Advertisement

header ads

Adhunik kaal | आधुनिक काल

 
 adhunik kaal , adhunik kaal ke pramukh kavi
adhunik kaal

                    


                                         आधुनिक काल 


                     
आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने हिंदी साहित्य के इतिहास के चतुर्थ
     कालखंड को गद्य की प्रमुखता के कारण गद्यकाल नाम दिया है और इसकी 
     समय सीमा संवत् 1900 वि. से 1980 वि. अर्थात सन् 1843 . से 1923 .
     स्वीकार की है। आधुनिक काल के लिए जो विभिन्न नाम दिए गए हैं वह इस 
     प्रकार है :

                   1.
गद्यकाल                        आचार्य रामचंद्र शुक्ल

                   2.
वर्तमान काल                   मिश्रबंधु

                   3.
आधुनिक काल                डॉ. रामकुमार वर्मा

                   4.
आधुनिक काल                डॉ.  गणपति चंद्र गुप्त


                        
आचार्य शुक्ल ने इस काल का नाम गद्यकाल इसलिए रखा,
       क्योंकि इस काल में गद्य की प्रधानता परिलक्षित हो रही है तथापि गद्यकाल
       कहने से इस काल का प्रचुर परिमाण में लिखा गया पद्य साहित्य उपेक्षित
       सा जाता है,अतः इस काल को आधुनिक काल कहना अधिक उपयुक्त है।
        
                         आधुनिक काल को कई उपविभागों में विभक्त किया गया है।
       जिनके नाम इस प्रकार हैं:-

             1. पुनर्जागरण काल (भारतेंदु युग)       1850 . - 1900.

             2.
जागरण सुधार काल (द्विवेदी युग)    1900 . - 1920.

             3.
छायावादी युग                               1920 . - 1936 .

             4.
प्रगतिवाद                                     1936 . - 1943 .

             5.
प्रयोगवाद                                     1943 . - 1953 .

             6.
नई कविता                                   1953 . - 1960 .

             7.
हिंदी नवगीत                                1960 के उपरांत


                         
आधुनिक काल के प्रथम चरण को भारतेंदु काल कहा गया हैं 
     क्योंकि यह नामकरण भारतेंदु बाबू हरिश्चंद्र के  व्यक्तित्व को ध्यान में रखकर
     किया गया है। भारतेंदु जी का रचनाकाल सन 1850 . से 1885 .तक रहा 
     है। भारतेन्दु युग के कवि और उनकी रचनाओं के बारे में जानकारी इस प्रकार 
     है:
    

 भारतेंदु युग की प्रमुख काव्य प्रवृत्तियां
   
  •  राष्ट्रीयता की भावना
  •  समाज की दुर्दशा का चित्रण
  •  श्रृंगारिकता 
  •  भक्ति भावना
  •  प्रकृति चित्रण
  •  हास्य व्यंग्य की प्रधानता 
  •  समस्या पूर्ति 
  •  ब्रज भाषा का प्रयोग   

    

              भारतेंदु युग के प्रमुख कवि और काव्यकृतियां

    
कवि                                                            काव्यकृतियां

भारतेंदु हरिश्चंद्र                                  प्रेम सरोवर,प्रेम मालिकाप्रेमतरंग,
                                                      गीत गोविंद,वर्षा विनोदप्रेम माधुरी,
                                                     
विनय प्रेम पचासा,प्रेम फुलवारी,
                                                     
वेणुगीत, फूलों का गुच्छा,
                                                     
बकरी विलापउर्दू का स्यापा
                                                      

बद्रीनारायण चौधरी प्रेमघन                    जीर्ण जनपदवर्षा बिंदुदुर्दशा दत्तापुर
                                                       आनंद अरूणोदय, मयंक-महिमा,
                                                     
 हार्दिक हर्षादर्शबृजचंद पंचक,
                                                       
अलौकिक लीला, लालित्य-लहरी 
                                                     

प्रताप नारायण मिश्र                             प्रेम पुष्पावलीमन की लहरश्रृंगार विलास
                                                       लोकोक्ति शतक, तृप्यन्ताम,
                                                       
प्रताप लहरी(प्रतिनिधि कविताओं का संकलन)
                                                        

ठाकुर जगमोहन सिंह                          प्रेम सम्पत्ति लता, देवयानीमेघदूत,
                                                       श्यामालताश्यामा सरोजनीऋतु संहार
                                                      

अम्बिकादत्त व्यास                              पावस पचासा, कंस वधहो हो होरी,
                                                       सुकवि सतसई, बिहारी-विहार
                                                      
नवनीत चतुर्वेदी                                  कुब्जा पच्चीसी

गोविन्द गिल्लाभाई                              श्रृंगार सरोजनीषड़ऋतुराधामुखषोड़सी,
                                                     
पावस पयोनिधि, नीति विनोद
                                                    

राधाचरण गोस्वामी                             नव भक्तमाला


दुर्गादत्त व्यास                                   अधमोद्वार


दिवाकर भट्ट                                     नवोढ़ारत्ननखशिख


रामकृष्ण वर्मा बलबीर                         बलबीर पचासा
          
राजेश्वरी प्रसाद सिंह प्यारे                     प्यारे प्रमोद
          
गुलाब सिंह                                        प्रेम सतसई


रावकृष्णदेवशरण सिंह गोप                  प्रेम संदेशा
          
वियोगी हरि                                       प्रेमशतक, प्रेम पथिकप्रेमांजलिवीर सतसई
                                                      

               
                     ब्रजभाषा में रचित भक्ति रचनाएं

                             (
रामभक्त कवि


रघुराज सिंह                                        सुंदर शतक, पत्रिकारामरसिकावली,
                                                       
रुक्मिणी परिणयश्रीमद्भभागवत माहात्म्य,
                                                       
आनंदाम्बुनिधि, भक्ति-विलासरामस्वंयवर
                                                     
 
रघुनाथ दास रामसनेही                          विश्राम सागर
          
सरदार कवि                                        रामलीला प्रकाश राम रत्नाकर
                                                    


                            (
कृष्णभक्त कवि


साह कुंदनलाल                                    ललित किशोरी


साह फुंदनलाल                                    ललित माधुरी


गोपाल चंद्र                                          राधास्त्रोत, गोपाल स्त्रोत,
          
गिरिधर दास                                        जरासंध वध महाकाव्यराम कथामृत,
                                                         
बलराम कथामृत
                                                       

                   ब्रजभाषा में रचित रीतिनिरूपक ग्रंथ

रामदास                                              कविकल्पद्रुम (ध्वनि सिद्धांत सम्बंधी ग्रंथ)                   

चंदशेखर वाजपेयी                                 रसिक विनोद (रस और नायिका भेद)
                                                       
ग्वाल                                                   रसतंरग (रस निरुपण)


सेवक                                                  वाग्विलास (रस, भावनायिका भेद)


गोपालचन्द गिरिधरदास                          भारती भूषण (अलंकार ग्रंथ), छंदों वर्णन
                       
ब्रजनाथ द्विवेदी                                      सीतारामभरण मंजरी (अलंकार ग्रंथ),
                                                         
राम रहस्य (रस निरूपण), उद्दीपन श्रृंगार,
                                                         
वृत्ति दोष कदम्बचित्राभरणअनुभव उल्लास,
                                                          
बामा-विलास(नायक-नायिका भेद ग्रंथ)
                                                         
        
सरदार कवि                                         कविप्रिया और रसिकप्रिया की टीका
     
                                                         
               
                    भारतेन्दु युग में रचित प्रबंध काव्य


हरिनाथ पाठक                                      श्री ललित रामायण

प्रेमघन                                                 जीर्ण जनपदमयंक  महिमा
  


अम्बिका दत्त व्यास                                 कंस वध (अपूर्ण)


               
भारतेन्दु युग में रचित रीतिनिरुपक ग्रंथ


लछिराम                                              महेश्वर विलास (नवरस एवं नायिका भेद),
                                                
          रामचंद्र भूषण (अलंकार निरुपण),
                                                         
 रावणेश्वर कल्पतरु (सर्व-काव्यांग निरुपण)
                                                      

मुरारिदान                                            जसवंत जसोभूषण (अलंकार ग्रंथ)
                                                      

बाल गोविंद मिश्र                                   भाषा छंद प्रकाश (छंद निरुपण)
                                                      

अयोध्या नरेश प्रतापनारायण सिंह              रस कुसुमाकर (गद्य में)
               
कन्हैया लाल पोद्दार                                अलंकार प्रकाश (गद्य में)
        


               भारतेन्दु युग में रचित रामभक्ति काव्य

        
अक्षय कुमार                                 रसिक विलास रामायण
                                                           

बाबू तोताराम                                राम रामायण


                     
                      

Post a comment

0 Comments