Advertisement

header ads

Bhakti kaal ke granth | भक्ति काल के ग्रंथ

bhakti kaal kavi aur rachna in hindi, bhakti kaal ke granth
bhakti kaal ke granth
                       
                   

                                                      भक्तिकाल 

                           
                     मध्यकाल को दो खंडों में बांटा गया है - पूर्व मध्यकाल और 
          उत्तर मध्यकाल। पूर्व मध्यकाल को भक्तिकाल और उत्तर मध्यकाल को 
          रीतिकाल कहा जाता है।  आचार्य  रामचंद्र शुक्ल ने संवत् 1375 वि.से 
         1700 वि. तक के कालखंड को भक्तिकाल कहा है। इस काल में भक्ति 
          भावना की प्रधानता होने के कारण इस काल का नाम भक्तिकाल रखा 
          गया था। डॉ. नगेन्द्र ने भक्तिकाल की समय सीमा 1350 . से 1650 . 
          तक स्वीकार की है।

                   आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने भक्ति आंदोलन के उदय के निम्न कारण 
          बताए है :-  देश में मुसलमानों का राज्य प्रतिष्ठित हो जाने से हिंदू जनता 
          हताश, निराश एवं पराजित हो गई थी। पराजितमनोवृत्ति में ईश्वर की भक्ति  
          की ओर उन्मुख होना स्वाभाविक था। हिन्दू जनता ने भक्तिभावना के माध्यम
          से अपनी आध्यात्मिक श्रेष्ठता दिखाकर पराजित मनोवृत्ति का शमन किया।
         तत्कालीन धार्मिक परिस्थितियों ने भी भक्ति के प्रसार में योगदान किया। 
          नाथ सिद्ध योगी अपनी रहस्यदर्शी शुष्क वाणी में जनता को उपदेश दे रहे थे। 
          भक्तिप्रेम और हृदय के प्रकृत भावों से उनका कोई सामंजस्य था। भक्ति 
          भावना से ओतप्रोत साहित्य ने इस अभाव  की पूर्ति की। भक्ति का मूल स्त्रोत
          दक्षिण भारत में था। 7वीं शती में आलवार भक्तो ने जो भक्ति भावना प्रांरभ 
          की उसे उत्तर भारत में फैलने के लिए अनुकूल परिस्थितियां प्राप्त हुई

                  आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी ने शुक्ल जी के मत से असहमति व्यक्त
         करते हुए कहा है कि भक्ति भावना पराजित मनोवृत्ति की उपज नहीं है और 
         न ही यह इस्लाम के बलात्  प्रचार के परिणाम स्वरूप उत्पन्न हुई। उनका 
         तर्क यह भी है कि हिन्दू सदा से आशावादी जाति रही है तथा किसी भी भक्त 
         कवि के काव्य में निराशा का पुट नहीं है।
 
         डॉ. सत्येंद्र के अनुसार - " भक्ति द्राविडी ऊपजी लाए रामानंद "

        जार्ज ग्रियर्सन भक्ति आंदोलन का उदय ईसाई धर्म के प्रभाव से मानते हैं।
        उनका यह तर्क हास्यास्पद है कि रामानुजाचार्य को भावावेश एवं प्रेमोल्लास 
        के धर्म का सन्देश ईसाइयों से मिला। 

        आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने भक्तिकाल की दो धाराओं मानी है- निर्गुण धारा
        और सगुण धारा।  निर्गुण धारा को पुनः दो काव्य धाराओं - सन्त काव्य धारा
        और सूफी काव्य धारा में विभक्त किया गया है, जबकि सगुण धारा को 
         रामकाव्य धारा एवं कृष्ण काव्य धारा में बांटा गया है।

                         
                         भक्तिकाल के प्रमुख संप्रदाय और संस्थापक

             संप्रदाय/दर्शन                                              संस्थापक


             
गौडीय संप्रदाय या                                        चैतन्य महाप्रभु
             
चैतन्य संप्रदाय

            
हरिदासी संप्रदाय                                         स्वामी हरिदास

            
राधावल्लभ संप्रदाय                                      स्वामी हित हरिवंश

            
बाबा लाली संप्रदाय                                       बाबा लाल दास

             
पुष्टिमार्ग                                                      बल्लभाचार्य

             
रामदासी संप्रदाय                                          रामदास

            
रसिक शाखा                                                अग्रदास

            
उद्धति संप्रदाय                                             सहजानंद

             
स्वसुखी संप्रदाय                                            रामचरण दास

             
टट्टी संप्रदाय                                                 हरिदास

             
तारकरी संप्रदाय                                            पुण्डलिक
                     
               विशिष्टाद्वैतवाद                                             रामानुजाचार्य
              अद्वैतवादस्मार्त संप्रदाय                                 शंकराचार्य
                  
               द्वैतवाद                                                        मध्वाचार्य
               द्वैताद्वैतवाद सनक संप्रदाय                             निंबार्काचार्य
                   
               मीमांसा दर्शन                                                जैमिनी
               शुद्धाद्वैतवाद                                                  बल्लभाचार्य
 
               योग दर्शन                                                     पतंजलि
               सांख्य दर्शन                                                  कपिल मुनि
               वैशेषिक दर्शन                                               कणाद
               न्याय दर्शन                                                    गौतम
               चार्वाक दर्शन                                                 म्वार्हस्पत्य

              
दुख:वाद                                                       बुद्ध

              
क्षणिक वाद                                                   गौतम बुद्ध
                  
                       
               
   
                             भक्तिकालीन रचनाएं और रचनाकार

              
रचना                                                         रचनाकार

            
गीत गोविंद की टीका,                                         मीराबाई
            
नरसी जी का मायरा,मलार राग,
            
राग सोरठ का पदराग गोविंद,
            
सत्यभामानु रूसण, मीरा की गरबी
           
रुक्मिणी मंगल, नरसी मेहता की हुण्डी,
            
स्फुट पद, रूसनु

           
सुजान रसखान, प्रेम वाटिका,                                रसखान
             
दानलीला,अष्टयाम,

             
जुगल चरित्र,भ्रमरगीत                                         कृष्ण दास
              
प्रेम तत्व निरूपण

             
सर्वज्ञ सूक्त                                                        विष्णु स्वामी

             
गोसाई चरित                                                     बेनी माधव दास

             
भरत मिलाप, अंगद पैज                                       ईश्वरदास

              
गीत गोविंद                                                       जयदेव

              
शैवसर्वस्वसार                                                    विद्यापति

             
उज्जवल नीलमणि                                               रूप गोस्वामी
              
हरिभक्ति रसामृत सिंधू
              चौरासी वैष्णव की वार्ता,                                       गोकुलदास
              
दो सौ बावन वैष्णव की वार्ता

              
बरवै नायिका भेद,                                                रहीम
             
श्रृंगार सोरठा

              
दंगवै पुराण                                                        भीम कवि

             
अनुराग बांसुरी                                                     नूर मोहम्मद

                             
                               भक्ति काल की प्रमुख चरितकाव्य

                 
ग्रंथ                                                            रचनाकार

           
प्रद्युम्न चरित                                                   सधारू अग्रवाल

            
पंच पांडव चरित रास                                         शालिभद्र सूरि

            
हरिश्चंद्र पुराण                                                   जाखू मणियार

            
कुमारपाल रासो                                                देवप्रभ

            
कान्हड़ दे प्रबंध                                                पद्मनाभ

            
गौतम दास                                                      अज्ञात


         
                           
                              भक्ति काल में रचित रीति काव्य

             
रचना                                                          रचनाकार

           
हिततरंगिनी(1541)                                           कृपाराम

           
साहित्य लहरी                                                   सूरदास

           
रसमंजरी(1550)                                               नंददास

           
रसिकप्रिया(1591),                                           केशवदास
           
कविप्रियाछंद माला

           
सुंदर श्रृंगार(1631)                                           सुंदर कविराय

           
रसकोश (1619),                                             न्यामत खां जान
           
कवि बल्लभ(1647),
           
सिंगार तिलक (1652)
           
रसमंजरी (1652)

           
शिखनख(1580)                                               बलभद्र

           
तिलशतक (1623)                                            मुबारक
          
अलक शतक(1623)




                              भक्ति काल के प्रमुख नीति काव्य 
   
                 रचना                                                       रचनाकार 

            डूंगर बावनी(1486.)                                       पद्मनाभ  

           
कृपण चरित्र(1523.),                                      ठाकुर सी
            
पंचेन्द्री वेलि(1526.)

            
छीहल बावनी(1527.),                                     छीहल
            
पंचसहेली की बातपंथी गीत

            
रत्नावली दोहा संग्रह                                            रत्नावली

           
राजनीति के कवित्त(1550.)                               देवी दास

            
जमाल दोहावली(1570.)                                   जमाल

           
उदैराज को दूहा(1603.)                                   उदैराज
            
गुणबावनी(1603.)

           
समयसार,                                                        बनारसीदास
           
बनारसी विलासअर्द्धकथानक ,
           
नवरस पदमावलि

           
शालीभद्र चौपाई ,                                               राजसमुद्र
           
कर्म बत्तीसी

              भोज चौपाई(1637ई.),                                              कुशलवीर
              सीलवती रास, कर्म चौपाई
              वर्णन संपुट, उद्धृत कर्म संवाद

              गजसुकमाल चौपाई,                                                 राजसमुद्र
              प्रशनोत्तर रत्नमाला,बालावबोध,
              शील बत्तीसी

              भाषा सूक्ति मुक्तावली                                               बनारसीदास

              कलिचरित                                                                बांन

              ग्रंथ गुण उत्पत्ति नामा,                                               वाजिद
              ग्रंथ प्रेम नामा,  ग्रंथ गरजनामा,
              साखी वाजिद

              गंगालहरी                                                                 कवि पृथ्वीराज

              गंग पदावली,                                                             गंग कवि
              गंग पचीसी, गंग रत्नावली

              दोहावली, नगर शोभा(नायिका भेद),                            रहीम
              बरवै नायिका भेद(नायिका भेद),
              मदनाष्टक(कृष्ण लीला),
              खेटु कौतुकम जातकम(ज्योतिष ग्रंथ)



                                  
                                 भक्ति काल के प्रमुख वीर काव्य


                  रचना                                                         रचनाकार

              
रणमल्ल छंद                                                     श्रीधर

              
विजयपाल रासो                                                 नल्लसिंह

              
विरूद छिहत्तरी                                                 दुरसाजी आढ़ा

               
राणा रासो                                                        दयाराम

               
रतन रासो                                                        कुंभकर्ण

               
क्याम खां रासो                                                 न्यामत खां जान





Post a comment

0 Comments