Tuesday, 28 May 2019

Pooja

Hindi sahitya ka itihas | हिंदी साहित्य का इतिहास



hindi sahitya ka itihas, hindi sahitya ka itihas in hindi
hindi sahitya ka itihas 
                                        
       
         

                                    हिन्दी साहित्य का इतिहास


                  
अतीत के तथ्यों का वर्णन विशेषण, जो कालक्रमानुसार किया गया 
       होइतिहास कहा जाता है।  इतिहास लेखन के प्रति भारतीय दृष्टिकोण 
       आदर्शमूलक एवं अध्यात्मवादी रहा है। महाभारतकार ने इतिहास को ऐसा
       पूर्ववृत्त माना है जो धर्म ,अर्थ, काम, मोक्ष अर्थात पुरूषार्थ चतुष्टय का उपदेश 
       देता है तो पुराणकार महापुरुषों के चरितगान  को इतिहास के रूप में स्वीकार 
       करता है
  
                        
भारत के प्राचीन इतिहासकारों ने इतिहास में कला एवं नीति को 
       समाविष्ट कर उसे शुद्ध ऐतिहासिकता से वंचित कर दिया दूसरी और पाश्चात्य
       इतिहासकारों ने प्रायः यथार्थवादी, वस्तुपरक दृष्टिकोण अपनाने पर बल देते हैं। 
       इतिहास के चार लक्षण यूनानी विद्धान 'हिरोडोटस' (456-545 . पू.) ने बताएं 
       है जो इस प्रकार है:-

         1. 
इतिहास वैज्ञानिक विधा है, अत: इसकी पद्धति
              
आलोचना होती है। 

         2. 
यह मानविकी के अन्तर्गत आता है, अतः मानव जाति   
              
से सम्बन्धित है। 

         3. 
इसके तथ्य, निष्कर्ष प्रमाण पर आधारित होते है। 

         4.
यह अतीत के आलोक में भविष्य पर प्रकाश डालता
              
है।

     पाश्चात्य इतिहास दर्शन विकासवादी दृष्टिकोण को मान्यता देता हैडार्विन का 
     विकासवाद प्राणिशास्त्र पर, मार्क्स का विकासवाद अर्थशास्त्र पर, स्पेंसर का
     विकासवाद भौतिकशास्त्र पर लागू होता है। 

   
     
हिन्दी साहित्य के इतिहास से सम्बन्धित महत्वपूर्ण परिभाषाएं इस प्रकार है:-

       आचार्य रामचंद्र शुक्ल के अनुसार, 

                                                         "साहित्य के इतिहास
             
को जनता की चित्तवृत्ति का इतिहास मानते हैं। जनता
             
की चित्तवृत्ति तत्कालीन परिस्थितियों से परिवर्तित होती
             
है, अतः साहित्य का स्वरूप भी इन परिस्थितियों के
             
अनुरूप बदलता है।"


       इटेलियन विद्वान विको के अनुसार

                                                           " इतिहास का संबंध
             
केवल अतीत से होता है वर्तमान से। इतिहास  का
             
निर्माता स्वयं मनुष्य है और मनुष्य चाहे जिस युग का हो 
             
उसकी मूलभूत प्रवृत्तियां एक सी रहती है।"


        कालिंगवुड के अनुसार

                                            "इतिहास दर्शन का संबंध
            
तो अपने आप में अतीत से होता है ही अतीत के बारे
            
में इतिहासकार के विचारों से बल्कि उसका संबंध इन
            
दोनों के पारस्परिक संबंध से होता है।"


         हीगल के अनुसार,
                                  

                                          "इतिहास केवल घटनाओं का
            अन्वेषण एवं संकलन मात्र नहीं है, अपितु उसके भीतर
           
कार्य कारण श्रृंखला विद्यमान है।"



           . एच. कार के अनुसार

                                               "अतीत की घटनाओं को
            
क्रमबद्धता देकर कारण और प्रभाव के क्रम से रखना
           
ही इतिहास है। कारण-कार्य श्रृंखला में गुंथकर ही तथ्य
            
ऐतिहासिक बनते है। जब किसी तथ्य की अन्य तथ्यों के
            
साथ संगति खोज ली जाती है,उसके सही संदर्भ का पता
            
चल जाता है तो वह ऐतिहासिक तथ्य बन जाता है।
            
इतिहासकार की प्रतिभा बिखरे हुए तथ्यो में निहित संगति
            
के सूत्र खोज लेती है।"

       कारलाइल के अनुसार,
                                              

                                            "किसी राष्ट्रीय के काव्य
            का इतिहास वहां के धर्म, राजनीति और विज्ञान के
            
इतिहास का सार होता है। काव्य के इतिहास में
            
लेखक को राष्ट्र के उच्चतम लक्ष्य, उसकी क्रमागत
            
दिशा और विकास को देखना अत्यंत आवश्यक है।
            
इससे राष्ट्र का निर्माण होता है।"



    हिंदी साहित्य के इतिहास से संबंधित महत्वपूर्ण ग्रंथ 


              प्रमुख ग्रंथ                                                        रचनाकार


       इस्तवार ला लितरेत्युर ऐन्दुई                                    गार्सा तासी
       ऐन्दुस्तानी,फ्रेंच भाषा में,
       प्रथम भाग 1839,दूसरा भाग 1847,
      1871
में दूसरा संस्करण

       शिवसिंह सरोज 1883                                               शिवसिंह सेंगर

       द माडर्न  वर्नाक्युलर लिटरेचर                                     जॉर्ज ग्रियर्सन
       ऑफ हिंदुस्तान, 1888

       मिश्रबंधु विनोद, चार भाग                                            मिश्र बंधु
       प्रथम तीन भाग 1913 तथा
       चौथा भाग 1934 .में प्रकाशित

       हिंदी साहित्य का इतिहास,                                          रामचंद्र शुक्ल
       नागरी प्रचारिणी सभा द्वारा प्रकाशित
      '
हिंदी शब्द सागर' की भूमिका
       के रूप में 1929 में प्रकाशित,
       संशोधित रूप में 1940 में प्रकाशित

       हिंदी साहित्य की भूमिका,                                          हजारी प्रसाद द्विवेदी
       हिंदी साहित्य का आदिकाल और
       हिंदी साहित्य का उद्भव और विकास

      हिंदी साहित्य का आलोचनात्मक                                   रामकुमार वर्मा
     
इतिहास 1938,
     
संपूर्ण ग्रंथ 7 प्रकरणो में विभक्त

     
हिंदी साहित्य                                                            धीरेंद्र वर्मा

     
हिंदी साहित्य का वृहत इतिहास                                    नागरी प्रचारिणी
                                                                                    
सभा द्वारा
           

       हिंदी काव्य धारा1944                                                राहुल सांकृत्यायन

      
हिंदी साहित्य का इतिहास                                            डॉ. नगेंद्र

      
हिंदी साहित्य का वैज्ञानिक इतिहास                                गणपति चंद्र गुप्त
     
     
हिंदी साहित्य का अतीत                                               विश्वनाथ प्रसाद मिश्र
       (
दो भाग)

     
हिंदी साहित्य और संवेदना का विकास                             रामस्वरूप चतुर्वेदी
           
     
हिंदी साहित्य का दूसरा इतिहास                                         बच्चन सिंह
           
     
आधुनिक साहित्य की प्रवृत्तियां                                       नामवर सिंह

     
साहित्य का इतिहास दर्शन                                            नलिन विलोचन शर्मा

     रीति काव्य की भूमिका                                                 डॉ. नगेंद्र

     
हिंदी काव्यशास्त्र का इतिहास                                        भगीरथ मिश्र

     
हिंदी साहित्य:युग एवं प्रवृतियाँ                                        शिवकुमार शर्मा

     
हिंदी साहित्य: बीसवीं शताब्दी,                                       नंददुलारे वाजपेयी
         
आधुनिक साहित्य

     
हिंदी साहित्य: एक आधुनिक परिदृश्य                              अज्ञेय

     
हिन्दी भाषा का विकास 1924,                                       श्याम सुंदर दास
     
हिंदी भाषा और साहित्य 1930

     
हिंदी साहित्य का इतिहास                                              रमाशंकर शुक्ल

     
हिंदी साहित्य का विवेचनात्मक इतिहास                            सूर्यकांत शास्त्री
           
     
हिंदी भाषा:उद्भव और विकास                                        उदय नारायण तिवारी

     
स्केच ऑफ हिंदी लिटरेचर                                             पादरी एड़ियाँ ग्रीब्ज
      1918

     
हिस्ट्री ऑफ हिंदी लिटरेचर                                         पादरी एफ. . के. .

     
हिंदी भाषा और साहित्य का इतिहास                               चतुरसेन शास्त्री
       
     चैतन्य संप्रदाय और उसका साहित्य                                 प्रभुदयाल मित्तल
          
      राजस्थानी पिंगल साहित्य                                              मोतीलाल मेनारिया

      हिंदी काव्य संग्रह                                                        महेश दत्त शुक्ल

      कविता कौमुदी(दो भाग)                                               रामनरेश त्रिपाठी

      हिंदी भाषा और साहित्य                                                श्याम सुंदर दास

     आधुनिक हिंदी साहित्य का इतिहास                                 कृपाशंकर शुक्ल
           

      हिंदी साहित्य का इतिहास                                             आचार्य चतुरसेन
       (1949) 

      हिंदी साहित्य                                                                   भोलानाथ तिवारी

      हिंदी साहित्य का उद्भव                                                 वासुदेव सिंह

    



                      नागरी प्रचारिणी सभा द्वारा प्रकाशित ग्रंथ


      हिंदी साहित्य की पीठिका                                               डॉ. राजबली

      हिंदी का लोक साहित्य                                                   राहुल सांकृत्यायन

      रीतिकाल: रीतिबद्ध काल                                                डॉनगेंद्र

      हिंदी भाषा का विकास                                                    डॉ. धीरेंद्र

      भक्तिकाल                                                                   परशुराम चतुर्वेदी

      उत्कर्ष काल                                                                 डॉ. अंचल, डॉ. काशिकेश

      समालोचना- निबंध- पत्रिका                                             लक्ष्मीनारायण सुधांशु

      राजस्थानी साहित्य की रूपरेखा                                        मोतीलाल मेनारिया

      हिंदी वीर काव्य                                                             टीकम सिंह तोमर

     आधुनिक हिंदी साहित्य                                                    लक्ष्मी सागर वाष्णेर्य

    आधुनिक हिंदी साहित्य का विकास                                     श्री कृष्ण लाल

     खड़ी बोली हिंदी साहित्य का इतिहास                                  ब्रजरत्न दास






Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :