Wednesday, 29 May 2019

Pooja

Sant kavya dhara | संत काव्य धारा

sant kavya dhara , sant kavya dhara in hindi
sant kavya dhara
                       
    



                               

                             आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने भक्तिकाल की दो धाराओं मानी 
          है- निर्गुण धारा और सगुण धारा।  निर्गुण धारा को पुनः दो काव्य धाराओं 
          - सन्त काव्य धारा और सूफी काव्य धारा में विभक्त किया गया है, जबकि 
          सगुण धारा को रामकाव्य धारा एवं कृष्ण काव्य धारा में बांटा गया है।


           हिंदी संत काव्य

          
सत रूपी परम तत्व का साक्षात्कार कर लेने वाले व्यक्ति को सन्त कहा

           जाता है। डॉ. पीताम्बर दत्त बड़थ्वाल ने सन्त का सम्बन्ध ' शान्त ' से माना 
           है और इसका अर्थ किया है - निवृत्ति, मार्गी, या वैरागी। सदाचार के लक्षणों
           से युक्त व्यक्ति को सन्त कहा जाता है। हिन्दी साहित्य में निर्गुणोपासक
           ज्ञानाश्रयीज्ञानाश्रयी शाखा के कवियों को संत कहा जाता हैं।
   

           
            संत काव्य की प्रमुख विशेषताएं
               

           * संत काव्य भाव प्रधान है, कला प्रधान नहीं। 

          * संत कवियों में प्रमुख कबीर भक्त और कवि बाद में है,
            समाज सुधारक पहले है।

          *
संत कवि निर्गुणोपासक थे।

          *
ज्ञान की महत्ता

          *
गुरु की महत्ता

          *
अद्वैतवादी दर्शन

          *
रहस्यवाद 

          *
बाह्याडम्बरों का खंडन

          *
जाति प्रथा के विरोध

          *
शास्त्रों और पुस्तकीय ज्ञान का खंडन

          *
नारी विषयक दृष्टिकोण

          *
विभिन्न रसो  का प्रयोग

          * 
अंलकारो का प्रयोग


              
                निर्गुण संत काव्य धारा के कवि और उनकी काव्य कृतिया

          
रचनाएं                                                              रचनाकार

 
       
जपुजी, असा दी वार,                                               गुरु नानक
         
रहिरास, सोहिला, नसीहत नामा

         
अष्टपदी जोग ग्रंथ,                                                   हरिदास निरंजनी
          
हंसप्रबोध ग्रंथ, पूजायोग ग्रंथ,
         
निरपंखमूल ग्रंथ, ब्रह्म स्तुति,
         
समाधिजोग ग्रंथ, संग्रामजोग ग्रंथ

         
हरडे वाणी                                                            संतदास एवं जगन्नाथ
          (
दादू दयाल की वाणियो का संग्रह                             (संग्रहकर्ता)

         
अंग वधू                                                                 रज्जब
           (
दादू दयाल की वाणियों का संग्रह)

           
ज्ञानसमुंद्र,सुंदर विलास                                            सुंदर दास

            सब्बंगी                                                                                       रज्जब

            सुखमनी, बावनअखरी                                              गुरु अर्जुन देव 
           बारहमासा


            शांत सरसी, निरंजन संग्रह                                              निपट निरंजन
                                                                                                 स्वामी
                                                                                                     



                  
                   निर्गुण संत कवियों द्वारा प्रवर्तित प्रमुख पंथ या संप्रदाय

     

                    प्रमुख संप्रदाय                                          निर्गुण संत
   

                     विशनुई संप्रदाय                                         जंभनाथ

                   
उदासी संप्रदाय                                          श्री चंद

                   
रामावत संप्रदाय                                         रामानंद

                    
निरंजनी संप्रदाय                                        हरिदास निरंजनी

                   
लाल पंथ                                                  लालदास

                   
दादू पंथ                                                   दादू दयाल
                    (
ब्रह्म या परब्रह्म संप्रदाय)

                    
बाबालाली संप्रदाय                                     बाबा लाल

                   
बावरी पंथ                                                बावरी साहिबा

                   
सिख संप्रदाय                                            गुरु नानक

                   
सत्यनामी संप्रदाय                                      जगजीवन दास

                    
श्री संप्रदाय                                               रामानुजाचार्य

                   
ब्रह्मा संप्रदाय                                            मध्वाचार्य

                     
निंबार्क संप्रदाय                                        निंबार्काचार्य


                     रुद्र संप्रदाय                                             वल्लभाचार्य


Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :