ग्रंथ लिखाजिसमें अलंकारों का
       विस्तृत विवेचन किया गया है। इस ग्रंथ में 81 अलंकारजिनमें 75 अर्थालंकार 
      और 6 शब्दालंकार हैं। रुय्यक मूलतः ध्वनिवादी आचार्य हैं।  उनके ग्रंथ पर
      ध्वनि सिद्धांत का स्पष्ट प्रभाव दिखाई देता है।

(8)  आचार्य जयदेव - जयदेव के अलंकार ग्रंथ का नाम चंद्रालोक' है इस ग्रंथ में 
      उन्होंने अपने पूर्ववर्ती आचार्य मम्मट की आलोचना करती हुए कहा है:
 
                          अंगी करोति काव्यम् शब्दार्थावनलंकृती
                            
असौ  मन्यते कस्माद्  अनुष्णमनलंकृती। "
     अर्थात "जो आचार्य अलंकार रहित रचना को काव्य मानते हैंवे विद्वान अग्नि 
     को भी उष्णता रहित क्यों नहीं मान लेते? " इस कथन का अर्थ - जैसे उष्णता 
     अग्नि का स्वाभाविक धर्म है। उसी प्रकार अलंकार भी काव्य का स्वभाविक
     धर्म है। चंद्रलोक में 104 अलंकारों का वर्णन हैजिनमें 100 अर्थालंकार है और 
      4 शब्दालंकार। 
    अलंकारों का महत्व 

     अलंकार काव्य के लिए अत्यंत उपयोगी एवं महत्त्वपूर्ण माने गए है। अलंकारों के 
     अभाव में काव्य उसी तरफ फीका-सा लगता हैजैसे कोई स्त्री बिना श्रृंगार के और
     बिना आभूषणों के लगती है। जब कोई कवि सामान्य भाषा में अपने भाव व्यक्त 
     नहीं कर पातातब अलंकारों की सहायता लेता है। भाव को स्पष्ट करने और दृश्य 
     को प्रत्यक्ष कराने में अलंकारों की अहम भूमिका है।अलंकारवादी आचार्य अलंकारों 
     को काव्य का प्राणतत्व अर्थात काव्य की आत्मा तक मानते हैं। 
     आचार्य केशव के शब्दों में -  'भूषण बिनु  विराजई कविता वनिता मित्त।"
     अर्थात आभूषण के बिना जैसे स्त्री शोभा नहीं पाती वैसे ही अलंकारों के बिना
     कविता अच्छा नहीं लगता।

      
     अलंकारों   के भेद

    अलंकार को तीन भागों में बांटा गया है :

  1.  
शब्दालंकार -  वे अलंकार जो शब्द पर आधारित होते हैंउन्हें शब्दालंकार
       कहते हैं।  यदि शब्द के स्थान पर उसका पर्यायवाची रख दें तो अलंकार का
       समाप्त हो जाता है। प्रमुख शब्दालंकार - अनुप्रासयमकश्लेषपुनरुक्ति,
       वक्रोक्ति आदि। 

  2. अर्थालंकार  - वे अलंकार जो अर्थ पर आधारित होते हैं अतः शब्द के स्थान
       पर उसका पर्यायवाची रख देने पर भी अलंकार बना रहता है। प्रमुख अर्थालंकार
       है
-  उपमारूपकउत्प्रेक्षाप्रतीपव्यतिरेकविभावनाविशेषोक्ति,
       विरोधाभासभ्रांतिमान आदि। 

  3. 
उभयांलकार - उभयांलकार शब्द और अर्थ दोनों पर आश्रित रहकर दोनों
       को चमत्कृत करते हैं।

 
     अलंकारों
 के लक्षण एवं उदाहरण

  1.  
उपमा - जहां गुणधर्म या क्रिया के आधार पर उपमेय की तुलना उपमान से
       की जाती हैवहां उपमा अलंकार होता है। जैसे -
   
                                        "हरिपद
 कोमल कमल से"

       हरिपद
 (उपमेय ) की तुलना कमल ( उपमानसे कोमलता के कारण की
       गई
 है। अतः उपमा अलंकार है। 

  2. रूपक - जहां उपमेय पर उपमान का अभेद आरोप किया जाता हैवहां रूपक 
      अलंकार होता है। जैसे - 
           
                        "अम्बर पनघट में डुबो रही ताराघट उषा नागरी।" 

      आकाश रूपी पनघट में उषा रुपी स्त्रीतारा रूपी घड़े डुबो रही है। यहां आकाश 
      पर पनघट काउषा पर स्त्री का और तारा पर घड़े का आरोप होने से रूपक 
      अलंकार है।

  3. उत्प्रेक्षा - उपमेय में उपमान की कल्पना या संभावना होने पर उत्प्रेक्षा अलंकार 
       होता है। जैसे-
                                "
मुख जनु शुभ्र मयंक।"

      यहां मुख ( उपमेय ) को शुभ्र मयंक (उपमानमान लिया गया है। अतः 
      उत्प्रेक्षा अलंकार है। इस अलंकार की पहचान मनुमानोजनुजानो शब्दों
      से होती है। 

 4. यमक - जहां कोई शब्द एक से अधिक बार प्रयुक्त हो और उसके अर्थ 
     अलग-अलग हो वहां यमक अलंकार होता है। जैसे-  
                      
                                     "सजना है मुझे सजना के लिए" 
     यहां पहले सजना का अर्थ है - श्रृंगार करना और दूसरे सजना का अर्थ है - 
     नायक या पति शब्द दो बार प्रयुक्त हैंअर्थ अलग-अलग है। अतः यमक 
     अलंकार है। 
 5. श्लेष -  जहां कोई शब्द एक ही बार प्रयुक्त होकिंतु प्रसंग भेद में उसके अर्थ
      एक से अधिक होवहां श्लेष अलंकार होता है। जैसे
             
                                   "पानी गए  ऊबरे मोती मानुस चून।" 
    
     यहां पानी के तीन अर्थ है-  कांतिआत्मसम्मान और जल।  अतः श्लेष 
    अलंकार हैक्योंकि पानी शब्द एक ही बार प्रयुक्त है तथा उसके अर्थ तीन हैं। 
 6. विभावना - जहां कारण के अभाव में भी कार्य हो रहा होवहां विभावना अलंकार
      होता है। जैसे-
        
                                      "बिनु पग चलै सुनै बिनु काना।"
      वह (ईश्वरबिना पैरों के चलता है और बिना कानों के सुनता है। कारण के
     अभाव में कार्य होने से यहां विभावना अलंकार है। 
 7. अनुप्रास -  जहां किसी वर्ण  की अनेक बार क्रम से आवृत्ति होवहां अनुप्रास 
     अलंकार होता है। जैसे -
                                 
                             "भूरि - भूरि भेदभाव भूमि से भगा दिया|"
  
     'की  आवृत्ति अनेक बार होने से यहां अनुप्रास अलंकार है।

 8. भ्रांतिमान - उपमेय में उपमान की भ्रांति होने से और तदनुरूप क्रिया होने से 
      भ्रांतिमान अलंकार होता है। जैसे-
                       
                   "नाक का मोती अधर की कांति से
                                    बीज दाड़िम का समझकर भ्रांति से।
                   
देखकर सहसा हुआ शुक मौन है 
                                      
सोचता है अन्य शुक यह कौन है ?"

     यहां नाक में तोते का और दंत पंक्ति में अनार के दाने का भ्रम हुआ है 
     अतः भ्रांतिमान अलंकार है। 
 9. संदेह -  जहां उपमेय के लिए दिए गए उपमानों में संदेह बना रहे तथा निश्चय  
      हो सकेवहां संदेह अलंकार होता है। जैसे -
             
                        "सारी बीच नारी है कि नारी बीच सारी है।
                      
सारी ही की नारी है कि नारी की ही सारी है।" 
10. अपह्नुति - जहां उपमेय का निषेध करके उपमान की स्थापना की जाएवहां
       अपह्नुति अलंकार होता है। जैसे-
  
                 "मैं जो कहा रघुवीर कृपाला। बन्धु  होइ मोर यह काला।।"
  
        यह मेरा भाई नहीं काल है। यहां उपमेय (भाईका निषेध करते हुए 
        उपमान (कालकी स्थापना की गई हैअतः अपह्नुति अलंकार है। 
 11. व्यतिरेक -  जहां कारण बताते हुए उपमेय की श्रेष्ठता उपमान से बताई गई हो,
        वहां व्यतिरेक अलंकार होता है। जैसे - 
       
              "का सरवरि तेहिं देउं मयंकू। चांद कलंकी वह निकलंकू।।"  

        मुख की समानता चंद्रमा से कैसे दूंचंद्रमा में तो कलंक हैजबकि मुख
        निष्कलंक है।
 
 12. प्रतीप -  प्रतीप का अर्थ है उल्टा या विपरीत यह उपमा अलंकार के विपरीत 
        होता हैक्योंकि इस अलंकार में उपमान को लज्जितपराजित या हीन दिखाकर
       उपमेय की श्रेष्ठता बताई जाती है जैसे
              
                       "सिय मुख समता किमि करै चंद वापुरो रंक।"   

       सीता जी के मुख में ( उपमेयकी तुलना बेचारा चंद्रमा (उपमाननहीं कर
       सकता। उपमेय की श्रेष्ठता प्रतिपादित होने से यहां प्रतीप अलंकार है।

13. असंगति - कारण और कार्य में संगति  होने पर असंगति अलंकार होता है।
       जैसे -
                               "
हृदय घाव मेरे पीर रघुवीरै।"
   
       घाव तो लक्ष्मण के हृदय में हैपर पीड़ा राम को हैयह अतः असंगति 
      अलंकार है। 
 14. दृष्टांत-  जहां उपमेयउपमान और साधारण धर्म का बिंब प्रतिबिंब भाव होता है,
        वहां दृष्टांत अलंकार होता है। जैसे-  

                            "बसै बुराई जासु तनताही को सन्मान 
                           
भलो भलो कहि छोड़िएखोटे ग्रह जप दान।।"
        यहां पूर्वार्द्ध में उपमेय वाक्य और उत्तरार्द्ध में उपमान वाक्य है  इनमें 
       'सन्मान होनाऔर 'जपदान करनाये दो भिन्न-भिन्न धर्म कहे गए हैं इन 
        दोनों में बिंब-प्रतिबिंब भाव है। अतः दृष्टांत अलंकार है। 
 15. अर्थान्तरन्यास -  जहां सामान्य कथन का विशेष से या विशेष कथन का सामान्य
        से समर्थन किया जाए,  वहां अर्थान्तरन्यास अलंकार होता है। जैसे - 
                
                     "जो रहीम उत्तम प्रकृति का करि सकत कुसंग।
                       
चंदन विष व्यापत नहीं लपटे रहत भुजंग।।" 
 16. विरोधाभास - जहां वास्तविक विरोध  होते हुए भी विरोध का आभास मालूम 
        पड़ेवहां विरोधाभास अलंकार होता है। जैसे-
                 
                      "या अनुरागी चित्त की गति समुझै नहिं कोइ।
                        
ज्यों ज्यों बूड़ै स्याम रंग त्यों  त्यों उज्जलु होइ।।"
  
       यहां स्याम रंग में डूबने पर भी उज्जवल होने में विरोध आभासित होता है
       परंतु वास्तव में ऐसा नहीं है। अतः विरोधाभास अलंकार है।

 17. वक्रोक्ति-  जहां किसी वाक्य में वक्ता के आशय से भिन्न अर्थ की कल्पना की
        जाती हैवहां वक्रोक्ति अलंकार होता है। इसके दो भेद हैकाकु वक्रोक्ति 
        और श्लेष वक्रोक्ति।
        
       काकु वक्रोक्ति वहां होता है जहां वक्ता के कथन का कण्ठ ध्वनि के कारण
       श्रोता भिन्न अर्थ लगाता है जैसे-
                     
                                "मैं सुकुमारि नाथ बन जोगू।"
  
       श्लेष वक्रोक्ति जहां श्लेष के द्वारा वक्ता के कथन का भिन्न अर्थ लिया जाता है।
       जैसे -
                "
को तुम हौ इतना आये घनशस्याम हौ तो कितहूं बरसो।
                    चितचोर कहावत हैं हम तौ तहां जाहुं जहां धन है सरसों।।" 
18. अन्योक्ति अन्योक्ति का अर्थ है अन्य के प्रति कही गई उक्ति  इस अलंकार
       में अप्रस्तुत के माध्यम से प्रस्तुत का वर्णन किया जाता है। जैसे -
               
                   "नहिं पराग नहिं मधुर मधु नहिं विकास इहि काल 
                       अली कली ही सौं विध्यौ आगे कौन हवाल।।"
  
      यहां भ्रमर और कली का प्रसंग अप्रस्तुत विधान के रूप में है जिसके माध्यम
      से राजा जयसिंह को सचेत किया गया है अतः अन्योक्ति अलंकार है। 
19. मानवीकरण -  जहां जड़ वस्तुओं या प्रकृति पर मानवीय चेष्टाओं का आरोप 
       किया जाता हैवहां मानवीकरण अलंकार होता है। जैसे -
              
                               "फूल हंसै  कलियां मुसकाईं|"
  
       यहां फूलों का हंसनाकलियों का मुस्कुराना  मानवीय चेष्टाएं हैअतः यहां 
       मानवीकरण अलंकार है।

20. अतिशयोक्ति -  अतिशयोक्ति का अर्थ है - किसी बात को बढ़ा चढ़ा कर 
       कहना। जब काव्य में कोई बात बहुत बढ़ा चढ़ा कर कही जाती है तो वहां 
       अतिशयोक्ति अलंकार होता है। जैसे - 
                              
                                     "लहरें व्योम चूमती उठतीं।"
  
       यहां लहरों को अकाश चूमता हुआ दिखाकर अतिशयोक्ति का विधान 
       किया गया है। 


 21. विशेषोक्ति - विशेषोक्ति अलंकार विभावना अलंकार का उल्टा होता है।
        विभावना में कारण  होने पर भी कार्य होता है जबकि विशेषोक्ति अलंकार
        वहां होता है जहां कारण उपस्थित होने पर भी कार्य ना हो। जैसे -
  
                     "नीर भरे नित प्रति रहैंतऊ  प्यास बुझाय।"


        जल से भरे रहने पर भी इन (नेत्रोंकी प्यास कभी बुझती ही नहीं  प्यास
        बुझाने का कारण जल उपस्थित हैंकिंतु प्यास फिर भी नहीं बुझती अतः 
        यहां विशेषोक्ति अलंकार है।


 22. उदाहरण अलंकार -  उदाहरण अलंकार को 'वाक्योपमाभी कहा जाता है।
        उपमा अलंकार में जहां दो वस्तुओं के गुणों में साम्य दिखाया जाता हैवही 
        उदाहरण अलंकार में दो वाक्यों का साम्य दिखाया जाता है। जैसे-
                 
                          "एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा।
                            
जैसे सुबह की धूपजैसे खिलता गुलाब।।"
   
       उदाहरण अलंकार की मुख्य पहचान है कि इसमें उपमेय वाक्य देने के बाद
       'जैसे' का प्रयोग होता हैं।

  
                                     
                                             

                                                                               

Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :