Wednesday, 29 May 2019

Pooja

Krishna bhakti dhara ke kavi | कृष्ण भक्ति धारा के कवि





krishna bhakti kavya, krishna bhakti dhara ke kavi
krishna bhakti dhara ke kavi
                                     
         
                                  

                                            हिंदी में कृष्णकाव्य

                          
ऋग्वेद के कुछ सूक्तों के रचयिता ऋषि कृष्ण है। छांदोग्य में भी
       आगिरस के शिष्य कृष्ण का उल्लेख है। डॉ. भंडारकर ने यह सिद्ध किया है कि
       वैदिक साहित्य में उल्लिखित कृष्ण और महाभारत के कृष्ण अलग - अलग
       है।  महाभारत में वर्णित कृष्ण यदुवंशी क्षत्रिय के रूप में अंकित है। धर्म स्थापन
       उनके अवतार का प्रमुख उद्देश्य है। कृष्ण की बाललीला, गोपाल स्वरूप का
       प्रारंभ पुराणों से हुआ। कृष्ण के दो रूप हैं - लोकरक्षक एवं लोकरंजक।
       महाभारत के कृष्ण लोकरक्षक हैं जबकि पुराणों में वर्णित लोकरंजक है।
                         '
रास पंचाध्यायी' में गोपियों के साथ श्री कृष्ण की मोहक लीलाओं 
       का वर्णन तो है किंतु उसमें राधा का उल्लेख नहीं मिलता। किन्तु कालान्तर में 
       राधा कृष्ण की प्रेम लीलाएं प्रसिद्ध हो गई।  संस्कृत काव्य में अश्वघोष के
      'ब्रह्मचरित' काव्य में कृष्ण का  सर्वप्रथम उल्लेख मिलता है।
                         
बंगाल के वैष्णव सहजिया संप्रदाय में भी राधा-कृष्ण की भक्ति 
       का वर्णन उपलब्ध होता है। कृष्ण को रस एवं राधा को रति नाम से इस संप्रदाय
       में जाना जाता है। विद्यापति ने 'पदावली' मैथिली भाषा में लिखी है, जिस पर 
       बंगला प्रभाव है।  
                  
                                  कृष्णभक्ति के विविध संप्रदाय

            संप्रदाय                  प्रवर्तक आचार्य             कृष्ण का स्वरूप


  
         बल्लभ संप्रदाय               बल्लभाचार्य                पूर्णानंद परब्रह्म पुरूषोत्तम
           

         निंबार्क संप्रदाय               निंबार्काचार्य                राधा कृष्ण की 
युगल मूर्ति
                      

        राधाबल्लभ संप्रदाय          हित हरिवंश                राधा ही प्रमुख है 
 श्री कृष्ण
                                                                            ईश्वरों के 
भी ईश्वर है 
                                                                         

         हरिदासी संप्रदाय           स्वामी हरिदास              निकुंज बिहारी 
 कृष्ण
         (सखी संप्रदाय)                                        
  
            
          गौड़ीया संप्रदाय             चैतन्य महाप्रभु               ब्रजेंद्रकुमार कृष्ण
         (चैतन्य संप्रदाय)

                         

           कृष्णभक्ति काव्य की प्रमुख विशेषताएं

         *  
कृष्ण लीला का वर्णन

         *  
प्रेम लक्षण भक्ति 

         *  
सौंदर्य चित्रण

         *  
प्रकृति चित्रण

         *  
रस योजना

         *  
रीति तत्व का समावेश

         *  
काव्य रूप

         *  
भाषा-शैली

         *  
अलंकार एवं छंद


                      कृष्ण भक्ति काव्य धारा के प्रमुख कवि एवं रचनाएं

                                

                                ( वल्लभ संप्रदाय से सम्बंधित)

                
रचना                                                          रचनाकार

                   

        सूरसागर, साहित्य लहरीसूर सारावली                         सूरदास
                  

       
अनेकार्थ मंजरी,रसमंजरी, गोवर्धन लीला,                       नंददास
         मान मंजरी, रूपमंजरीदशमस्कंधभाषा,
         
विरह मंजरी, प्रेम बारहखडीनंददास पदावली
         
श्याम सगाई,सुदामा चरितरासपंचाध्यायी,
         
रुक्मिणी मंगल, भवन गीतसिद्धांत पंचाध्यायी
         
 
         
                 


                                     (निंबार्क संप्रदाय से संबंधित)

               
रचना                                                               रचनाकार


           
युगल शतक                                                              श्री भट्ट

           
सिद्धांतरत्नांजलिपंच संस्कार निरूपण                           हरि व्यास देव
           निंबार्कष्टोत्तर शतनामतत्वार्थपंचक
                   

            परशुराम सागर                                                           परशुराम देव

    
                                  (
राधा बल्लभ संप्रदाय से संबंधित)

             
रचना                                                                     रचनाकार


           
हित चौरासी, स्फुट वाणी,                                              हित हरिवंश
           
संस्कृत में- राधा सुधा निधियमुनाष्टक
                   


           सेवकवाणी                                                                 दामोदरदास (सेवक जी) 
           
व्यास वाणी,राग माला, नवरत्न,                                        हरिदास व्यास
             स्वधर्मपद्धति

            भक्ति प्रताप, द्वादशयज्ञ, दानलीला                                    चतुर्भुज दास
            हित जू को मंगलचतुर्भुज कीर्तन संग्रह
            कीर्तनावली

            जीवदशा लीला,मनश्रृंगार लीला, नित्यविलास लीला,               ध्रुव दास
            बैदकज्ञालीला,ख्याल उल्लास लीला, मानलीला
            भक्तनामावली लीला,रस विहार लीलाजुगलध्यान लीला,
            सिद्धांत विचार लीला, प्रीतिचौबनी लीला, रसानंद लीला,
            आनंदष्टक लीला,भजनाष्टक लीला,आनंद दशाविनोद लीला,
            भजनकुंडलियाँ लीला,भजनसत लीलाप्रेम दशा लीला,
            भजनश्रृंगारसत लीला, हितश्रृंगार लीलारंगविनोद लीला,
            सभामंडल लीला, रस मुक्तावली लीलारंग विहार लीला,            रस हीरावली लीला, रस रत्नावली लीलारहस्यलता लीला,
            प्रेमावली लीला, प्रिया जी नामावली लीलारंगहुला लीला,
            रहस्य मंजरी लीला, सुखमंजरी लीलावन विहार लीला,
            रतिमंजरी लीला,नेहमंजरी लीलाब्रज लीला,
            आनंद लीला,अनुराग लता, दानलीला           
              
                       



                                        (हरिदासी (सखी)संप्रदाय से संबंधित

                 
रचना                                                                       रचनाकार


              
सिद्धांत के पदकेलिमाल                                               हरिदास

              
अनन्य सेवा निधि                                                             जगन्नाथ गोस्वामी


                          


                                      (चैतन्य गोडीय संप्रदाय से संबंधित)

                  
रचना                                                                         रचनाकार


          

          संस्कृत में- गौरविनोदिनीगोविंदतत्वदीपिका,                   रामराय
            गौर भाष्य,ब्रज में- आदिवाणीगीतगोविंद भाषा
                        

                        

           
संस्कृत मेंगायत्री भाष्य, 
श्रीराधामाधवाष्टक,                     चंद्रगोपाल
            श्रीराधामाधव भाष्यचंद्र चौरासी,
             
ब्रज मेंअष्टयाम सेवा सुधाराधा विरह
             
गौरांग अष्टयाम ,ऋतु बिहार

             
केलिमाधुरी
वृंदावन माधुरी                                               माधव दास 'माधुरी'
             वंशीवट माधुरी

           
            वृंदावन शत,रसिक अनन्यमाल                                     भगवत मुदित
        



 
                  


Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :