Wednesday, 29 May 2019

Pooja

Aadikal | आदिकाल

adikal notes, adikal ke kavi
adikal notes


                                  

                                            आदिकाल


                      हिंदी साहित्य का आदिकाल आचार्य शुक्ल के
अनुसार 
     "संवत् 1050 वि. से लेकर संवत् 1375 वि.अर्थात् महाराजा भोज के 
     समय से लेकर हम्मीर देव के समय के कुछ पीछे तक माना जा सकता 
     है।" डॉ रामकुमार वर्मा ने इसका समय 8वीं शती से 14वीं शती तक
     स्वीकार किया है

                राजनीतिक दृष्टि से यह काल युद्ध और अशांति का
समय था
     अनेक प्रकार के धार्मिक मत- मतांतरों का अस्तित्व था। राजनीतिक 
     और धार्मिक परिस्थितियों के कारण समाज में विश्रृंखलता गई थी। 
     इस काल में साहित्य रचना के तीन धाराएं बह रही थी। एक ओर तो 
     परम्परागत संस्कृत साहित्य की रचना हो रही थी, तो दूसरी ओर प्राकृत
     अपभ्रंश भाषा में साहित्य का सृजन जैन कवियों के द्वारा किया जा रहा 
     था। तीसरी धारा हिंदी में लिखे जाने वाले साहित्य की थी। 

     आदिकाल साहित्य की प्रमुख प्रवृत्तियां

    ·      ऐतिहासिकता का अभाव
    ·      युद्ध-वर्णन में सजीवता
    ·      वीर एवं श्रृंगार रस की प्रधानता
    ·      आश्रयदाताओं की प्रशंसा
    ·      कल्पना की प्रचुरता
    ·      संकुचित राष्ट्रीयता,
    ·      विविध छंदों का प्रयोग
    ·      डिंगल- पिंगल भाषा का प्रयोग
    ·      अलंकारों का स्वाभाविक समावेश

  

                     आदिकाल को नाम देने वाले विद्धान

               

     नामकरण                                                          विद्धान 



     चारणकाल                                                          ग्रियर्सन
         
   
वीरगाथा काल                                                     . रामचंद्र शुक्ल

   
आदिकाल                                                          . हजारीप्रसाद द्विवेदी

   
बीजवपन काल                                                    . महावीर प्रसाद द्विवेदी

   
प्रारंभिक काल                                                     मिश्रबंधु

    
वीर काल                                                            विश्वनाथ प्रसाद मिश्र

    
सिद्ध सामन्त काल                                                राहुल सांकृत्यायन

   
आदिकाल                                                           रमाशंकर शुक्ल रसाल

    
सन्धिकाल                                                           रामकुमार वर्मा

   
अपभ्रंश काल                                                      धीरेन्द्र वर्मा



                आदिकालीन रचना और उनके रचनाकार   
             
     रचनाकार                                                रचनाओं के नाम



      
सरहपा                                                       दोहा कोश

      ज्योतिश्वर ठाकुर                                           वर्णरत्नाकर 

     
देवसेन                                                       दर्शनसार, श्रावकाचार
                                                                     
लघुतम चक्रदब्ब सहाय पयास
                           
      
शालिभद्र सूरि                                              भारतेशवर बाहुबली रास,
                                                                       
पंच पाण्डव चरितरास
         
      दामोदर शर्मा                                               उक्ति व्यक्ति प्रकरण

      
जोइन्दु                                                        योगसार, परात्म प्रकाश

     
हेमचंद                                                        प्राकृत व्याकरणशब्दानुशासन                                                     
                                                                       
कुमारपाल चरित,
                                              
     
स्वयंभू                                                        हरिवंश पुराण, स्वयंभू छंदों ,                                                                                                                                                                             पउम चरिउपंचमी चरिउ,
                                                                       रिटठणेमि चरिउ
                    
       लक्ष्मीधर                                                                               प्राकृत  पैंगलम

      भट्ट केदार                                                    जयचंद्र प्रकाश                        


      शबरपा                                                       चर्यापद

     
जगनिक                                                      परमाल रासो (आल्हा खण्ड)

     
दलपति विजय                                              खुमान रासो

     
अब्दुल रहमान                                              संदेश रासक

       
जिनदत्त सूरि                                                उपदेश रसायन रास

       
मधुकर कवि                                                जयमयंक जसचंद्रिका

       
पुष्पदंत                                                       महापुराण ,आदि पुराण,
                                                                       
उत्तर पुराण, नाग कुमार चरिउ,
                                                                       
जसहर चरिउ
    
        विजयसेन सूरि                                              रैवन्त  गिरिदास
   
        हाल कवि                                                    गाथा सप्तशती
              
         कनकामर मुनि                                             करकण्ड चरिउ

         नल्ल सिंह                                                    विजयपाल रासो

         
विद्यापति                                                    पदावली ,कीर्ति लता,
                                                                         
कीर्ति पताका


    धनपाल                                                       भविष्यत्त कथा

     
मेरूत्तुंग                                                      प्रबंध चिंतामणि

     
व्यास कवि                                                  नल दमयंती कथा

     
राज शेखर                                                   कर्पूर मंजरी

     
जिनधर्म सूरि                                                स्थूलिभद्ररास

     
चंदरबरदाई                                                 पृथ्वीराज रासो

     
नरपति नाल्ह                                                बीसलदेव रासो

      
कल्लोल                                                     ढोला मारू रा दूहा

     
पद्मनाभ                                                      कान्हड़ दोहा

     
ढोम्भपा                                                      योगचर्या


      अमीर खुसरो                                                तुगलकनामा, दो सखुने
                                                                       
खालिक बारी

                 

Pooja

About Pooja -

Author Description here.. Nulla sagittis convallis. Curabitur consequat. Quisque metus enim, venenatis fermentum, mollis in, porta et, nibh. Duis vulputate elit in elit. Mauris dictum libero id justo.

Subscribe to this Blog via Email :