Wednesday, 29 May 2019

Pooja

Sufi kavya | सूफी काव्य

                                 
sufi kavya, sufi kavya dhara in hindi
sufi kavya


  
                                             हिंदी सूफी काव्य

                         

                          भक्तिकाल की निर्गुण धारा के अन्तर्गत सन्त काव्य एवं सूफी काव्य 
       दो शाखाएं है। सूफी काव्य के कुछ अन्य नाम है प्रेममार्गी शाखाप्रेमाश्रयी 
       शाखाप्रेमाख्यानक काव्य परम्परा, रोमासिक कथा परम्पराआदि। इस 
       शाखा में प्रेमतत्व की प्रधानता अधिक है आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने इन  
       प्रेमाख्यानकों पर फारसी मसनवियों का प्रभाव माना है भारतीय परम्परा में भी
       प्रेम चित्रण उपलब्ध है। ऋग्वेद में उर्वशी- पुरूरवा का आख्यान, महाभारत 
       का नलदमयन्ती आख्यानतप्ता - संवरण आख्यान और पुराणों में वर्णित
       उषा-अनिरुद्ध, राधा - कृष्णप्रभावती प्रद्युम्न आख्यान भी स्वच्छंद प्रेम
       की परिभाषा में आते है।स्वच्छंद प्रेम की यह परम्परा संस्कृत में वासवदत्ता
       कादम्बरीदशकुमार चरित में दिखाई पड़ती है। प्राकृत भाषा में गुणाढ्य 
       द्वारा रचित वृहत्कथा तथा क्षेमेंद्र के कथासरित्सागर की प्रेमकथाओं में प्रेम 
       की उत्पत्ति सौन्दर्य प्रेरणा से हुई है तथा नायक को नायिका के संरक्षकों का 
       विरोध झेलना पड़ा है।
                          
                   फारसी मसनवियों में नायिका का विवाह प्रतिनायक से हो जाता हैऔर 
       नायकआत्महत्या कर लेता है परन्तु भारतीय प्रेमाख्यानकों में किसी दैवी शक्ति 
       की सहायता से नायक को नायिका प्राप्ति हो जाती है।यह प्रेमाख्यानक परम्परा
       महाभारत की अनेक कथाओं में उपलब्ध होती हैमहाभारत का नल दमयन्ती
       वृतांत प्रेमाख्यानक काव्य की विशेषताओं से युक्त है और डॉ. नगेन्द्र ने इसी 
       को भारतीय प्रेमाख्यान की आधारभूमि माना हैहरिवंश पुराण में वर्णित 
       कृष्ण - रुक्मिणीप्रद्युम्न - प्रभावती और उषा-अनिरुद्ध आख्यानों में दी 
       गई कथानक रूढियों यथा: 
        
        1.  देव मन्दिर में पूजा हेतु गई नायिका से नायक की गुप्त भेंट 
        2.  स्वप्न और चित्र दर्शन से उत्पन्न होना
       3.  नायक द्वारा वेश बदलकर दरबार में जाना
       4.  नायक का बन्दी हो जाना
       5.  दैवी सहायता से लक्ष्य प्राप्त होना आदि का उपयोग हिन्दी प्रेमाख्यानों में                किया गया है।

                                            

               हंसावली(1370)                                           असाइत

              
चंद्रयान(1379)                                            मुल्लादाऊद

               
लखमसेन पद्मावती कथा (1459)                     दामोदर कवि
                                         
                 ढोला मारु रा दूहा (1473)                             कुशललाभ
      
               सत्यवती कथा (1501)                                   ईश्वरदास
                                         
                 मृगावती(1503)                                           कुतुबन

               
माधवानल कामकन्दला(1527)                        गणपति
                                         
                पद्मावत(1540)                                             मलिक मोहम्मद जायसी
                         

             
मधुमालती(1545)                                          मंझन

                माधवानल कामकन्दला चौपाई (1556)                 कुशललाभ
                                             
                रूपमंजरी(1568)                                                नंददास

                माधवानल कामकन्दला
 (1584)                           आलम
                                             
                छिताई वार्ता(1590)                                            नारायण दास

                चित्रावली(1613)                                                 उसमान

                रसरतन(1618)                                                   पुहकर

                ज्ञानदीप(1619)                                                   शेखनवी

                हंस जवाहिर(1731)                                            कासिम शाह

                इंद्रावती(1744)                                                   नूर मुहम्मद

                अनुराग बांसुरी(1764)                                         नूर मोहम्मद

                प्रेम विलास प्रेमलता की कथा 
(1556)                    जटमल
                     
                नल दमयंती(1625)                                             नरपति व्यास

                नल चरित्र(1641)                                                 मुकुंद सिंह

                कथा रत्नावली, कथा कनकावती,                        जान कवि
                कथा कंवलावति, कथा मोहिनी,
                कथा नलदमयंती कथा कलावंती,
                कथा रूपमंजरी, कथा कलंदर,
                कथा पिजरषां, साहिजादै देवलदे,
                ग्रंथ लै लै मजनूं आदि (1612-1664 . तक)


Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :